BREAKING NEWS

J&K : आजाद बोले- धार्मिक राजनीति ने देश को पहुंचाया गहरा नुकसान, वोट डालने से पहले जांचे 'ट्रैक रिकॉर्ड'◾पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा- विनिर्माण की दुनिया में लगातार आगे बढ़ रहा है भारत◾Assam: सीएम शर्मा ने कहा- डिब्रूगढ़ विवि ने रैगिंग की घटना छिपाने की कोशिश की या नहीं, जांच पुलिस करेगी◾'मोदी सरकार' पर निशाना साधते हुए राहुल बोले- नोटबंदी, GST ने लोगों और छोटे व्यापारियों की कमर तोड़ी◾Gujarat: गुजरात में मिली जहरीली शराब पर भड़के राहुल गांधी- राज्य में फैल हुआ 'मोदी मॉडल'◾ लड़की के साथ दरिंदगी, तीन लोगों ने मिलकर किया दुष्कर्म, पुलिस ने आरोपियों को दबोचा, जानें पूरा मामला ◾Goa: सीएम प्रमोद सांवत ने कहा- ‘द कश्मीर फाइल्स’ पर इफ्फी के जूरी प्रमुख का बयान कश्मीरी हिंदुओं का अपमान◾Air India: एयर इंडिया-विस्तारा के विलय को मिली मंजूरी...सिंगापुर एयरलाइंस की होगी इतनी हिस्सेदारी◾सोशल मीडिया ने देश को आगे बढ़ाया... लेकिन फेक न्यूज का भी तेजी से हुआ चलन, बोले केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ◾BWF Rankings: बीडब्ल्यूएफ रैंकिंग में छठे स्थान पर पहुंचे लक्ष्य सेन, टॉप-20 में गायत्री-त्रिशा ◾MCD पर केजरीवाल का चुनावी एजेंडा, कहा- 'आप पार्टी' को वोट दें.....राजधानी को बनाएंगे स्वच्छ और सुंदर ◾Digital Rupee: RBI का बड़ा ऐलान- 1 दिसंबर को लॉन्च होगा डिजिटल रूपया ◾भाजपा के गुजरात मॉडल पर योगी मॉडल की छाप, छात्राओं को देंगे तमाम तोहफे◾Corruption case: देशमुख की जमानत याचिका पर अदालत ने सुनवाई को 2 दिसंबर तक किया स्थगित ◾10वीं छात्रा के साथ दुष्कर्म, पांच सहपाठियों ने लड़की को दबोचा, किया गैंगरेप, वीडियो बनाकर कर रहे थे blackmail ◾ Akhilesh Yadav: भाजपा के विवादित बयान पर 'सपा' का पलटवार , अखिलेश का ट्वीट- पिक्चर अभी बाकी है ◾Gujarat Assembly Election: सोशल मीडिया पर ‘आप’ सबसे ज्यादा सक्रिय, BJP और कांग्रेस पीछे◾PM मोदी पर मल्लिकार्जुन खरगे ने कसा तंज कहा, आपके रावण के जैसे 100 सिर हैं क्या?◾हैरतअंगेज करने वाला वीडियो, महिला के ऊपर से गुजरी ट्रेन...फिर भी फोन पर करती रही बात, यूजर्स की फट गई आंखे◾1 दिसंबर को होगा आफताब का नार्को टेस्ट, दिल्ली पुलिस को कोर्ट से मिली अनुमति◾

सुप्रीम कोर्ट ने आरटीई के खिलाफ याचिका को किया खारिज, कहा- बच्चों के लिए समान पाठ्यक्रम उचित नही

भारत में शिक्षा निति पर अलग-अलग तरीके से बदलाव किए जा रहे है इसके पीछे का कारण यह है कि एक विकास और समृध्द  वाले भारत के लिए बच्चों की शिक्षा नीति पर अहम दृष्टिकोण किया जाना बुहत ही महत्वपूर्ण हैं। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षा का अधिकार अधिनियम (आरटीई)-2009 की कुछ धाराओं  के मद्देनजर एक याचिका पर शुक्रवार को इन्कार कर दिया है। इस याचिका में आरटीई की इन धाराओं को  मनमाना और तर्कहीन’’ बताते हुए देश भर में बच्चों के लिए एक समान पाठ्यक्रम शुरू करने से इन्कार कर दिया हैं। 

सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षा के अधिकार के अधिनियिम के तहत 

न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव और न्यायमूर्ति बी आर गवई की पीठ ने याचिकाकर्ता अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय से कहा कि उन्हें इस संबंध में उच्च न्यायालय जाना होगा। इस पर उपाध्याय ने अपनी याचिका वापस लेने का अनुमति चाही। पीठ ने इसकी अनुमति देते हुए याचिका खारिज कर दी।पीठ ने स्पष्ट किया कि वह मामले के गुण-दोष पर कोई राय व्यक्त नहीं कर रही है। पीठ ने कहा, ‘‘आप उच्च न्यायालय क्यों नहीं जाते? आप संशोधन के 12 साल बाद आए हैं।’’ याचिकाकर्ता की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता रंजीत कुमार पेश हुए। याचिका में कहा गया है कि आरटीई अधिनियम की धारा 1 (4) और 1 (5) संविधान की व्याख्या करने में सबसे बड़ी बाधा है और मातृभाषा में एक साझा पाठ्यक्रम नहीं होने से अज्ञानता को बढ़ावा मिलता है।

शिक्षा प्रणाली को लागू करना

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, याचिका में कहा गया है कि एक साझा शिक्षा प्रणाली को लागू करना केंद्र का कर्तव्य है लेकिन यह इस आवश्यक दायित्व को पूरा करने में विफल रहा है क्योंकि इसने 2005 के पहले से मौजूद राष्ट्रीय पाठ्यक्रम ढांचे (एनसीएफ) को अपनाया है।अश्विनी उपाध्याय ने याचिका में कहा था, ‘‘केंद्र ने मदरसों, वैदिक पाठशालाओं और धार्मिक शिक्षा प्रदान करने वाले शैक्षणिक संस्थानों को शैक्षिक उत्कृष्टता से वंचित करने के लिए एस 1(4) और 1 (5) डाला। याचिकाकर्ता ने दलील दी कि एस 1 (4) और 1 (5) न केवल अनुच्छेद 14, 15, 16, 21, 21ए का उल्लंघन करता है, बल्कि अनुच्छेद 38, 39 और 46 और प्रस्तावना के विपरीत भी है।’’

अनुच्छेद का  विस्तृतीकरण

हालांकि, याचिका में कहा गया था कि मौजूदा प्रणाली सभी बच्चों को समान अवसर प्रदान नहीं करती है क्योंकि समाज के प्रत्येक वर्ग के लिए पाठ्यक्रम भिन्न हैं। दुबे ने कहा, ‘‘यह बताना आवश्यक है कि अनुच्छेद 14, 15, 16, 21, 21ए का अनुच्छेद 38, 39, 46 के साथ उद्देश्यपूर्ण और सामंजस्यपूर्ण निर्माण इस बात की पुष्टि करता है कि शिक्षा हर बच्चे का मूल अधिकार है और राज्य इस सबसे महत्वपूर्ण अधिकार के खिलाफ भेदभाव नहीं कर सकता है।’’याचिका में कहा गया था , ‘‘एक बच्चे का अधिकार केवल मुफ्त शिक्षा तक ही सीमित नहीं होना चाहिए, बल्कि बच्चे की सामाजिक आर्थिक और सांस्कृतिक पृष्ठभूमि के आधार पर भेदभाव रहित समान गुणवत्ता वाली शिक्षा प्राप्त करने के लिए इसे विस्तारित किया जाना चाहिए। इसलिए, न्यायालय से अनुरोध है कि वह धारा 1 (4) और 1 (5) को मनमाना, तर्कहीन और अनुच्छेद 14, 15, 16 और 21 का उल्लंघन करने वाला घोषित करे तथा केंद्र को पूरे देश में पहली से आठवीं कक्षा के छात्रों के लिए साझा पाठ्यक्रम लागू करने का निर्देश दे।’’याचिका के अनुसार 14 साल तक के बच्चों के लिए एक साझा न्यूनतम शिक्षा कार्यक्रम से साझा संस्कृति संहिता को प्राप्त किया जा सकेगा और यह असमानता, मानवीय संबंधों में भेदभावपूर्ण मूल्यों को दूर करेगा।