BREAKING NEWS

आप नेता सुनीता, उमेद और अनवर भाजपा में शामिल◾बैंक धोखाधड़ी : हीरा कारोबारी के 13 ठिकानों पर सीबीआई छापे◾केजरीवाल के नामांकन पत्र दाखिले में चुनाव आयोग ने जानबूझकर विलंब नहीं किया : दिल्ली निर्वाचन कार्यालय◾केजरीवाल के पास कुल 3.4 करोड़ रुपये की संपत्ति, 2015 से 1.3 करोड़ रुपये बढ़त◾दावोस में डोनाल्ड ट्रंप से मिले इमरान , अमेरिकी राष्ट्रपति बोले- कश्मीर पर करीबी नजर◾टुकड़े-टुकड़े गैंग का अस्तित्व है और वह सरकार चला रहा है : थरूर◾गणतंत्र दिवस : 23 जनवरी को परेड रिहर्सल, दिल्ली पुलिस ने जारी की सूचना, ये मार्ग रहेंगे बंद, यहां से जाना होगा !◾ब्राजील के राष्ट्रपति बोलसोनारो शुक्रवार को चार दिवसीय यात्रा पर आएंगे भारत◾दिल्ली को सर्दी से मिली फौरी तौर पर राहत, उत्तर प्रदेश और हरियाणा में अभी भी शीत लहर ◾भारत कठिन दौर से गुजर रहा है, नीचे बनी रहेगी आर्थिक वृद्धि दर : अर्थशास्त्री◾अदालत ने आजाद की जमानत शर्तों में बदलाव कर चिकित्सा, चुनावी कारणों से दिल्ली आने की इजाजत दी◾अमित शाह की रैली में शरणार्थियों का छलका दर्द◾जम्मू कश्मीर के लोगों से उनकी समस्याओं के बारे में सुनना चाहता है केंद्र : नकवी ◾छह घंटे के इंतजार के बाद केजरीवाल ने नामांकन पत्र किया दाखिल◾TOP 20 NEWS 21 January : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾बेटियों के खिलाफ FIRदर्ज होने पर मुनव्वर राना बोले- मुझ पर दर्ज करो मुकदमा, मैंने ऐसी बागी बेटियां पैदा की◾कोर्ट ने चंद्रशेखर आजाद की जमानत शर्तों में बदलाव कर चिकित्सा, चुनावी कारणों से दिल्ली आने की इजाजत दी◾कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने CAA पर PM मोदी और अमित शाह को बहस की चुनौती दी◾लखनऊ में बोले अमित शाह- जिसे विरोध करना हो करे, मगर सीएए वापस नहीं होने वाला◾पेरियार पर की गई टिप्पणी के लिए माफी नहीं मांगूंगा : रजनीकांत ◾

दिल्ली की सूरत बदलने वाली शिल्पकार थीं शीला

देश की राजधानी कई नेताओं के उदय और पराभव की साक्षी बनी, लेकिन इनमें शायद शीला दीक्षित इकलौती ऐसी नेता रहीं, जिन्हें दिल्ली ने वर्षों तक विकास की नयी-नयी इबारतें गढ़ते देखा। 

शीला ने कांग्रेस के विभिन्न कद्दावर नेताओं के बीच कामयाबी की लंबी सीढ़ी चढ़कर न सिर्फ कई को चौंकाया बल्कि अपने सुलझे हुए स्वभाव और नेतृत्व कौशल से कई मौकों पर टकराव की स्थिति पैदा होने से पहले ही उसे खत्म कर दिया। 

दिल्ली के राजनीतिक गलियारों में शीला अपनी विनम्रता, मिलनसार व्यवहार, बेहतरीन मेहमान नवाजी और सबको सुनने वाली नेता के तौर पर पहचानी जाती रहीं। 

शीला के साथ बतौर मंत्री वर्षों तक काम करने वाले हारून यूसुफ ने ''पीटीआई-भाषा'' से कहा, ''शीला जी हमेशा दिल्ली के विकास के लिए याद की जाएंगी। मैंने वर्षों तक उनके साथ काम किया और मैं यह कह सकता हूं कि राजनीति में ऐसे विरले ही होते हैं जो हर हालात में शालीन और मर्यादित रहें और सिर्फ जनहित के बारे में सोचे। वह ऐसी ही नेता थीं।'' 

शीला दीक्षित का जन्म 31 मार्च 1938 को पंजाब के कपूरथला में हुआ था। उन्होंने दिल्ली के ‘कॉन्वेंट ऑफ जीसस एंड मैरी’ स्कूल से पढ़ाई की और फिर दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरांडा हाउस कॉलेज से उच्च शिक्षा हासिल की। 

वह 1984 से 1989 तक उत्तर प्रदेश के कन्नौज से सांसद और राजीव गांधी की सरकार में संसदीय कार्य राज्य मंत्री और बाद में प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री रहीं। बाद में वह दिल्ली की राजनीति में सक्रिय हुईं। 

शीला ने 1990 के दशक में जब दिल्ली की राजनीति में कदम रखा तो कांग्रेस में एचकेएल भगत, सज्जन कुमार और जगदीश टाइटलर सरीखे नेताओं की तूती बोलती थी। इन सबके बीच शीला ने न सिर्फ अपनी जगह बनाई, बल्कि कांग्रेस की तरफ से दिल्ली की पहली मुख्यमंत्री बनीं। 

गांधी परिवार की खास मानी जाने वाली शीला न केवल राजीव गांधी बल्कि कांग्रेस अध्यक्ष बनने पर सोनिया गांधी एवं राहुल गांधी की भी बेहद करीब मानी जाती थीं। सोनिया एवं राहुल गांधी ने आवश्यकता पड़ने पर उन्हें सामने लाकर कई बार उनके राजनीतिक कौशल का लाभ लिया। शीला ने 1998 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को जीत दिलाई और यहां से उनकी जीत का सिलिसिला ऐसे चला कि 2003 और 2008 में भी उनकी अगुवाई में कांग्रेस की फिर सरकार बनी। 

उनके मुख्यमंत्री रहते दिल्ली में फ्लाइओवर और सड़कों का जाल बिछा तो मेट्रो ट्रेन का भी खूब विस्तार हुआ। सीएनजी परिवहन सेवा लागू करके शीला ने देश -विदेश में वाहवाही हासिल की। 

एक समय दिल्ली की राजनीति में अजेय मानी जाने वाली शीला की छवि को 2010 के राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारियों के कार्यों में भ्रष्टाचार के आरोपों से धक्का लगा। 

अन्ना आंदोलन के जरिये राजनीतिक पार्टी खड़े करने वाले अरविंद केजरीवाल ने ऐसे कुछ आरोपों का सहारा लेते हुए शीला को सीधी चुनौती दी। इस तरह 2013 में न सिर्फ शीला की सत्ता चली गयी, बल्कि स्वयं वह नयी दिल्ली विधानसभा क्षेत्र में केजरीवाल से चुनाव हार गईं। 

इस चुनावी हार के बाद भी कांग्रेस और देश की राजनीति में उनकी हैसियत एक कद्दावर नेता की बनी रही। 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने उन्हें अपना चेहरा घोषित किया, हालांकि बाद में पार्टी ने सपा के साथ गठबंधन कर लिया। 

राहुल गांधी ने 2019 के लोकसभा चुनाव के मद्देनजर शीला को एक बार दिल्ली कांग्रेस की कमान दी, हालांकि पार्टी को कोई सफलता नहीं मिली और उत्तर पूर्वी लोकसभा सीट से वह खुद चुनाव हार गईं। वैसे, जानकारों का यह कहना है कि इस चुनाव में कांग्रेस वोट प्रतिशत के लिहाज से अपनी खोई जमीन पाने में कुछ हद तक सफल रही। 

दिल्ली कांग्रेस के नेताओं का कहना है कि शीला की तरह यहां एक सर्वमान्य नेता होने की कमी पार्टी को लंबे समय तक खल सकती है। 

शीला दीक्षित की आत्मकथा पिछले ही वर्ष ‘‘सिटीजन दिल्ली : माई टाइम्स, माई लाइफ’’ शीर्षक से आयी थी। शीला दीक्षित के ससुर उमाशंकर दीक्षित भी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पश्चिम बंगाल के राज्यपाल रह चुके हैं। उन्हें इंदिरा गांधी का काफी करीबी माना जाता था। उनके पति विनोद दीक्षित आईएएस अधिकारी थे। उनके पुत्र संदीप दीक्षित पूर्वी दिल्ली से सांसद रह चुके हैं। 

शीला दीक्षित कुछ समय केरल की राज्यपाल भी रही थीं। व्यक्तिगत रूप से शीला दीक्षित को पश्चिमी संगीत और विभिन्न तरह के जूते-चप्पल पहनने का शौक था।