BREAKING NEWS

राहुल को सजा मामले को राजनीतिक मुद्दा बनाएगी कांग्रेस, राष्ट्रपति से भी मांगा समय ◾सांसद के भाषण के व्यापक प्रभाव से अपराध की गंभीरता बढ़ जाती है : अदालत ने राहुल मामले में कहा◾भारत और चीन अंतरराष्ट्रीय संबंधों को बेहतर बनाने और उन्हें अधिक लोकतांत्रिक बनाने में मदद करने के लिए मिलकर काम करेंगे◾मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा- Rahul Gandhi को संसद से बाहर रखने का प्रयास हो रहा◾ममता बनर्जी और नवीन पटनायक के बीच हुई लोकतांत्रिक अधिकारों पर चर्चा◾ब्रिटिश केंद्रीय बैंक ने मुद्रास्फीति को नियंत्रण में रखने की कोशिश करने के लिए नीतिगत दर में 0.25 प्रतिशत की वृद्धि की◾ओडिशा विधानसभा में महानदी जल विवाद को लेकर हुआ हंगामा, कार्यवाही को किया गया स्थगित ◾ राहुल की सजा पर NCP ने BJP पर किया पलटवार, बड़बोले देर-सबेर कानून की गिरफ्त में आएंगे◾CM योगी ने कहा- छह सालों में साढ़े पांच लाख से ज्यादा को नौकरी दी ◾राहुल गांधी की सजा के ऐलान पर प्रियंका गांधी ने कहा- 'मेरे भाई न कभी डरे हैं, न कभी डरेंगे...'◾राहुल गांधी के समर्थन में उतरे थे केजरीवाल, 'बीजेपी ने किया तीखा हमला' ◾CM हेमंत सोरेन ने राहुल की सजा पर कहा- धनतंत्र के आगे जनतंत्र की कोई बिसात नहीं◾भाजपा विधायक विजेंद्र गुप्ता ने High Court का दरावाजा खटखटाया◾महाराष्ट्र की विधानसभा में राहुल गांधी के पोस्टर को कथित तौर पर चप्पलों से मारने पर छिड़ा विवाद◾दिल्ली समेत 4 राज्यों में बदले बीजेपी ने अपने प्रदेशाध्यक्ष, 'ये है अब नए चेहरे' ◾Imran Khan ने किया दावा, कहा- हत्या की हो रही है साजिश◾श्रीलंकाई नौसेना ने तमिलनाडु के 12 मछुआरे किए गिरफ्तार, पुदुकोट्टई में जोरदार प्रदर्शन◾CM पुष्कर सिंह धामी बोले- सरकार के कामकाज में तेजी लाने के लिए जवाबदेही तय होगी◾Rahul Gandhi की सजा के खिलाफ कांग्रेस हाईकोर्ट में करेंगी अपील◾CM केजरीवाल ने कहा- मेरे खिलाफ पोस्टर लगाने वालों को गिरफ्तार न करें, मुझे कोई आपत्ति नहीं◾

सुप्रीम कोर्ट आज ट्रैक्टर परेड में हिंसा से जुड़ी याचिकाओं पर करेगा सुनवाई

दिल्ली में गणतंत्र दिवस के दिन  ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा से जुड़ी कुछ याचिकाओं पर उच्चतम न्यायालय आज सुनवाई करेगा। इसमें एक याचिका में घटना की जांच के लिए शीर्ष अदालत के सेवानिवृत्त न्यायाधीश की अध्यक्षता में आयोग बनाने का भी अनुरोध किया गया है। 

केन्द्र के तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग के पक्ष में 26 जनवरी को हजारों की संख्या में किसानों ने ट्रैक्टर परेड निकाली थी, लेकिन कुछ ही देर में दिल्ली की सड़कों पर अराजकता फैल गई। कई जगह प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के अवरोधकों को तोड़ दिया और पुलिस के साथ भी उनकी झड़प हुई। प्रदर्शन में शामिल लोगों ने वाहनों में तोड़ फोड़ की और लाल किले पर एक धार्मिक ध्वज लगा दिया था। प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे और न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना और न्यायमूर्ति वी रामसुब्रमण्यन की पीठ इन याचिकाओं पर सुनवाई करेगी। 

अधिवक्ता विशाल तिवारी द्वारा दाखिल याचिका में शीर्ष अदालत के सेवानिवृत्त न्यायाधीश की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय जांच आयोग गठित करने का अनुरोध किया गया है जो इस मामले में साक्ष्यों को एकत्र करे तथा उन्हें रिकॉर्ड करे और समयबद्ध तरीके से रिपोर्ट न्यायालय में पेश करे। तीन सदस्यीय इस आयोग में उच्च न्यायालय के दो सेवानिवृत्त न्यायाधीशों को शामिल करने का भी आग्रह किया गया है। 

उन्होंने हिंसा और 26 जनवरी को राष्ट्रीय ध्वज के अपमान के लिए जिम्मेदार लोगों अथवा संगठनों के खिलाफ संबंधित धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज करने के वास्ते संबंधित अधिकारियों को निर्देश देने का भी अनुरोध किया है। एक अन्य याचिका अधिवक्ता मनोहर लाल शर्मा ने दाखिल की है। इसमें दावा किया गया है कि किसानों के विरोध प्रदर्शन के खिलाफ साजिश की गयी और बिना किसी सबूत के किसानों को कथित तौर पर ‘‘आतंकवादी’’ बताया गया। शर्मा ने केंद्र और मीडिया को निर्देश जारी कर बिना किसी प्रमाण के झूठे आरोप लगाने और किसानों को आतंकवादी बताने से रोकने का अनुरोध किया है। 

तिवारी और शर्मा के अलावा घटना से संबंधित कुछ अन्य याचिकाओं पर भी न्यायालय सुनवाई करेगा। तिवारी की याचिका में कहा गया है कि तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन दो माह से भी अधिक समय से जारी है और ट्रैक्टर परेड के दौरान इसने ‘‘हिंसक रूप’’ ले लिया। याचिका में कहा गया, ‘‘मामला इसलिए गंभीर है क्योंकि जब किसान आंदोलन दो माह से भी अधिक समय से शांतिपूर्वक चल रहा था तो कैसे यह हिंसक अभियान में तब्दील हो गया और इससे 26 जनवरी को हिंसा हुई। राष्ट्रीय सुरक्षा और जन हित में यह प्रश्न विचारयोग्य है कि अशांति फैलाने के लिए कौन जिम्मेदार है और कैसे और किसने किसानों के शांतिपूर्ण प्रदर्शन को हिंसक अभियान में तब्दील कर दिया या किसने और कैसे ऐसे हालात पैदा कर दिए कि प्रदर्शन हिंसक हो गया।’’ 

इसमें कहा गया कि गणतंत्र दिवस पर पुलिस और किसानों के बीच हुई हिंसा पर पूरी दुनिया की नजरें गई हैं। याचिका में कहा गया, ‘‘दोनों ओर से आरोप लग रहे हैं इसलिए मामले की जांच किसी स्वतंत्र एजेंसी से कराई जानी चाहिए।’’ 

हरियाणा के जींद में किसानों की आज महापंचायत, भाकियू नेता राकेश टिकैत होंगे शामिल