BREAKING NEWS

राजस्थान : कांग्रेस विधायक दल की दूसरी बैठक आज, सचिन पायलट को किया आमंत्रित ◾नेपाल के पीएम ओली का बेतुका बयान, कहा - भगवान राम नेपाली है और भारत की अयोध्या है नकली◾दिल्ली में कोरोना का कहर जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 1.13 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 1,246 नए केस◾राजस्थान में जारी सियासी उठापटक पर भाजपा ने कहा- विधायकों की गिनती के लिए सड़क या होटल नहीं, विधानसभा उपयुक्त स्थान ◾महाराष्ट्र में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 2.60 लाख के पार, मरने वालों का आंकड़ा 10,482 पहुंचा◾पायलट को मनाने में लगे राहुल और प्रियंका, कई वरिष्ठ नेताओं ने भी किया संपर्क ◾एलएसी विवाद : कल होगी भारत-चीन के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की चौथी बैठक◾बौखलाए चीन ने निकाली खीज, अमेरिका के शीर्ष अधिकारियों - नेताओं पर वीजा प्रतिबंध लगाया ◾कांग्रेस विधायक दल की बैठक में गहलोत के समर्थन में प्रस्ताव पारित, हाईकमान के नेतृत्व में जताया विश्वास ◾बच गई राजस्थान की कांग्रेस सरकार, मुख्यमंत्री गहलोत ने विधायकों के संग दिखाया शक्ति प्रदर्शन◾सीबीएसई बोर्ड की 12वीं कक्षा के परिणाम घोषित, 88.78% परीक्षार्थी रहे उत्तीर्ण ◾श्रीपद्मनाभ स्वामी मंदिर प्रबंधन पर शाही परिवार का अधिकार SC ने रखा बरकरार◾सियासी संकट के बीच CM गहलोत के करीबियों पर IT का शकंजा, राजस्थान से लेकर दिल्ली तक छापेमारी◾राहुल ने केंद्र पर साधा सवालिया निशाना, कहा- क्या भारत कोरोना जंग में अच्छी स्थिति में है?◾जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ जारी, एक आतंकवादी ढेर ◾देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 8 लाख 78 हजार के पार, साढ़े पांच लाख से अधिक लोगों ने महामारी से पाया निजात ◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों के आंकड़ों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, मरीजों की संख्या 1 करोड़ 29 लाख के करीब ◾CM शिवराज ने किया मंत्रिमंडल में विभागों का बंटवारा, नरोत्तम मिश्रा बने MP के गृह मंत्री◾असम में बाढ़ और भूस्खलन में चार और लोगों की मौत, करीब 13 लाख लोग प्रभावित◾चीन से तनाव के बीच सेना के आधुनिकीकरण के तहत अमेरिका से 72,000 असॉल्ट राइफल खरीद रहा भारत◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कोरोना वायरस : SC का वकीलों को चैंबर बंद करने का आदेश, महत्वपूर्ण मामलों में होगी वीडियो कांफ्रेन्सिंग के जरिए सुनवाई

देश में कोरोना वायरस (कोविड-19) के बढ़ते मामलों को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने अहम फैसला लेते हुए सुप्रीम कोर्ट परिसर और इसके आसपास स्थित सभी वकीलों को चैंबर सील करने को कहा है। साथ ही कोर्ट महत्वपूर्ण मामलों में वीडियो कांफ्रेन्सिंग के माध्यम से सुनवाई करेगा। देशभर में कोरोना के सोमवार तक 425 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हो चुकी है, इसकी साथ ही 9 संक्रमित लोग की मौत हो गई है। 

कोर्ट ने यह भी कहा कि वकीलों और अन्य स्टाफ के सदस्यों के प्राक्सिमिटी प्रवेश कार्ड भी सोमवार से रद्द किए जा रहे हैं, जिसके चलते किसी भी व्यक्ति को परिसर में आने की इजाजत नहीं मिलेगी। प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव और न्यायमूर्ति सूर्य कांत की पीठ ने कहा कि किसी बेहद जरूरी वजह से कोर्ट परिसर में प्रवेश के लिए सिर्फ सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष वरिष्ठ अधिवक्ता दुष्यंत दवे ही किसी व्यक्ति को अधिकृत कर सकते हैं। 

Coronavirus संकट : केजरीवाल सरकार का बड़ा ऐलान, दिल्ली में लागू होगी आयुष्मान योजना

‘‘पीठ ने कहा, ‘‘हम परिसर में अधिवक्ताओं का समागम नहीं चाहते। अत्यावश्यक मामलों की सुनवाई के लिए सप्ताह में एक बार सिर्फ एक कोर्ट ही बैठेगी और भी वीडियो कांन्फ्रेन्सिंग के माध्यम से। हम उन वकीलों के साथ वीडियो लिंक साझा करेंगे जिनका मामला सूचीबद्ध होगा और वे अपने चैंबर या घर से बहस कर सकेंगे।’’ 

पीठ ने कहा कि वह उच्च कोर्ट अथवा किसी भी अधिकरण के आदेश के खिलाफ अपील दायर करने की समय सीमा अनिश्चितकाल के लिए बढ़ाने का निर्देश देने के लिए संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत प्रदत्त अपने अधिकारों का इस्तेमाल कर रही है ताकि कोविड-19 महामारी की वजह से मामले समय वर्जित नहीं हो जाए। 

केन्द्र की ओर से सालिसीटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि अगले चार-छह सप्ताह में जिन अपीलों की समय सीमा आ रही हो उनमे यह अवधि बढ़ाई हुयी मान ली जाए। वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि वीडियो कांफ्रेन्सिग के लिए भी वकीलों को एक स्थान पर मिलना होगा जो निश्चित ही चिंता का विषय है। 

पीठ ने कहा, ‘‘हम ऐसी व्यवस्था करेंगे जिसमे अधिवक्ताओं की पहचान का सृजन किया जाएगा और वे अपने चैंबर या अपने घरों में बैठे बैठे ही बहस कर सकेंगे।’’ पीठ ने कहा कि सुप्रीम कोर्टकी इ-समिति के अध्यक्ष न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ इसके तौर तरीकों को देखेंगे। 

बार एसोसिएशन के अध्यक्ष और वरिष्ठ अधिवक्ता दुष्यंत दवे ने कहा कि बेहतर होगा यदि कोर्ट इस अवधि को अवकाश घोषित कर दे क्योंकि अनेक वादकारी वकीलों पर उनकी ओर से पेश होने के लिए दबाव डाल रहे हैं। पीठ ने कहा, ‘‘समस्या यह है कि कानून में हम इसे क्या कहेंगे...हम इसे बंद करना या अवकाश कह सकते हें। यदि हम इसे अवकाश घोषित करें तो कोर्ट को इन कार्यदिवसरों की भरपाई के लिए जून के महीने में काम करना होगा। लेकिन चाहें जो हो, हम यह जानते हैं कि इसके लिए किसी प्रकार की भीड़ नहीं होगी। 

आप (दवे) वकीलों से कहिए कि वे कल शाम पांच बजे तक अपने चैंबर बंद कर दें। इसके बाद इन्हें सील कर दिया जाएगा। किसी भी सफाईकर्मी को प्रवेश की इजाजत नहीं होगी।’’ प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि वह इस बारे में सोमवार को शाम को प्रशासनिक आदेश जारी करेंगे। 

पीठ ने कहा कि चूंकि किसी भी वकील से इस मौके पर विदेश जाने की अपेक्षा नहीं है, याचिका दायर करने का काम किसी भी वक्त हो सकता है और सुप्रीम कोर्ट हर सप्ताहांत में एक बार स्थिति की समीक्षा करेगी दवे ने कहा कि हर कोई कोर्ट परिसर में आकर याचिका दायर करने में डर रहा है और ऐसी स्थिति में उचित रहेगा कि कोर्ट इसे चार सप्ताह का अवकाश घोषित कर दे। 

पीठ ने कहा, ‘‘हमारे पास वीडियो ऐप के लिए 6000 लाइसेंस हैं। हम आपको एक वीडियो लिंक दे देंगे और उससे आप हमें अपने घर या चैंबर से संबोधित कर सकते हैं। हम इस बारे में आज ही निर्णय लेंगे।’’ पीठ ने कहा, ‘‘केन्द्र सरकार स्वास्थ सेवा केन्द्र में डाक्टर हम सभी की देखभाल कर रहे हैं लेकिन इसके बावजूद हमें सावधानी बरतनी होगी’’ 

सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन और सुप्रीम कोर्ट एडवोकेट्स ऑन रिकार्ड ने 21 मार्च को प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे से अनुरोध किया था कि कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर ग्रीष्मावकाश दो से चार सप्ताह पहले की कर दिया जाए।