BREAKING NEWS

लॉकडाउन में ढील के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था सामान्य स्थिति में वापस आ रही है : RBI गवर्नर ◾पीएम द्वारा रीवा सौर ऊर्जा परियोजना को एशिया में सबसे बड़ी बताने पर राहुल गांधी ने साधा निशाना ◾पीएम नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ के आगामी कार्यक्रम के लिए जनता से सुझाव आमंत्रित किये◾देश में कोरोना के 27 हजार से अधिक नए मामलों का रिकॉर्ड, संक्रमितों का आंकड़ा सवा आठ लाख के करीब ◾World Corona cases: दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 1.24 करोड़ के पार, अब तक हुई 559,481 मौतें◾J&K : नौशेरा सेक्टर में LOC के पास घुसपैठ की कोशिश नाकाम, दो आतंकवादी ढेर◾UP में आज से फिर लॉकडाउन, गौतमबुद्धनगर DM ने 10 जुलाई से 13 जुलाई तक के लिए जारी की एडवाइजरी◾कांग्रेस सांसदों के साथ आज वर्चुअल बैठक करेंगी सोनिया, इन मुद्दों पर होगी चर्चा ◾कांग्रेस का आरोप- खरीद फरोख्त से गहलोत सरकार को गिराने की साजिश रच रही है BJP◾राहुल गांधी की सरकार से मांग, कहा- चीन की घुसपैठ की शिनाख्त के लिए स्वतंत्र तथ्यान्वेषी मिशन की अनुमति दी जाए◾भाजपा ने केजरीवाल सरकार पर साधा निशाना, कहा- केंद्र के हस्तक्षेप के कारण दिल्ली में कोरोना स्थिति सुधरीं◾महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट जारी, बीते 24 घंटे में रिकॉर्ड 7,862 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 2.38 लाख के पार◾दिल्ली में कोरोना के 2089 नए मामले की पुष्टि, 42 लोगों की मौत ◾विकास दुबे के एनकाउंटर पर राहुल गांधी का शायराना तंज- 'कई जवाबों से अच्छी खामोशी उसकी'◾एनकाउंटर के दौरान विकास दुबे को 3 सीने में और 1 हाथ में लगी थी गोली◾Vikas Dubey Encounter : कानपुर शूटआउट से लेकर हिस्ट्रीशीटर के खात्मे तक, जानिए हर दिन का घटनाक्रम◾STF की गाड़ी पलटने के बाद विकास दुबे ने की भागने की कोशिश, एनकाउंटर में मारा गया हिस्ट्रीशीटर ◾World Corona : विश्व में संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 25 लाख के करीब, साढ़े पांच लाख से अधिक की मौत ◾विकास दुबे के एनकाउंटर पर बोले दिग्विजय-जिसका शक था वह हो गया◾विकास दुबे के एनकाउंटर पर बोले अखिलेश- कार नहीं पलटी बल्कि सरकार पलटने से बचाई गयी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

बातचीत सही दिशा में आगे बढ़ रही है : ठाकरे ने कांग्रेस नेताओं से मुलाकात के बाद कहा

शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने बुधवार को यहां महाराष्ट्र कांग्रेस के नेताओं से मुलाकात की और कहा कि राज्य में सरकार गठन को लेकर बातचीत ‘‘सही दिशा’’ में आगे बढ़ रही है तथा उचित समय आने पर फैसला लिया जाएगा। 

बहरहाल, महाराष्ट्र कांग्रेस प्रमुख बालासाहेब थोराट ने ठाकरे के साथ बैठक को ‘‘शिष्टाचार भेंट’’ बताया और कहा कि वे मिल रहे हैं यह अपने आप में ‘‘सकारात्मक’’ कदम है। 

ठाकरे ने उपनगर के एक होटल में थोराट, राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चह्वाण और वरिष्ठ कांग्रेस नेता माणिकराव ठाकरे से मुलाकात की। 

राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू होने के एक दिन बाद हुई यह बैठक करीब एक घंटे तक चली। 

ठाकरे ने कांग्रेस नेताओं के साथ बैठक के बाद होटल से बाहर आने पर पत्रकारों से कहा, ‘‘सब कुछ ठीक चल रहा है। बातचीत सही दिशा में चल रही है और उचित समय आने पर फैसले की घोषणा की जाएगी।’’ 

बाद में जब थोराट से पूछा गया कि क्या बैठक नयी सरकार के गठन की दिशा में सकारात्मक रही, इस पर उन्होंने कहा, ‘‘उद्धव ठाकरे के साथ हमारी बैठक शिष्टाचार भेंट थी। हम मुलाकात कर रहे हैं, यह बात अपने आप में सकारात्मक कदम है।’’ 

माणिकराव ठाकरे ने पीटीआई-भाषा से कहा कि आगे की बातचीत के लिए ‘‘मैत्रीपूर्ण माहौल’’ बनाने के वास्ते यह बैठक हुई। 

ठाकरे के साथ बैठक से पहले मंगलवार को एआईसीसी नेताओं अहमद पटेल, के सी वेणुगोपाल, मल्लिकार्जुन खड़गे की राकांपा प्रमुख शरद पवार के साथ बैठक हुई थी जिसमें शिवसेना के साथ सरकार गठन के लिए ‘न्यूनतम साझा कार्यक्रम’ (सीएमपी) तैयार करने के मुद्दे पर चर्चा हुई थी। 

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस और राकांपा को परस्पर सहमति पर पहुंचना होगा और साझा एजेंडे के लिए कुछ मुद्दे को स्पष्ट करना पड़ेगा और फिर अगर जरूरत पड़ी तो शिवसेना से दोबारा संपर्क करेंगे।’’ 

थोराट ने कहा कि राकांपा ने ‘न्यूनतम साझा कार्यक्रम’ तय करने के लिए बनायी जाने वाली एक संयुक्त समिति के लिए अपने पांच सदस्यों को नामित कर दिया है और कांग्रेस भी जल्द अपने सदस्यों को नामित करेगी। 

उन्होंने कहा कि कांग्रेस उम्मीद करती है कि विचार-विमर्श जल्द ही खत्म हो। 

ठाकरे ने मंगलवार को कहा कि अगर कांग्रेस तथा राकांपा के समर्थन से सरकार बनती है तो शिवसेना को उनकी तरह न्यूनतम साझा कार्यक्रम पर स्पष्टता की आवश्यकता है। 

ठाकरे ने कहा, ‘‘हमें छह महीने मिले हैं। शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस एक साथ बैठेंगे और सीएमपी पर काम करेंगे। शिवसेना और कांग्रेस-राकांपा के कई मुद्दों पर अलग-अलग विचार हैं...वे इसपर काम करेंगे और सरकार गठन का दावा पेश करेंगे।’’ 

शिवसेना राज्य विधानसभा में भाजपा की 105 सीटों के बाद 56 सीटों के साथ दूसरी सबसे बड़ी पार्टी है। अगर वह राकांपा (54) और कांग्रेस (44) के साथ आती है तो तीनों दल 288 सदस्यीय सदन में बहुमत के 145 के आंकड़े को आसानी से पार कर सकते हैं। 

सत्ता साझेदारी को लेकर भाजपा और शिवसेना के बीच तनातनी के बाद राज्य में राजनीतिक अनिश्चितता पैदा हो गयी है। उनके गठबंधन को 21 अक्टूबर को हुए विधानसभा चुनाव में बहुमत मिला था।