BREAKING NEWS

SC द्वारा गठित समिति कृषि कानून पर उत्पन्न संकट सुलझा नहीं पाएगी : बादल◾सोनिया ने केरल में चांडी की अगुवाई में बनाई चुनाव प्रबंधन समिति◾राहुल ने जारी किया 'खेती का खून' बुकलेट, जावड़ेकर बोले-कांग्रेस को खून शब्द से बहुत प्यार◾राहुल का वार- हिंदुस्तान के पास नहीं है कोई रणनीति, स्पष्ट संदेश नहीं दिया तो चीन उठाएगा फायदा ◾कृषि कानून पर SC द्वारा गठित समिति के सदस्यों की पहली बैठक, घनवट बोले- निजी राय को नहीं होने देंगे हावी ◾पश्चिम बंगाल : ममता बनर्जी का BJP पर जोरदार हमला, बताया नक्सलियों से ज्यादा खतरनाक◾कोविशील्ड के इस्तेमाल से कोई गंभीर एलर्जी की दिक्कत वाले लोग वैक्सीन नहीं लें : सीरम इंस्टीट्यूट ◾राहुल गांधी ने जारी की 'खेती का खून' बुकलेट, कहा- कृषि क्षेत्र पर पूंजीपतियों का हो जाएगा एकाधिकार ◾ब्रिस्बेन में चौथे टेस्ट में जीत के साथ भारत ने रचा इतिहास, कंगारुओं को सिखाया सबक ◾चीन मुद्दे को लेकर नड्डा के निशाने पर राहुल, पूछा-झूठ बोलना कब बंद करेगी कांग्रेस?◾BJP सांसद का पलटवार- 80 के दशक से जमीन पर कब्जा करके बैठा है चीन, कांग्रेस ने क्यों नहीं की कार्रवाई ◾2019 में TMC को किया आधा, 2021 में कर देंगे सफाया : दिलीप घोष◾अरुणाचल प्रदेश में चीन के गांव को बसाए जाने की रिपोर्ट पर सियासत तेज, राहुल ने PM पर साधा निशाना ◾देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के नए मामले 10 हजार से कम, 137 लोगों ने गंवाई जान ◾कांग्रेस मुख्यालय में आज राहुल गांधी की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कृषि कानूनों पर जारी करेंगे बुकलेट◾दुनियाभर में कोरोना का प्रकोप लगातार जारी, मरीजों का आंकड़ा 9.55 करोड़ तक पहुंचा◾TOP 5 NEWS 19 JANUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾विदेशी आतंकियों की मौजूदगी से आतंकवाद विरोधी प्रयास हो रहे कमजोर : टी. एस. तिरुमूर्ति◾गुजरात : सूरत में सड़क किनारे सो रहे प्रवासी मजदूरों को ट्रक ने कुचला, 13 लोगों की मौत ◾शुभेंदु अधिकारी ने ममता के गढ़ में चुनाव लड़ने का किया ऐलान बोले- 50 हजार वोटों से हारेंगी, नहीं तो छोड़ दूंगा राजनीति ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

शिवसेना का केंद्र पर वार, कहा-महंगाई पर लगाम नहीं लगाई तो जनता आपके खिलाफ हो जाएगी

शिवसेना ने जरूरी सामान के बढ़ते दाम को लेकर गुरुवार को केंद्र की आलोचना करते हुए कहा कि 2014 के लोकसभा चुनाव में जिन्होंने ‘‘महंगाई डायन खाये जात है’’ का प्रचार करके सत्ता हासिल की, उनके राज में यही ‘‘महंगाई डायन’’ फिर से आम जनता की गर्दन पर बैठ गई है। उसने आगाह किया कि अगर महंगाई पर लगाम नहीं लगाई गई तो लोग राजग सरकार के खिलाफ हो जाएंगे। 

शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में लिखे एक संपादकीय में कहा गया है कि बीजेपी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार संशोधित नागरिकता कानून जैसा विधेयक लाने में व्यस्त थी जबकि सब्जियों, अन्य खाद्य सामग्रियों के बढ़ते दाम और नौकरियों की कमी जैसे मुद्दों पर वह चुप रही। इसमें कहा गया है, ‘‘देश में आम आदमी महंगाई की मार झेल रहा है खासतौर से खुदरा क्षेत्र में। अगर केंद्र महंगाई बढ़ने से रोकने में नाकाम रहता है तो उसे आगाह रहना चाहिए कि लोग सरकार के खिलाफ हो जाएंगे।’’ 

36 मंत्रियों को 6 दिनों के भीतर कश्मीर भेजना घबराहट का संकेत : मनीष तिवारी

शिवसेना ने देश की वृद्धि दर के ‘‘लगातार गिरने’’ के लिए केंद्र की नीतियों को जिम्मेदार ठहराया। उसने पूछा, ‘‘पश्चिम एशिया में संघर्ष, अमेरिका और चीन के बीच व्यापार युद्ध शुरू होने का मंडरा रहा डर तत्कालीन मुद्दे हैं, लेकिन मौजूदा सरकार की नीतियों का क्या, जो बीजेपी के लगातार दो बार लोकसभा चुनाव जीतने के बावजूद अर्थव्यवस्था के चरमराने और खुदरा महंगाई बढ़ाने के लिए जिम्मेदार है?’’ 

पार्टी ने कहा, ‘‘2014 में जिन्होंने ‘‘महंगाई डायन खाये जात है’’ का प्रचार करके सत्ता हासिल की, उनके राज में यही ‘‘महंगाई डायन’’ फिर से आम जनता की गर्दन पर बैठ गई है।’’ उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी ने कहा कि ‘अच्छे दिन’ जब आएंगे तब आएंगे लेकिन इस महंगाई को देखते हुए आम जनता के जीवन में कम से कम पहले जो ‘ठीक दिन’ थे, वही ले आओ। उसने सीएए और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) जैसे फैसलों को लेकर केंद्र की आलोचना की। 

शिवसेना ने कहा कि सीएए और एनआरसी से देश में नौकरियां पैदा नहीं होने जा रही। नयी नौकरियां पैदा करने की योजनाएं नहीं हैं जबकि जो कुछ लोग अभी काम कर रहे हैं उन्हें भरोसा नहीं है कि उनकी नौकरी कब तक रहेगी। उसने तंज कसते हुए कहा, ‘‘जो लोग ऐसे मुद्दों के खिलाफ आवाज उठाते हैं उन्हें ‘भक्त’ लोग ‘देश विरोधी’ ठहराने के लिए तैयार रहते हैं।’’ 

उसने कहा, ‘‘‘सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी’ नामक संस्थान ने कहा है कि 10 राज्यों में बेरोजगारी दर सबसे अधिक है। इनमें से छह राज्यों में बीजेपी या उसके सहयोगी दलों की सरकार है, इस पर केंद्र की प्रतिक्रिया क्या है। केंद्र ने इन मुद्दों पर मौन धारण किया हुआ है।’’