BREAKING NEWS

निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾गार्गी कॉलेज मामले में जांच की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र और CBI को जारी किया नोटिस◾SC ने दिल्ली HC के फैसले पर लगाई मोहर, सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थाई कमीशन◾निर्भया मामले को लेकर आज कोर्ट में सुनवाई, जारी हो सकता है नया डेथ वारंट◾शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए निर्देशों की मांग करने वाली याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज ◾केजरीवाल की तारीफ पर आपस में भिड़े कांग्रेस नेता देवरा - माकन, अलका लांबा ने भी कस दिया तंज ◾महाकाल एक्सप्रेस में शिव मंदिर पर ओवैसी ने पीएम को घेरा, ट्वीट की संविधान की प्रस्तावना ◾चीन : कोरोना वायरस के 2048 नए कन्फर्म मामले सामने आए, मरने वालों का आंकड़ा 1700 के पार पहुंचा◾दिल्ली में 35 राउंड फायरिंग के बाद मुठभेड़ में पुलिस ने दो खूंखार बदमाशों को किया ढेर ◾कन्हैया ने मोदी सरकार पर बोला हमला, कहा - देश पर वर्तमान में शासन करने वाले अंग्रेजों के साथ चाय पे चर्चा किया करते थे◾CAA के खिलाफ विधानसभा में प्रस्ताव पास करेगा तेलंगाना◾शाहीन बाग में बड़ी संख्या में जुटे प्रदर्शनकारी, लेकिन आपसी मतभेद ज्यादा, प्रदर्शन कम◾PAK में गुतारेस की J&K पर की गई टिप्पणी के बाद भारत ने कहा - जम्मू कश्मीर देश का अभिन्न हिस्सा ◾मतभेदों को सुलझाने के लिए कमलनाथ और सिंधिया इस हफ्ते कर सकते है मुलाकात◾अमेरिका राष्ट्रपति की अहमदाबाद यात्रा से पहले AIMC ने जारी किये ‘नमस्ते ट्रंप’ वाले पोस्टर ◾इस साल राज्यसभा में विपक्षी ताकत होगी कम ◾23 फरवरी से 23 मार्च तक उनका दल चलाएगा देशव्यापी अभियान - गोपाल राय◾

अयोध्या मामला : सुप्रीम कोर्ट आज से सुनेगा मुस्लिम पक्षकारों के पक्ष

सुप्रीम कोर्ट अयोध्या के राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद विवाद में आज यानी सोमवार से मुस्लिम पक्षकारों की बहस सुनेगा। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में सभी हिन्दू पक्षों की बहस की सुनवाई 16 दिनों में पूरी कर ली है, जिसमें निर्मोही अखाड़ा और राम लला विराजमान शामिल हैं। 

सुन्नी वक्फ बोर्ड के वरिष्ठ वकील राजीव धवन सोमवार से निर्मोही अखाड़ा और राम लला विराजमान (देवता और उनका जन्म स्थान) के वकीलों की तरफ से पेश की गई बहसों का बिन्दुवार जवाब अदालत के समक्ष पेश करेंगे। धवन ने शुरू में अदालत को बताया था कि वह अपनी बहस 20 दिनों में पूरी करेंगे। इसका अर्थ यह है कि मामले की दैनिक सुनवाई तकनीकी रूप से सितंबर के अंत तक खत्म होगी। 

इससे राजनीतिक रूप से विवादास्पद इस मुद्दे पर अपना फैसला सुनाने के लिए सुप्रीम कोर्ट को एक महीने से अधिक का समय मिल जाएगा। मामले की सुनवाई कर रही पीठ की अध्यक्षता कर रहे प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई 17 नवंबर को सेवानिवृत्त होने वाले हैं। 

मुस्लिम पक्षकार इस मामले में अपनी बहस में विवादास्पद स्थल पर निर्मोही अखाड़े के दावे का प्रतिवाद कर सकते हैं। यह अयोध्या टाइट विवाद की सुनवाई में एक खास चरण हो सकता है, खासतौर से तब जब निर्मोही अखाड़ा ने सुप्रीम कोर्ट से कह दिया है कि वह राम लला विरजमान द्वारा दायर लॉसूट का विरोध नहीं कर रहा। 

निर्मोही अखाड़े के रुख में अचानक यह बदलाव तब आया जब सुप्रीम कोर्ट ने उससे कहा कि संपत्ति पर शेबैत(भक्त) के रूप में उसका अधिकार तभी बन सकता है, जब राम लला विरजमान के मुकदमे की अनुमति हो। अखाड़े के एक सूत्र के अनुसार, मुस्लिम पक्षकार 150 वर्षो से विवादित स्थल पर अखाड़े की उपस्थिति का खंडन करेंगे और यह भी स्थापित करने की कोशिश करेंगे कि मूर्तियां अंदर के आंगन में कभी नहीं थीं, बल्कि उन्हें वहां रखा गया था।