BREAKING NEWS

मुस्लिम विरोधी बयानबाजी से भाजपा को कोई फायदा नहीं होने वाला, जयंत चौधरी ने सरकार पर लगाया आरोप ◾UP विधानसभा चुनाव: BJP प्रचार अभियान में इन शहरों को दे रही तवज्जों, हिंदुत्व के एजेंडे पर दिखाई दे रहा फोकस◾दिल्ली में लगाई गई पाबंदियों का कोरोना के प्रसार पर हुआ असर, अस्पतालों में भर्ती होने वालों की संख्या स्थिर : जैन ◾अनुराग ठाकुर का सपा पर तंज, बोले- समाजवाद का असली खेल या तो प्रत्याशी को जेल या फिर बेल◾क्या है BJP की सबसे बड़ी कमियां? जनता ने दिया जवाब, राहुल बोले- नफरत की राजनीति बहुत हानिकारक ◾खुद PM मोदी ने हमें दिया है ईमानदारी का सर्टिफिकेटः अरविंद केजरीवाल◾UP : कोरोना की स्थिति नियंत्रित,CM योगी ने लोगों से की अपील- भीड़ में जाने से बचें और सावधानी बरतें◾देशव्यापी टीकाकरण अभियान का एक वर्ष पूरा हुआ, पीएम मोदी समेत इन दिग्गज नेताओं ने ट्वीट कर दी बधाई ◾Lata Mangeshkar Health Update: जानें अब कैसी है भारत की कोयल की तबीयत, डॉक्टर ने दिया अपडेट ◾यूपी के चुनावी दंगल में AIMIM ने जारी की उम्मीदवारों की पहली सूची, सभी मुस्लिम चेहरे को तरजीह, देखें लिस्ट◾गोवा में AAP को बहुमत नहीं मिला तो पार्टी गैर-भाजपा के साथ गठबंधन बनाने के बारे में सोचेगी : CM केजरीवाल◾UP चुनाव की टक्कर में OBC का चक्कर, जानें किसके सिर पर सजेगा जीत का ताज और किसे मिलेगी मात ◾योगी सरकार के पूर्व मंत्री दारासिंह चौहान ने ज्वाइन की साइकिल, कुछ दिन पहले ही छोड़ा था बीजेपी का साथ ◾टीकाकरण अभियान का एक साल पूरा, नड्डा बोले- असंभव कार्य को संभव किया और दुनिया ने देश की सराहना की ◾पीएम मोदी की सुरक्षा चूक मामले में की जा रही राजनीति सही नहीं : मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा◾राजस्थान: कोरोना की बढ़ती रफ्तार से सरकार चिंतित, मंत्री बोले- लोगों को कोविड प्रोटोकॉल का करना होगा पालन ◾टिकट न मिलने से नाखुश SP कार्यकर्ता ने की आत्मदाह की कोशिश, प्रदेश मुख्यालय के बाहर मची खलबली ◾कोरोना से जंग में ब्रह्मास्त्र बनी वैक्सीन, टीकाकरण को पूरा हुआ 1 साल, करीब 156.76 करोड़ लोगों को दी खुराक ◾यूपी चुनाव: अखिलेश ने चला सामाजिक न्याय का दांव, भाजपा जनकल्याणकारी योजनाओं और हिंदुत्व के भरोसे◾CBSE की तैयारी, कोरोना लहर बीतने के बाद बोर्ड परीक्षा की बारी,शिक्षा मंत्रालय तैयारियों को लेकर सतर्क◾

SKM की बैठक खत्म, क्या समाप्त होगा आंदोलन या रहेगा जारी? कल फाइनल मीटिंग

बीते एक साल से ज्यादा वक्त से चला आ रहा किसान आंदोलन बुधवार को समाप्त हो सकता है। मंगलवार को सिंघु बॉर्डर पर संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में इसे लेकर संकेत मिले हैं। केंद्र सरकार की ओर से लंबित मुद्दों के समाधान के लिए ड्राफ्ट सौंपे जाने के बाद इस पर सहमति बनती दिखी है। आंदोलन कर रहे किसानों की मुख्य मांगें तीनों कानूनों को वापस लेने की थी। केंद्र सरकार ने उनकी मांगों को मानते हुए तीनों कानूनों को संसद के जरिए वापस ले लिया। इसके अलावा भी किसानों की कई मांगें लंबित थे। उनमें आंदोलन के दौरान दर्ज मामलों को वापस लेने और एमएसपी पर गारंटी देने की मांग प्रमुख थी।

वहीं, भारतीय किसान यूनियन के बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा कि सरकार के प्रस्ताव पर हमने कमेटी में चर्चा की और फिर इसे मोर्चा के सामने रखा।  हमें न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) की कमेटी में दूसरे लोगों को शामिल करने पर ऐतराज था।  उन्होंने कहा कि दूसरा जो मुकदमे दर्ज किए गए थे। उस पर सरकार की तरफ से एक शर्त लगा दी गई है कि मोर्चा उठाने के बाद ही मुकदमा वापस लिया जाएगा।  उन्होंने कहा कि सरकार की इस शर्त को हम मानने के लिए तैयार नहीं हैं. कल की बैठक में दोपहर 2 बजे अंतिम फैसला लिया जाएगा। 

कृषि कानूनों की पैरवी करने वाले संगठनों के शामिल करने पर एतराज

किसान नेता अशोक धवले ने कहा कि आज पहली बार सरकार के गृह मंत्रालय की तरफ से कमेटी के सामने प्रस्ताव आया है। इस प्रस्ताव पर चर्चा की गई है। लेकिन ये अंतिम प्रस्ताव नहीं है। इस पर बहुत अच्छी और सकारात्मक चर्चा हुई। उन्होंने कहा कि कुछ बिंदुओं पर सुझाव और संदेह थे। MSP कमेटी में केंद्र और राज्य सरकारों के प्रतिनिधियों के साथ किसान संगठन संयुक्त मोर्चा के अलावा उन संगठनों शामिल होने पर एतराज जताया गया है, जिन्होंने कृषि कानूनों की पैरवी की थी।

मुआवजे के तौर पर मांगे गए पांच लाख रुपये और एक सदस्य को नौकरी

मुकदमे वापस लेने के सवाल पर उन्होंने कहा कि आंदोलन के वापस होने पर केस वापसी की शर्त पर संगठन को आपत्तियां हैं। उन्होंने कहा कि अकेले हरियाणा में 48000 केस हैं। पूरे देश में जहां जहां रेल रोको आंदोलन हुए वो मुकदमे भी वापस होने चाहिए। उन्होंने कहा कि मुआवजा के मामले पर केंद्र सरकार से पंजाब सरकार की तर्ज पर 5 लाख रुपए और एक सदस्य को नौकरी हमारी मांग है। बिजली बिल पर उन्होंने कहा कि सभी स्टेक होल्डर्स के साथ बात करके ही कुछ करेंगे। सरकार पहले की बैठक में बिल ना लाने की बात थी, लेकिन वो संसद की सूची में है।सरकार के जवाब पर ही हम आंदोलन पर आखिरी फैसला लेंगे।