BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 27 पर पहुंची, हालात अभी भी तनावपूर्ण ◾कांग्रेस ने प्रधानमन्त्री मोदी पर कसा तंज, कहा- अगर शाह पर भरोसा नहीं तो बर्खास्त क्यों नहीं करते◾दिल्ली हिंसा में शामिल 106 लोग गिरफ्तार सहित 18 एफआईआर दर्ज, दिल्ली पुलिस ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर◾मुख्यमंत्री केजरीवाल ने किया हिंसाग्रस्त उत्तर-पूर्वी दिल्ली का दौरा ◾अपने दौरे के बाद एनएसए डोभाल ने गृह मंत्री अमित शाह को उत्तर पूर्वी दिल्ली में मौजूदा हालात की जानकारी दी◾एनएसए डोभाल ने किया दंगा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, बोले- उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात नियंत्रण में ◾TOP 20 NEWS 26 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल के परिवार को 1 करोड़ और एक सदस्य नौकरी देंगे - अरविंद केजरीवाल ◾दिल्ली HC ने पुलिस को भड़काऊ बयान देने वाले BJP नेताओं पर FIR करने की दी सलाह◾दिल्ली हिंसा : IB अफसर अंकित शर्मा का मिला शव, हिंसा ग्रस्त इलाको में जारी है तनाव ◾हिंसा पर दिल्ली हाई कोर्ट सख्त, कहा-देश में एक और 1984 नहीं होने देंगे◾दिल्ली हिंसा पर PM मोदी की लोगों से अपील, ट्वीट कर लिखा-जल्द से जल्द बहाल हो सामान्य स्थिति◾दिल्ली हिंसा : हाई कोर्ट ने कपिल मिश्रा का वीडियो क्लिप देख कर पुलिस को लगाई कड़ी फटकार ◾सीएए हिंसा पर प्रियंका गांधी ने लोगों से की अपील, बोली- हिंसा न करें, सावधानी बरतें ◾सोनिया गांधी ने दिल्ली हिंसा को बताया सुनियोजित, गृहमंत्री से की इस्तीफे की मांग◾दिल्ली हिंसा : हेड कांस्टेबल रतनलाल को दिया गया शहीद का दर्जा, पत्नी को नौकरी के साथ मिलेंगे 1 करोड़ ◾सुप्रीम कोर्ट ने सीएए हिंसा को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, याचिकाओं पर सुनवाई से किया इनकार ◾दिल्ली में हुई हिंसा के बाद यूपी में हाई अलर्ट, संवेदनशील जिलों में पुलिस बलों के साथ पीएसी तैनात ◾राजस्थान के बूंदी में नदी में बस गिरने से 24 लोगों की मौत, मृतकों में 3 बच्चे शामिल◾दिल्ली के तनावपूर्ण इलाके छावनी में तब्दील, सुरक्षा बलों के फ्लैगमार्च के साथ स्पेशल सीपी ने किया दौरा◾

सर्वोच्च न्यायालय ने असम की संशोधित मतदाता सूची का 3 साल का ब्योरा मांगा

सर्वोच्च न्यायालय ने मंगलवार को निर्वाचन अयोग से जनवरी 2017, 2018 व 2019 में संशोधित की गई असम की मतदाता सूची प्रस्तुत करने को कहा।

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता व न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की पीठ ने मतदाता सूची में जोड़े गए या हटाए गए तीन साल के आंकड़ों को प्रस्तुत करने को कहा। पीठ ने यह भी जानना चाहा कि जिनके नाम मतदाता सूची में हैं, लेकिन 31 जुलाई, 2019 को जारी किए गए अंतिम राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) में नहीं हैं, उनके लिए चुनाव आयोग क्या कदम उठा रहा है।

निर्वाचन आयोग के सचिव ने कहा कि मतदाता सूची को अपडेट करना एक निरंतर प्रक्रिया है। आयोग के सचिव अदालत में निजी तौर पर पेश हुए थे।

हार्दिक पटेल कांग्रेस में शामिल, राहुल को सराहा और मोदी पर साधा निशाना

शीर्ष अदालत ने बीते तीन मार्च को सुनवाई में निर्वाचन आयोग के सचिव को निजी तौर पर उपस्थित होने का निर्देश दिया था। अदालत ने कहा था कि उसकी नोटिस के बावजूद निर्वाचन आयोग से कोई पेश नहीं हुआ।

अदालत गोपाल सेठ व अन्य की एक याचिका पर सुनवाई कर रही है। उन्होंने तर्क दिया कि उनके नाम महज मसौदा एनआरसी में शामिल नहीं होने से मतदाता सूची से हटा दिए गए, जो कि 30 जून, 2018 को प्रकाशित की गई थी।

निर्वाचन आयोग की तरफ से पेश हुए वरिष्ठ वकील विकास सिंह ने दावे को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि याचिकाकर्ता का नाम मतदाता सूची में है और एनआरसी में नाम नहीं होने से किसी का भी नाम मतदाता सूची से हटाया नहीं गया है।