BREAKING NEWS

PM मोदी और राष्ट्रपति ट्रंप के बीच फोन पर हुई बात, ट्रंप ने मोदी को G-7 सम्मेलन में शामिल होने का दिया न्योता◾चक्रवात निसर्ग : राहुल गांधी बोले- महाराष्ट्र और गुजरात के लोगों के साथ पूरा देश खड़ा है ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,287 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 72 हजार के पार ◾वित्त मंत्रालय में कोरोना वायरस ने दी दस्तक, मंत्रालय के 4 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव ◾कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच, सरकार ने कहा- भारत महामारी से लड़ाई के मामले में अन्य देशों से बेहतर स्थिति में ◾जेसिका लाल हत्याकांड : उपराज्यपाल की अनुमति पर समय से पहले रिहा हुआ आरोपी मनु शर्मा ◾बाढ़ से घिरे असम के 3 जिलों में भूस्खलन, 20 लोगों की मौत, कई अन्य हुए घायल◾दिल्ली BJP अध्यक्ष पद से मनोज तिवारी का हुआ पत्ता साफ, आदेश गुप्ता को सौंपा गया कार्यभार◾दिल्ली हिंसा मामले में ताहिर हुसैन समेत 15 के खिलाफ दायर हुई चार्जशीट◾Covid-19 : अब घर बैठे मिलेगी अस्पतालों में खाली बेड की जानकारी, CM केजरीवाल ने लॉन्च किया ऐप◾कारोबारियों से बोले PM मोदी-देश को आत्मनिर्भर बनाने का लें संकल्प, सरकार आपके साथ खड़ी है◾ ‘बीएए3’ रेटिंग को लेकर राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा-अभी तो स्थिति ज्यादा खराब होगी ◾कपिल सिब्बल का केंद्र पर तंज, कहा- 6 साल का बदलाव, मूडीज का डाउनग्रेड अब कहां गए मोदी जी?◾महाराष्ट्र और गुजरात में 'निसर्ग' चक्रवात का खतरा, राज्यों में जारी किया गया अलर्ट, NDRF की टीमें तैनात◾कोरोना वायरस : देश में महामारी से 5598 लोगों ने गंवाई जान, पॉजिटिव मामलों की संख्या 2 लाख के करीब ◾Covid-19 : दुनियाभर में वैश्विक महामारी का प्रकोप जारी, मरीजों की संख्या 62 लाख के पार पहुंची ◾डॉक्टर ने की जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या की पुष्टि, कहा- गर्दन पर दबाव बनाने के कारण रुकी दिल की गति◾अमेरिका में कोरोना संक्रमितों की संख्या में बढ़ोतरी जारी, मरीजों की आंकड़ा 18 लाख के पार हुआ ◾भारत में कोविड-19 से ठीक होने की दर पहुंची 48.19 प्रतिशत,अब तक 91,818 लोग हुए स्वस्थ : स्वास्थ्य मंत्रालय ◾महाराष्ट्र में बीते 24 घंटे में कोरोना के 2,361 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 70 हजार के पार, अकेले मुंबई में 40 हजार से ज्यादा केस◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

निर्मला सीतारमण ने चिदंबरम पर साधा निशाना, कहा - गलत इलाज करने वालों से कोई सीख नहीं लेंगे

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम पर मंगलवार को पलटवार करते हुये कहा कि वह उन लोगों से कोई सीख नहीं लेना चाहती जिन्होंने अर्थव्यवस्था का गलत इलाज किया और जिनके सत्ता में रहते प्रत्यक्ष विदेशी निवेशक देश से बाहर भागने लगे थे। सीतारमण ने कहा कि संप्रग सरकार के दौर में इतना ही नहीं हुआ, बल्कि उस शासन-काल में राजनीतिज्ञ और पूंजीपतियों की मिली-भगत से कई लोग बैंकों का कर्ज लेकर चंपत हो गये। 

आम बजट 2020- 21 पर पहले लोकसभा में और फिर राज्य सभा में हुई चर्चा का जवाब देते हुये सीतारमण ने अर्थव्यवस्था की स्थिति को लेकर मोदी सरकार का अपने जाने जाने पहचाने अंदाज में बचाव किया। उन्होंने सात क्षेत्रों को गिनाया जहां स्थिति में सुधार के संकेत दिखाई दे रहे हैं। 

सीतारमण ने कहा कि एफडीआई में वृद्धि हो रही है, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों का पूंजी प्रवाह सकारात्मक बना हुआ है, ढांचागत क्षेत्र में निवेश बढ़ाने के लिये 103 लाख करोड़ रुपये की परियोजनायें निवेश के लिए प्रस्तुत किए पेश की जानी हैं। इसके साथ ही विदेशी मुद्रा भंडार अब तक के रिकार्ड स्तर पर पहुंच चुका है। 

उन्होंने इस बात का भी उल्लेख किया कि चालू वित्त वर्ष के दौरान पिछले दस महीनों में से छह महीने जीएसटी संग्रह एक लाख करोड़ रुपये से अधिक रहा है। औद्योगिक उत्पादन एक बार फिर बेहतर हो रहा है और कुल मिला कर अर्थव्यवस्था में सुधार की झलक शेयर बाजार में दिख रही है। 

लोकसभा में उन्होंने अपनी सरकार के तहत अर्थव्यवस्था की बेहतरी के लिये किये जा रहे उपायों का ब्योरा दिया और सरकार के कदमों का बचाव किया। उन्होंने न केवल विभिन्न क्षेत्रों के लिये बजट में किये गये बजट आवंटन के बारे में बताया बल्कि चालू वित्त वर्ष के बजट में राजकोषीय घाटा बढ़ने के बारे में भी सफाई दी। उन्होंने कहा, ... अर्थव्यवस्था में कोई संकट नहीं है, सात क्षेत्रों से संकेत मिल रहे हैं कि अर्थव्यवस्था में सुधार आ रहा है। 

इसके कुछ देर बाद ही राज्यसभा में बजट पर चर्चा का जवाब देते हुये वित्त मंत्री ने सीधे पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को निशाने पर लिया। उन्होंने कहा, ‘‘हमारी सरकार को लेकर कई तरह की धारणायें व्यक्त की जा रही हैं .... एक बात में मानती हूं, और वह यह कि निश्चित तौर पर हम संप्रग सरकार ने 2008- 09 में जो गलत उपचार किया, हम उसको नहीं दोहरायेंगे। उनमें से किसी को भी हमने नहीं दोहराया है।’’ 

वित्त मंत्री के जवाब के बाद दोनों सदनों में आम बजट पर हुई सामान्य चर्चा को ध्वनिमत से मंजूरी दे दी गई। इसके साथ ही बजट को पारित कराने का पहला चरण पूरा हो गया। 

पिछली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार ने वर्ष 2008- 09 की वैश्विक वित्तीय सुस्ती से निपटने के लिये बैंकों की तिजोरी खोल दी थी। आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने के लिये बैंकों से बढ़ चढ़कर कर्ज दिया गया। अर्थव्यवस्था के कुछ क्षेत्रों में मंदी के बाद इनमें से कुछ कर्ज एनपीए में परिवर्तित हो गया। 

सीतारमण ने कहा, ‘‘2008- 09 के संकट से निपटने के लिये आपने क्या निदान अपनाया और उसका क्या परिणाम हुआ। हम अर्थव्यवस्था के लिये उस बोझ को न आज चाहते हैं और न ही भविष्य के लिये छोड़ना चाहते हैं।’’ उन्होंने संप्रग सरकार पर कटाक्ष करते हुये कहा कि 2004 से लेकर 2014 के दौरान तबकी मनमोहन सरकार ने अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के पिछले पांच साल के अच्छे काम में व्यवधान खड़ा करने का काम किया। 

वित्त मंत्री ने कहा कि वह हर किसी के सुझाव और टिप्पणियां पर गौर करेंगी लेकिन ‘‘आप जो लगातार हम पर कीचड़ उछाल रहें हैं, वहां से नहीं।’’