BREAKING NEWS

वीडियो लिंक के जरिए ब्रिटेन की अदालत में पेश होगा भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी ◾जापान पहुंचे PM मोदी, भारतीय समुदाय ने किया गर्मजोशी से स्वागत ◾14वां G-20 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने जापान रवाना हुए PM मोदी◾पाकिस्तान समेत एशिया-प्रशांत समूह के सभी देशों ने किया भारत का समर्थन◾World Cup 2019 PAK vs NZ : पाक ने न्यूजीलैंड का रोका विजय रथ , नाकआउट की उम्मीद बढ़ायी ◾काफिले का मार्ग बाधित करने को लेकर थर्मल पावर के कर्मचारियों पर भड़के कुमारस्वामी ◾जयशंकर ने S-400 समझौते पर पोम्पिओ से कहा : भारत अपने राष्ट्रीय हितों को रखेगा सर्वोपरि◾‘जय श्रीराम’ का नारा नहीं लगाने पर ट्रेन से धकेल दिये गये 3 लोगों को ममता देंगी मुआवजा◾RAW चीफ बने 1984 बैच के IPS सामंत गोयल, अरविंद कुमार बनाए गए IB डायरेक्टर◾कांग्रेस ने राज्यसभा चुनाव में वैष्णव को BJD के समर्थन पर CM से स्पष्टीकरण मांगा ◾बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय का MLA बेटा पहुंचा जेल, अधिकारी से की थी मारपीट◾पलायन रोकने के लिए गांवों का हो विकास : गडकरी◾दुष्कर्म मामले में केरल के CPI (M) नेता के बेटे के खिलाफ जारी किया लुकआउट नोटिस◾कैलाश मानसरोवर तीर्थयात्री नेपाल में फंसे, यात्रा संचालकों पर लगाया कुप्रबंधन का आरोप ◾विपक्ष त्यागे नकारात्मकता, विकास यात्रा में दे सहयोग : पीएम मोदी ◾Top 20 News - 26 June : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें ◾एक देश एक चुनाव व्यवहारिक नहीं : कांग्रेस ◾नई ऊंचाइयों पर पहुंच रही है अमेरिका-भारत के बीच साझेदारी : माइक पोम्पियो◾दुखद और शर्मनाक है बिहार में चमकी बुखार से हुई बच्चों की मौत : PM मोदी ◾इंदौर: BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश ने नगर निगम अफसरों को बल्ले से पीटा◾

देश

डायरिया से होने वाली बच्चों की मौतों को 2022 तक शून्य पर लाने का लक्ष्य : हर्षवर्धन

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने वर्ष 2022 तक देश में डायरिया की वजह से होने वाली बच्चों की मौतों को शून्य स्तर पर लाने के लिए नयी रणनीतियों और नवोन्मेषी हस्तक्षेपों की आवश्यकता पर बल दिया है। 


उन्होंने देश में प्रजननात्मक, मातृत्व, नवजात, बाल, किशोर और पोषण, (आरएमएनसीएएच प्लस एन) हस्तक्षेपों की समीक्षा के एक कार्यक्रम में कहा, ‘‘किसी बच्चे को डायरिया से मरने नहीं दिया जायेगा। सरकार इसे 2022 तक रोकने के लिए तुरंत एवं सतत प्रयास करेगी।’’ 

उन्होंने प्रधानमंत्री के ‘न्यू इंडिया’ के लक्ष्य को पूरा करने के लिए एक समावेशी दृष्टिकोण अपनाने का सुझाव दिया। उन्होंने मातृत्व मृत्यु जैसे समस्याओं से मुक्ति पाने के लिए एक जन आंदोलन की आवश्यकता पर बल दिया।