BREAKING NEWS

अनुभवहीनता और गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक मंदी - कमलनाथ◾वायुसेना प्रमुख ने अभिनंदन की शीघ्र रिहाई का श्रेय राष्ट्रीय नेतृत्व को दिया ◾न तो कोई भाषा थोपिए और न ही किसी भाषा का विरोध कीजिए : उपराष्ट्रपति का लोगों से अनुरोध◾अनुच्छेद 370 फैसला : केंद्र के कदम से श्रीनगर में आम आदमी दिल से खुश - केंद्रीय मंत्री◾TOP 20 NEWS 20 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾राहुल का प्रधानमंत्री पर तंज, कहा- ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम ‘आर्थिक बदहाली’ को नहीं छिपा सकता◾रेप के अलावा चिन्मयानंद ने कबूले सभी आरोप, कहा-किए पर हूं शर्मिंदा◾डराने की सियासत का जरिया है NRC, यूपी में कार्रवाई की गई तो सबसे पहले योगी को छोड़ना पड़ेगा प्रदेश : अखिलेश यादव◾नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव में NDA की बड़ी जीत का किया दावा, कहा- गठबंधन में दरार पैदा करने वालों का होगा बुरा हाल◾कॉरपोरेट कर में कटौती ‘ऐतिहासिक कदम’, मेक इन इंडिया में आयेगा उछाल, बढ़ेगा निवेश : PM मोदी◾PM मोदी और मंगोलियाई राष्ट्रपति ने उलनबटोर स्थित भगवान बुद्ध की मूर्ति का किया अनावरण◾कांग्रेस नेता ने कारपोरेट कर में कटौती का किया स्वागत, निवेश की स्थिति बेहतर होने पर जताया संदेह◾वित्त मंत्री की घोषणा से झूमा शेयर बाजार, सेंसेक्स 1900 अंक उछला◾पीड़िता की आत्मदाह की धमकी और जनता के दबाव में हुई चिन्मयानंद की गिरफ्तारी : प्रियंका गांधी ◾यौन शोषण के आरोप में 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे गए चिन्मयानंद, 3 और गिरफ्तार◾सरकार ने घरेलू कंपनियों के लिए कॉरपोरेट कर की दर घटाकर की 25.17 प्रतिशत : वित्तमंत्री◾कश्मीर मुद्दे को उठाकर पाकिस्तान नीचे गिरेगा, तो हम ऊंचा उठेंगे : सैयद अकबरुद्दीन ◾शाहजहांपुर यौन शोषण केस में आरोपी स्वामी चिन्मयानंद गिरफ्तार◾अमेरिका : व्हाइट हाउस के नजदीक गोलीबारी में 1 की मौत, 5 घायल◾LIC का पैसा घाटे वाली कंपनियों में लगा रही है मोदी सरकार : प्रियंका गांधी ◾

देश

तारिगामी व उनके परिजन वास्तव में हाउस अरेस्ट : येचुरी

मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के महासचिव सीताराम येचुरी ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफनामे में कहा कि जम्मू-कश्मीर के पूर्व विधायक मोहम्मद यूसुफ तारिगामी व उनके परिवार (पोते-पोतियों सहित) की गिरफ्तारी वास्तव में हाउस अरेस्ट है। 

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति एस. ए. बोबडे और न्यायमूर्ति एस. अब्दुल नजीर की पीठ ने 28 अगस्त को येचुरी को कश्मीर जाने और तारिगामी से मिलने की अनुमति दी थी। अदालत ने येचुरी से राज्य की अपनी यात्रा पर एक रिपोर्ट देने को भी कहा था। 

येचुरी द्वारा दायर हलफनामे में कहा गया, 'तारिगामी ने दावा किया कि उनके परिवार और पोता-पोती वास्तव में हिरासत में लिए गए हैं। सुरक्षा अधिकारियों द्वारा प्रतिबंध है, इसलिए न तो किसी को घर में घुसने दिया जाता है और न ही बाहर जाने दिया जाता है। उनके पास श्रीनगर या भारत के बाकी हिस्सों में अपने परिवार और दोस्तों के साथ संवाद करने का कोई साधन नहीं है।'

 

येचुरी ने पांच अगस्त को अनुच्छेद-370 के निरस्त होने के मद्देनजर तारिगामी की नजरबंदी को चुनौती देते हुए बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की थी। याचिका में यह भी कहा गया है कि तारिगामी का स्वास्थ्य बेहतर नहीं है और येचुरी उनसे मिलना चाहते हैं। 

हलफनामे में यह भी कहा गया कि तारिगामी के साथ बातचीत के पहले घंटे के दौरान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) भी बिना बुलाए कमरे में बैठे थे। उनकी उपस्थिति हालांकि बिल्कुल भी अनिवार्य नहीं थी। 

येचुरी ने दावा किया कि पुलिस अधिकारी ने उन्हें बताया कि तारिगामी के खिलाफ कोई आरोप नहीं लगाया गया है और उन्हें हिरासत में नहीं लिया गया है, बल्कि वह स्वतंत्र हैं। 

इस अधिकारी की उपस्थिति में तारिगामी ने संकेत दिया कि उनके जेड प्लस सुरक्षा संबंधित वाहनों को वापस ले लिया गया है। इसके साथ ही उन्हें कोई हिरासत आदेश भी नहीं दिखाया गया। 

येचुरी ने कहा कि एंडोक्राइनोलॉजिस्ट की उपलब्धता नहीं होने के कारण उनके सहयोगी की मधुमेह की जांच नहीं हो सकी। अधिकारियों ने येचुरी को सूचित किया कि वह अपने सहयोगी के घर पर रात भर नहीं रह सकते। 

शीर्ष अदालत ने गुरुवार को बीमार माकपा नेता तारिगामी को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में स्थानांतरित करने का आदेश देते हुए कहा कि उनका स्वास्थ्य सर्वोच्च प्राथमिकता है।