BREAKING NEWS

‘आप' ने की महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु मामले की सीबीआई जांच की मांग◾महाराष्ट्र में फड़णवीस सरकार के शासनकाल में हुए भ्रष्टाचार को सामने लाने का वक्त आ गया: कांग्रेस◾PM मोदी ने अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि के निधन पर जताया शोक, कहा- संत समाज की धाराओं को जोड़ने में निभाई बड़ी भूमिका◾अब इस राज्य में भी विधानसभा का चुनाव लड़ेगी 'AAP', केजरीवाल ने सियासी पिच पर लगाया छक्का!◾UP: अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का संदिग्ध परिस्थितियों में निधन, पुलिस को मिला सुसाइड नोट◾पंजाब कांग्रेस के घमासान के बाद छत्तीसगढ़ में भी सत्ता को लेकर हलचल, दिल्ली पहुंचे टी एस सिंहदेव ◾पोर्नोग्राफी केस में राज कुंद्रा को मिली जमानत, कहा- बिना सबूत मुझे बनाया गया बलि का बकरा ◾पंजाब के नए नवेले CM चन्नी पर 'मी टू' के आरोप, NCW अध्यक्ष ने की कांग्रेस से यह मांग◾भाजपा का तंज - अगर कांग्रेस पंजाब चुनाव सिद्धू के नेतृत्व में लड़ेगी तो क्या चन्नी सिर्फ 'नाइट वॉचमैन' हैं◾रावत के बयान पर कांग्रेस की सफाई- CM के तौर पर चन्नी और PCC अध्यक्ष के रूप में सिद्धू होंगे चेहरा ◾ममता दीदी के साथ मुलाकात बहुत संगीतमय रही, उनका हर शब्द मेरे लिए संगीत जैसा रहा - बाबुल सुप्रियो ◾'चन्नी' को CM बनाने पर BJP का तंज- दलित वोटों की डकैती करना कांग्रेस की पुरानी आदत ◾बंगाल राज्यसभा उपचुनाव : BJP नहीं उतारेगी उम्मीदवार, सुष्मिता के निर्विरोध चुने जाने की संभावना◾पीएम मोदी दलितों के नाम पर वोट मांगते हैं, लेकिन देश में किसी दलित को सीएम नहीं बनाया : रणदीप सुरजेवाला ◾रूसी यूनिवर्सिटी में बंदूकधारी छात्रों ने की गोलीबारी, अंधाधुंध फायरिंग में आठ लोगों की मौत◾CM बनते ही एक्शन में आए चरणजीत सिंह चन्नी, कहा- तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करे केंद्र सरकार ◾जावेद अख्तर मानहानि केस में बड़ा ट्विस्ट, मुंबई कोर्ट में पेश हुईं कंगना, कहा-अदालत से उठ गया विश्वास ◾मायावती का वार- पंजाब में दलित CM बनाना चुनावी हथकंडा, हार को लेकर घबरायी हुई है कांग्रेस ◾कोलकाता में भारी बारिश से जनजीवन प्रभावित, जलजमाव से जगह-जगह लगा ट्रैफिक जाम ◾UP में घमासान, ओवैसी और अखिलेश पर तंज कसने के लिए BJP ने बनाया 'अब्बा जान' कार्टून◾

बेघर और भिखारियों के टीकाकरण के लिए विशेष अभियान चलाए राज्य व केंद्र शासित प्रदेश: स्वास्थ्य मंत्रालय

देश में कोरोना वायरस महामारी का कहर धीरे-धीरे कम हो रहा है, ऐसे में देश में टीकाकरण की रफ्तार को बढ़ाने की जरूरत है। इसके साथ ही कोरोन नियमों के कड़ाई से पालन करने की आवश्कता है। इसी बीच केंद्र ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को उन बेघर लोगों और भिखारियों का टीकाकरण करने का निर्देश दिया है, जिनके पास कोविड-19 महामारी के खिलाफ टीकाकरण के लिए संसाधन नहीं हैं।
केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने राज्यों के मुख्य सचिवों और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासकों को ऐसे बेघर, भिखारियों और निराश्रितों के टीकाकरण के लिए स्वैच्छिक संस्थानों के साथ समन्वय करके विशेष अभियान चलाने और सत्र आयोजित करने का आदेश जारी किया।

नोटिस में कहा गया है, राष्ट्रव्यापी कोविड-19 टीकाकरण अभियान जन-केंद्रित है और सभी पात्र प्राथमिकता वाले समूहों को उनकी सामाजिक-आर्थिक स्थिति के बावजूद इसे सुलभ बनाने के लिए प्रावधान किए गए हैं। प्रशासन इस कार्य को अंजाम देने के लिए गैर सरकारी संगठनों और नागरिक समाज संगठनों की मदद ले सकता है। नोटिस में कहा गया है कि इस समूह के लोगों के टीकाकरण के लिए एक विशेष सत्र की योजना बनाई जा सकती है।

इससे पहले भी, स्वास्थ्य मंत्रालय ने 6 मई को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को भिखारियों, खानाबदोशों (एक स्थान से दूसरे स्थान पर विचरण करने वाला समुदाय) जैसे लोगों के ऐसे समूहों को कोविड टीकाकरण प्रदान करने की सलाह दी थी। इनमें पुनर्वास शिविरों में रहने वाले लोग भी शामिल हैं और ऐसे व्यक्तियों के टीकाकरण के संबंध में एसओपी साझा करते हुए, यह हिदायत दी गई थी, जिनके पास निर्धारित पहचान पत्र नहीं हैं।
स्वास्थ्य मंत्रालय ने फिर राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से इस कार्य को प्राथमिकता के आधार पर करने का आह्वान किया है। राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से अनुरोध किया गया है कि वे अपने संबंधित सामाजिक न्याय और अधिकारिता और स्वास्थ्य विभागों को निराश्रित, भिखारियों और आवारा लोगों के टीकाकरण की सुविधा के लिए मिलकर काम करने का निर्देश दें।
इस बीच, स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों में कहा गया है कि भारत में अब तक कुल 46,15,18,479 कोविड वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है। पिछले 24 घंटों में कुल 52,99,036 लाख टीके की खुराक दी गई। भारत में पिछले 24 घंटों में 41,649 नए कोविड-19 मामले दर्ज किए, और इस अवधि में 593 मौतें हुईं। 31 जुलाई तक अब तक जांचे गए नमूनों की कुल संख्या 46.64 करोड़ तक पहुंच गई है।