BREAKING NEWS

देश में गिरता कोरोना का ग्राफ, एक दिन में ढाई लाख नए केस, रिकवरी रेट में भी इजाफा◾World Corona Update : वैश्विक स्तर पर 36.56 करोड़ से अधिक पहुंचा संक्रमितों का आंकड़ा◾दिल्ली के किसानों की फसल बर्बाद, मुआवजा देने के नाम पर CM का झूठ का खेल पंजाब तक चालू : दिल्ली कांग्रेस◾मुंबई : ACB ने तीसरी बार पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को किया तलब, पिछले दो समन पर नहीं हुए थे पेश ◾ केंद्र सरकार ने देश के 407 में संक्रमण दर 10 फीसदी से ज्यादा होने पर कोविड प्रतिबंध 28 फरवरी तक बढ़या◾पंजाब में सिद्धू या चन्नी में से कौन होगा मुख्यमंत्री का फेस ?राहुल गांधी ने दिया यह जवाब...◾चौधरी चरण सिंह मेरे आदर्श, जाट समुदाय भाजपा से नाराज नहीं रह सकता : राजनाथ◾ दिल्ली में कोविड-19 के 4,291 नये मामले, 34 और लोगों की महामारी से मौत◾ विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर COVID19 पॉजिटिव हुए, कांटेक्ट में आए लोगों को दी एहतियात बरतने की सलाह◾यूपी चुनाव : बीजेपी अध्यक्ष नड्डा कल शाहजहांपुर में करेंगे जन संपर्क अभियान, कार्यक्रम को करेंगे संबोधित ◾दिल्ली के बाद चंडीगढ़ में कोविड प्रतिबंधों में ढील, 10वीं से 12वीं तक के लिए स्कूल खोलने की अनुमति ◾भारत-मध्य एशिया शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी ने की मेजबानी, अफगानिस्तान को लेकर कही यह बात ◾SP ने जारी की 56 प्रत्याशियों की लिस्ट, गैर यादव OBC नेताओं पर खास ध्यान, जानें किसे कहां से मिला टिकट ◾यूपी चुनाव : आजम खान ने सीतापुर की जेल से ही भरा नामांकन, SP ने रामपुर से ही दिया टिकट◾आखिरकार टाटा के पास पहुंचा 'महाराजा' का स्वामित्व, अब एयरलाइन में बड़े बदलाव करेगा समूह◾उत्तराखंड चुनाव: कांग्रेस-BJP में जारी है रूठों को मनाने की कवायद, जानें पार्टियों में क्या हुए बदलाव? ◾1971 में मुख्यमंत्री टी एन सिंह को गोरखपुर के लोगों ने हराया था, अब फिर से इतिहास दोहराएंगे : चंद्रशेखर ◾UP में शाह ने भरी हुंकार, विपक्ष पर हुए हमलावर, कहा- माफियाओं पर कार्रवाई से अखिलेश के होता दर्द ◾अब खुले बाजार में मिलेंगी Covishield और Covaxin, पर मेडिकल स्टोर से नहीं ले सकेंगे◾अंसारी के असहिष्णुता वाले बयान पर छिड़ा राजनीतिक बवाल, BJP-VHP ने की कड़ी निंदा, जानें क्या कहा ◾

बिना नाम लिए सिब्बल का गांधी परिवार पर निशाना, कहा - पार्टी में अध्यक्ष नहीं है तो फैसले कौन ले रहा है

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने पार्टी की पंजाब इकाई में मचे घमासान और कांग्रेस की मौजूदा स्थिति को लेकर बुधवार को पार्टी नेतृत्व पर सवाल खड़े किए और कहा कि कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक बुलाकर इस स्थिति पर चर्चा होनी चाहिए तथा संगठनात्मक चुनाव कराये जाने चाहिए। 

सिब्बल का गांधी परिवार पर इशारों-इशारों में कटाक्ष

उन्होंने कई नेताओं के पार्टी छोड़ने का उल्लेख करते हुए गांधी परिवार पर इशारों-इशारों में कटाक्ष किया कि ‘‘जो लोग इनके खासमखास थे वो छोड़कर चले गए, लेकिन जिन्हें वे खासमखास नहीं मानते वे आज भी इनके साथ खड़े हैं।’’ पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे के बाद पैदा हुई स्थिति को लेकर सिब्बल ने कहा कि इस सीमावर्ती राज्य में ऐसी कोई भी स्थिति नहीं होनी चाहिए जिसका पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई और सीमापार के दूसरे तत्व फायदा उठा सकें। 

पार्टी की मौजूदा स्थिति पर जताया दुख  

पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं निजी तौर पर बात कर रहा रहा हूं और उन साथियों की तरफ बोल रहा हूं जिन्होंने पिछले साल अगस्त में पत्र लिखा था। हम अपने नेतत्व की ओर से अध्यक्ष का चुनाव, सीडब्ल्यूसी और केंद्रीय चुनाव समिति के चुनाव कराने से जुड़े कदम उठाए जाने का इंतजार कर रहे हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं भारी मन से आप लोगों से बात कर रहा हूं। मैं एक ऐसी पार्टी से जुड़ा हूं जिसकी ऐतिहासिक विरासत है और जिसने देश को आजादी दिलाई। मैं अपनी पार्टी को उस स्थिति में नहीं देख सकता जिस स्थिति में पार्टी आज है।’’ 

हमारे नेता पार्टी छोड़ रहे है , ये सोचने वाली बात है - सिब्बल 

उनके मुताबिक, ‘‘देश बड़े संकट का सामना कर रहा है। चीन घुसपैठ कर रहा है। तालिबान के अफगानिस्तान में आने से जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा के लिए खतरा पैदा हुआ है। करोड़ों लोग गरीबी से घिरे हैं। ऐसे हालात में में कांग्रेस इस स्थिति में है, यह दुखद है। यह ऐसा समय है कि हमें इस सरकार के खिलाफ मिलकर लड़ना चाहिए।’’ सिब्बल ने कहा, ‘‘हमारे लोग हमें छोड़कर जा रहे हैं। सुष्मिता (देव) जी चली गईं और गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री (लुईजिन्हो) फालेरयो भी चले गए। जितिन प्रसाद चले गए, (ज्योतिरादित्य) सिंधिया चले गए, ललितेश त्रिपाठी चले गए, अभिजीत मुखर्जी भी चले गए। कई अन्य नेता चले गए। सवाल उठता है कि ये लोग क्यों जा रहे हैं? हमें यह खुद सोचना होगा कि शायद हमारी भी कोई गलती रही होगी।’’ 

सिब्बल ने कहा, हमारे यहां अध्यक्ष नहीं है, फैसले कौन कर रहा है

उन्होंने कहा, ‘‘इस समय हमारे यहां अध्यक्ष नहीं है। हम जानते भी हैं और नहीं भी जानते हैं कि फैसले कौन कर रहा है।’’ 

सिब्बल ने कांग्रेस नेतृत्व का आह्वान किया, ‘‘कांग्रेस कार्य समिति की बैठक तत्काल बुलाई जाए ताकि इस पर चर्चा की जा सके कि पार्टी में क्या हो रहा है।’’ उन्होंने गांधी परिवार पर इशारों-इशारों में तंज कसते हुए कहा, ‘‘ जो लोग इनके खासमखास थे वो तो इन्हें छोड़कर चले गए। जिन्हें ये खासमखास नहीं समझते हैं वे इनके साथ खड़े हैं। यह एक विडंबना है।’’ 

जो कांग्रेसजन चले गए, वो साथ आएं - सिब्बल

सिब्बल ने कहा, ‘‘जो कांग्रेसजन चले गए, वो साथ आएं। कांग्रेस ही इस देश के गणराज्य को बचा सकती है क्योंकि मौजूदा सरकार गणतंत्र को कमजोर कर रही है।’’ पंजाब के घटनाक्रम को लेकर उन्होंने कहा, ‘‘सीमावर्ती राज्य है। वहां आईएसआई फायदा उठा सकती है। हम जानते हैं कि सीमापार के तत्व वहां अस्थिरता पैदा कर सकते हैं...कांग्रेस को सुनिश्चित करना है कि सब एकजुट रहे हैं।’’

सिब्बल बोले - जल्द होना चाहिए सीडब्ल्यूसी का चुनाव

 उन्होंने कहा, ‘‘पार्टी के भीतर खुलकर चर्चा हो, एक दूसरे के विचार को सुने जाएं। संगठन का ढांचा होना चाहिए।सीडब्ल्यूसी का चुनाव हो।’’ सिब्बल उन 23 प्रमुख नेताओं में शामिल हैं जिन्होंने पिछले वर्ष कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर कांग्रेस में संगठन चुनाव करवाने की मांग की थी। इन नेताओं में पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलामनबी आजाद भी शामिल थे।