BREAKING NEWS

लखीमपुर खीरी हिंसा मामला : आशीष मिश्रा डेंगू से पीड़ित , अस्पताल में कराया गया भर्ती ◾दिवाली पर कैबिनेट सहयोगियों के साथ पूजा करेंगे CM केजरीवाल◾ कांग्रेस चाहे जिस प्रतिज्ञा का ढोंग करे, जनता उसे सत्ता से बाहर रखने का संकल्प ले चुकी है: BJP ◾चीन की आकांक्षाओं के कारण दक्षिण एशिया की स्थिरता पर ‘सर्वव्यापी खतरा’ :जनरल रावत◾हर दलित बच्चे को उत्तम शिक्षा मिलनी चाहिए, लेकिन 70 सालों में वह पूरा नहीं हुआ: CM केजरीवाल◾ पंजाब में कोई पोस्टिंग गिफ्ट और पैसे के बिना नहीं हुई: सिद्धू की पत्नी ने लगाया आरोप◾यूपी में दलितों के बाद सबसे अधिक नाइंसाफी मुसलमानों के साथ हुई, यादव और दलित से सबक लो: ओवैसी ◾आर्यन के लिए झलका दिग्विजय का दर्द, बोले- शाहरुख के बेटे हैं इसलिए प्रताड़ित किया जा रहा◾ आतंकवाद का खात्मा करने के लिए करें अंतिम वार, कश्मीरियों से बोले शाह- एक बार POK से कर लेना तुलना◾BJP का NCP पर निशाना, कहा- NCB अधिकारियों को कार्रवाई करनी चाहिए ताकि मलिक को परिणाम का पता चले◾योगी ने सुलतानपुर में मेडिकल कॉलेज समेत 126 विकास परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया◾सीएम अरविंद केजरीवाल जाएंगे अयोध्या, 26 अक्टूबर को करेंगे रामलला के दर्शन◾ हवाई सेवा शुरू करना दिखावटी कदम, कश्मीर की वास्तविक समस्या का समाधान नहीं : महबूबा◾बांग्लादेश की आर्थिक प्रगति और समृद्धि के लिए भारत हमेशा एक साझेदार के तौर पर प्रतिबद्ध रहेगा: हर्षवर्धन श्रृंगला ◾कानून मंत्री के सामने ही CJI एनवी रमन्ना ने अदालतों की जर्जर इमारतों पर खड़े किये सवाल ◾CJI एनवी रमन्ना ने किरण रिजिजू के सामने, कानून व्यवस्था को लेकर कही ये बात◾प्रियंका का वादा- अगर कांग्रेस सरकार बनी तो नौकरी और बिजली के साथ किसानों का पूरा कर्ज होगा माफ◾यूपी: अयोध्या कैंट के नाम से जाना जाएगा फैजाबाद रेलवे जंक्शन, CM योगी का फैसला◾ T20 World Cup: महा मुकाबले में पाक को चित करने के लिये तैयार हैं भारतीय खिलाडी◾कोविड टीकाकरण आंकड़ों पर लोगों को गुमराह कर रही है मोदी सरकार, देश को बताएं हकीकत : कांग्रेस◾

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- व्यक्तिगत स्वतंत्रता संवैधानिक जनादेश का है महत्वपूर्ण पहलू

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि महज इसलिए किसी को गिरफ्तार करना कि यह कानूनी रूप से वैध है, इसका यह मतलब नहीं है कि गिरफ्तारी की ही जाए। साथ ही उसने कहा कि व्यक्तिगत स्वतंत्रता संवैधानिक जनादेश का एक महत्वपूर्ण पहलू है।सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर नियमित तौर पर गिरफ्तारी की जाती है तो यह किसी व्यक्ति की प्रतिष्ठा एवं आत्मसम्मान को ‘‘बेहिसाब नुकसान’’ पहुंचा सकती है।

न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति ऋषिकेश रॉय की पीठ ने कहा कि अगर किसी मामले के जांच अधिकारी को यह नहीं लगता कि आरोपी फरार हो जाएगा या सम्मन की अवज्ञा करेगा तो उसे हिरासत में अदालत के समक्ष पेश करने की आवश्यकता नहीं है।

पीठ ने इस हफ्ते की शुरुआत में एक आदेश में कहा, ‘‘हमारा मानना है कि निजी आजादी हमारे संवैधानिक जनादेश का एक महत्वपूर्ण पहलू है। जांच के दौरान किसी आरोपी को गिरफ्तार करने की नौबत तब आती है जब हिरासत में पूछताछ आवश्यक हो जाए या यह कोई जघन्य अपराध हो या ऐसी आशंका हो कि गवाहों को प्रभावित किया जा सकता है या आरोपी फरार हो सकता है।’’

शीर्ष अदालत ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय के एक आदेश के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की। उच्च न्यायालय ने एक मामले में अग्रिम जमानत का अनुरोध करने वाली याचिका खारिज कर दी थी। इस मामले में सात साल पहले प्राथमिकी दर्ज की गयी थी। पीठ ने कहा, ‘‘महज इसलिए किसी को गिरफ्तार करना कि यह कानूनी रूप से वैध है, इसका यह मतलब नहीं है कि गिरफ्तारी की ही जाए। अगर नियमित तौर पर गिरफ्तारी की जाती है तो यह किसी व्यक्ति की प्रतिष्ठा एवं आत्मसम्मान को बेहिसाब नुकसान पहुंचा सकती है।’’

उच्च न्यायालय का आदेश रद्द करते हुए उच्चतम न्यायालय ने कहा कि याचिकाकर्ता अदालत का दरवाजा खटखटाने से पहले जांच में शामिल हुआ था और मामले में आरोपपत्र भी तैयार था। उसने कहा, ‘‘अगर जांच अधिकारी को यह नहीं लगता कि आरोपी फरार हो जाएगा या सम्मन की अवज्ञा करेगा जबकि उसने जांच में सहयोग किया तो हमें यह समझ नहीं आता कि आरोपी को गिरफ्तार क्यों किया जाए।’’

बंगाल हिंसा : न्यायमूर्ति बोले- NHRC के खिलाफ सही नहीं हैं पक्षपात के आरोप, दोषियों को दी जाएगी सजा