BREAKING NEWS

दिल्ली शराब नीति मामला : 11 दिसंबर को कविता से पूछताछ करेगी CBI◾MP Borewell Incident : एमपी के बैतूल में 8 साल का बच्चा बोरवेल में गिरा, बचाव अभियान जारी◾भारत अंतरराष्ट्रीय मोटा अनाज वर्ष के जश्न को आगे बढ़ाएगा - PM मोदी◾गुजरात में भी विफल मीम-भीम गठजोड़, सर्वे ने सभी को चौंकाया, भाजपा को सबसे आगे दिखाया ◾Tamil Nadu: सीएम स्टालिन ने कहा- उत्तर भारत के पेरियार हैं अंबेडकर◾UP News: सपा विधायक अतुल प्रधान ने किया सदन की कार्यवाही का फेसबुक पर सीधा प्रसारण, हुई कार्रवाई◾संसद में मचेगा घमासान! विपक्ष की महंगाई, बेरोजगारी जैसे मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरने की तैयारी◾Uttarakhand: अदालत का अहम फैसला- पत्नी का गला घोंटकर मारने वाले पति को आजीवन कारावास दिया ◾Gold Rate Today Price: दिन के खत्म होते ही सोने में भारी चमक, 118 रूपये दर्ज की गई बढ़ोत्तरी◾UP News: विधानसभा का शीतकालीन सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित◾UP News: योगी आदित्यनाथ ने कहा- देश में सर्वश्रेष्ठ मानकों पर कार्य कर रहा है उप्र का होमगार्ड विभाग◾Border dispute: शरद पवार ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री को दिया अल्टीमेटम, क्या थमेगा विवाद? ◾TMC, JD(U), SAD की महिला आरक्षण विधेयक पर आमसहमति बनाने के लिये सर्वदलीय बैठक की मांग◾किसानों का बड़ा ऐलान: केंद्र सरकार के खिलाफ शुक्रवार को जंतर-मंतर पर करेंगे प्रदर्शन◾केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा- अवैध खनन रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है ड्रोन◾ईदगाह मस्जिद में हनुमान चालीसा का पाठ करने जा रहे अखिल भारत हिंदू महासभा का नेता हुआ गिरफ्तार ◾गोखले को हिरासत में लेने पर बयानबाजी शुरू, अभिषेक बनर्जी बोले- डरी हुई है भाजपा◾आतंकियों के निशाने पर कश्मीरी हिन्दू, TRF ने हिटलिस्ट जारी कर दी धमकी ◾CBI को मिली बड़ी कामयाबी, उत्तर रेलवे के एक इंजीनियर को दबोचा, दो करोड़ रूपए किए बरामद◾गुजरात में भाजपा की होगी जीत! सीएम बोम्मई ने कहा- इसका सीधा सकारात्मक प्रभाव कर्नाटक में पडे़गा◾

सिख विवाह अधिनियम लागू कराने के लिए महाराष्ट्र अदालत में सिख दंपति ने दायर की याचिका

बंबई उच्च न्यायालय में एक सिख दंपति ने याचिका दायर कर महाराष्ट्र सरकार को राज्य में आनंद विवाह अधिनियम, 1909 लागू करने के लिए नियम बनाने का निर्देश दिए जाने का अनुरोध किया है। वकील दंपति द्वारा इस महीने की शुरुआत में दायर याचिका में कहा गया है कि दिल्ली, पंजाब, केरल, असम और राजस्थान समेत भारत के 10 राज्यों में इस कानून के क्रियान्वयन के लिए पहले ही नियम बनाए जा चुके हैं।

महाराष्ट्र शासन ने आनंद विवाह अधिनियम घोषित नहीं किए

आनंद विवाह अधिनियम सिखों के ‘आनंद कारज’ नामक विवाह संस्कार को वैधानिक मान्यता देता है। ‘आनंद कारज’ के अनुसार किया गया कोई भी विवाह इस संबंधी अनुष्ठान के पूरा होने की तारीख से वैध माना जाता है। याचिका में कहा गया, ‘‘यह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है कि महाराष्ट्र ने अभी तक आनंद विवाह अधिनियम के लिए नियम घोषित नहीं किए हैं। सिखों के विवाह के पंजीकरण के लिए आनंद विवाह अधिनियम के तहत अलग कानून होने के बावजूद महाराष्ट्र में उन्हें हिंदू विवाह के तहत पंजीकरण कराना पड़ता है।’’

याचिकाकर्ता ने आनंद कारज के जरिए किया था विवाह

इस याचिका पर बाद में उपयुक्त समय पर सुनवाई होने की संभावना है। याचिका में कहा गया है कि आनंद विवाह अधिनियम 1909 में आधिकारिक रूप से घोषित किया गया था। इसे 2012 में संशोधित किया गया था, जिससे राज्यों के लिए इस अधिनियम के कार्यान्वयन के वास्ते अपने नियम तैयार करना अनिवार्य है। याचिकाकर्ताओं ने 2021 में महाराष्ट्र के औरंगाबाद के एक गुरुद्वारे में आनंद कारज के जरिए विवाह किया था, लेकिन नियमों के अभाव के कारण वे आनंद विवाह अधिनियम के तहत अपनी शादी का पंजीकरण नहीं करा पा रहे। याचिका में कहा गया है कि नियम बनाने में महाराष्ट्र सरकार की विफलता लाखों सिखों के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है।

आपको बता दे की कानूनी रूप में हिंदू व मुस्लिम के विवाह अधिनियम लागू हैं, लेकिन सिख समाज को हिंदू विवाह अधिनियम के तहत कानून में जोड़ा गया हैं। सिख विवाह में वही प्रावधान लागू होते है, जो हिंदू विवाह अधिनियम में लागू होते हैं। लेकिन सिख दंपति ने आनंद कारज को अपना अधिनियम बनाने के अदालत में याचिका दायर की हैं।