BREAKING NEWS

राफेल मामले में केंद्र सरकार को मिली राहत, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की पुनर्विचार याचिका◾पेट्रोल के दाम में एक बार फिर हुआ इजाफा, डीजल के भाव स्थिर ◾दिल्ली में हवा फिर हुई जहरीली, लोधी रोड इलाके में 500 के पार पहुंचा AQI◾देश के प्रथम PM पंडित जवाहरलाल नेहरू की 130वीं जयंती, सोनिया सहित कांग्रेस के बड़े नेताओं ने दी श्रद्धांजलि◾सुप्रीम कोर्ट आज सबरीमाला-राफेल और राहुल गांधी के बयान पर सुनाएगा फैसला ◾PM मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से की भेंट ◾ भाजपा के शीर्ष नेताओं ने दिल्ली इकाई के नेताओं के साथ विधानसभा चुनाव को लेकर चर्चा की ◾पुतिन ने मोदी को मई में विजय दिवस समारोह के लिए किया आमंत्रित ◾नगा मुद्दा : मणिपुर के कांग्रेस विधायक सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री से मिलने पहुंचे दिल्ली◾महाराष्ट्र : कांग्रेस, राकांपा ने सीएमपी पर बनाई कमेटी, भाजपा भी नाउम्मीद नहीं ◾अमित शाह ने विपक्ष पर ‘‘कोरी राजनीति’’ करने का लगाया आरोप, कहा- किसी दल के पास बहुमत हो तो कर सकता है दावा ◾अयोध्या पर उच्चतम न्यायालय के फैसले को मुख्यमंत्री योगी ने बताया स्वर्णाक्षरों में लिखे जाने वाला ◾पेट में दर्द की शिकायत के बाद मुलायम पीजीआई में भर्ती ◾महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए शिवसेना और कांग्रेस-NCP के बीच बातचीत जारी◾SC के पैनल ने दिल्ली-NCR में 15 नवंबर तक स्कूल बंद रखने का दिया आदेश◾प्रधानमंत्री मोदी को ब्रिक्स सम्मेलन से आर्थिक, सांस्कृतिक संबंध मजबूत होने की उम्मीद ◾TOP 20 NEWS 11 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾बातचीत सही दिशा में आगे बढ़ रही है : ठाकरे ने कांग्रेस नेताओं से मुलाकात के बाद कहा ◾JNU ने वापस लिया शुल्क बढ़ोतरी का फैसला, आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों के लिए योजना की प्रस्तावित ◾सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, RTI के दायरे में आएगा CJI का दफ्तर◾

देश

तारिगामी व उनके परिजन वास्तव में हाउस अरेस्ट : येचुरी

मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के महासचिव सीताराम येचुरी ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफनामे में कहा कि जम्मू-कश्मीर के पूर्व विधायक मोहम्मद यूसुफ तारिगामी व उनके परिवार (पोते-पोतियों सहित) की गिरफ्तारी वास्तव में हाउस अरेस्ट है। 

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति एस. ए. बोबडे और न्यायमूर्ति एस. अब्दुल नजीर की पीठ ने 28 अगस्त को येचुरी को कश्मीर जाने और तारिगामी से मिलने की अनुमति दी थी। अदालत ने येचुरी से राज्य की अपनी यात्रा पर एक रिपोर्ट देने को भी कहा था। 

येचुरी द्वारा दायर हलफनामे में कहा गया, 'तारिगामी ने दावा किया कि उनके परिवार और पोता-पोती वास्तव में हिरासत में लिए गए हैं। सुरक्षा अधिकारियों द्वारा प्रतिबंध है, इसलिए न तो किसी को घर में घुसने दिया जाता है और न ही बाहर जाने दिया जाता है। उनके पास श्रीनगर या भारत के बाकी हिस्सों में अपने परिवार और दोस्तों के साथ संवाद करने का कोई साधन नहीं है।'

 

येचुरी ने पांच अगस्त को अनुच्छेद-370 के निरस्त होने के मद्देनजर तारिगामी की नजरबंदी को चुनौती देते हुए बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की थी। याचिका में यह भी कहा गया है कि तारिगामी का स्वास्थ्य बेहतर नहीं है और येचुरी उनसे मिलना चाहते हैं। 

हलफनामे में यह भी कहा गया कि तारिगामी के साथ बातचीत के पहले घंटे के दौरान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) भी बिना बुलाए कमरे में बैठे थे। उनकी उपस्थिति हालांकि बिल्कुल भी अनिवार्य नहीं थी। 

येचुरी ने दावा किया कि पुलिस अधिकारी ने उन्हें बताया कि तारिगामी के खिलाफ कोई आरोप नहीं लगाया गया है और उन्हें हिरासत में नहीं लिया गया है, बल्कि वह स्वतंत्र हैं। 

इस अधिकारी की उपस्थिति में तारिगामी ने संकेत दिया कि उनके जेड प्लस सुरक्षा संबंधित वाहनों को वापस ले लिया गया है। इसके साथ ही उन्हें कोई हिरासत आदेश भी नहीं दिखाया गया। 

येचुरी ने कहा कि एंडोक्राइनोलॉजिस्ट की उपलब्धता नहीं होने के कारण उनके सहयोगी की मधुमेह की जांच नहीं हो सकी। अधिकारियों ने येचुरी को सूचित किया कि वह अपने सहयोगी के घर पर रात भर नहीं रह सकते। 

शीर्ष अदालत ने गुरुवार को बीमार माकपा नेता तारिगामी को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में स्थानांतरित करने का आदेश देते हुए कहा कि उनका स्वास्थ्य सर्वोच्च प्राथमिकता है।