BREAKING NEWS

संतोष गंगवार ने कहा- नौकरी के लिये योग्य युवाओं की कमी, मायावती ने किया पलटवार ◾पाकिस्तान ने इस साल 2050 बार किया संघर्षविराम उल्लंघन, मारे गए 21 भारतीय◾संतोष गंगवार के 'नौकरी' वाले बयान पर प्रियंका का पलटवार, बोलीं- ये नहीं चलेगा◾CM विजयन ने हिंदी भाषा पर बयान को लेकर की अमित शाह की आलोचना, दिया ये बयान◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में 'अप्रत्याशित जीत' हासिल करने के लिए तैयार है BJP : फडणवीस◾ देश में रोजगार की कमी नहीं बल्कि उत्तर भारतीयों में है योग्यता की कमी : संतोष गंगवार ◾ममता बनर्जी पर हमलावर हुए BJP विधायक सुरेंद्र सिंह, बोले- होगा चिदंबरम जैसा हश्र◾International Day of Democracy: ममता का मोदी सरकार पर वार, आज के दौर को बताया 'सुपर इमरजेंसी'◾शरद पवार बोले - जो प्यार पाकिस्तान से मिला है, वैसा कहीं नहीं मिला◾इमरान खान ने माना, भारत से हुआ युद्ध तो हारेगा पाकिस्तान◾मंत्रियों के अटपटे बयानों से अर्थव्यवस्था का कल्याण नहीं होगा : यशवंत सिन्हा◾अर्थव्यवस्था में सुस्ती पर बोले नितिन गडकरी - मुश्किल वक्त है बीत जाएगा◾शिवपाल यादव की कमजोरी में खुद की मजबूती देख रही समाजवादी पार्टी◾चिन्मयानंद मामला : पीड़िता ने एसआईटी को सौंपे 43 वीडियो, स्वामी को बताया 'ब्लैकमेलर'◾हरियाणा के लिए कांग्रेस ने गठित की स्क्रीनिंग कमेटी ◾काशी, मथुरा में मस्जिद हटाने के लिए दी जाएगी अलग जमीन : स्वामी ◾सारदा मामला : कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त CBI के समक्ष नहीं हुए पेश◾कांग्रेस 2 अक्टूबर को करेगी पदयात्रा◾अमित शाह 18 सितंबर को जामताड़ा से रघुवर दास की जनआशीर्वाद यात्रा करेंगे शुरू◾PAK ने आतंकवाद को नहीं रोका तो उसके टुकड़े होने से कोई नहीं रोक सकता : राजनाथ ◾

देश

डायरिया से होने वाली बच्चों की मौतों को 2022 तक शून्य पर लाने का लक्ष्य : हर्षवर्धन

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने वर्ष 2022 तक देश में डायरिया की वजह से होने वाली बच्चों की मौतों को शून्य स्तर पर लाने के लिए नयी रणनीतियों और नवोन्मेषी हस्तक्षेपों की आवश्यकता पर बल दिया है। 



उन्होंने देश में प्रजननात्मक, मातृत्व, नवजात, बाल, किशोर और पोषण, (आरएमएनसीएएच प्लस एन) हस्तक्षेपों की समीक्षा के एक कार्यक्रम में कहा, ‘‘किसी बच्चे को डायरिया से मरने नहीं दिया जायेगा। सरकार इसे 2022 तक रोकने के लिए तुरंत एवं सतत प्रयास करेगी।’’ 


उन्होंने प्रधानमंत्री के ‘न्यू इंडिया’ के लक्ष्य को पूरा करने के लिए एक समावेशी दृष्टिकोण अपनाने का सुझाव दिया। उन्होंने मातृत्व मृत्यु जैसे समस्याओं से मुक्ति पाने के लिए एक जन आंदोलन की आवश्यकता पर बल दिया।