BREAKING NEWS

किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हुई कामयाब : हन्नान मोल्लाह◾किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा में 300 पुलिसकर्मी हुए घायल, क्राइम ब्रांच करेगी जांच◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : संयुक्त किसान मोर्चा ने बुलाई बैठक, सभी पहलुओं पर होगी चर्चा ◾DND फ्लाईओवर पर लगा भारी जाम, लाल किला मेट्रो स्टेशन की एंट्री व एग्जिट बंद ◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे में 12 हजार नए केस, 137 मरीजों की हुई मौत ◾वीडियो वायरल होने के बाद बोले राकेश टिकैत-लाठी कोई हथियार नहीं◾विश्व में कोरोना का प्रकोप जारी, मरीजों का आंकड़ा 10 करोड़ से पार ◾किसानों की ट्रैक्टर परेड में बवाल, दिल्ली पुलिस ने हिंसा के मामले में 22 FIR दर्ज की ◾TOP 5 NEWS 27 DECEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾राकांपा अध्यक्ष शरद पवार बोले- दिल्ली में जो कुछ हुआ, उसका समर्थन नहीं किया जा सकता ◾संयुक्त किसान मोर्चा ने की दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान भड़की हिंसा की निंदा ◾आज का राशिफल (27 जनवरी 2021)◾ट्रैक्टर मार्च के दौरान हिंसा के बाद इंटरनेट सेवाएं बंद◾दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा, लालकिले में भी प्रदर्शनकारियों ने मचाया उत्पात ◾प्रदर्शनकारी किसानों की ‘ट्रैक्टर परेड’ के दौरान हिंसा में 86 पुलिसकर्मी घायल हुए◾ट्रैक्टर परेड के बाद किसानों ने दिल्ली की सीमाओं पर अपने प्रदर्शन शिविरों में लौटना शुरू किया◾बवाल : गाजीपुर, सिंघू, टिकरी बॉर्डर से बैरिकेड तोड़ दिल्ली में घुसे किसान, पुलिस ने दागे आंसूगैस के गोले ◾राजपथ पर अत्याधुनिक हथियार, मिसाइल, लड़ाकू विमानों, भारतीय सैनिकों ने दिखाई भारत की ताकत ◾72वां गणतंत्र दिवस : राजपथ पर दिखी ऐतिहासिक विरासत, सांस्कृतिक धरोहर और शौर्य की झलक◾पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने देशवासियों को गणतंत्र दिवस की दी शुभकामनाएं ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

केंद्रीय श्रमिक संघों के कर्मचारी दो दिन की हड़ताल पर, बैंकिंग समेत कई सेवाओं पर पड़ेगा असर

सरकार के एक तरफा श्रम सुधार और श्रमिक-विरोधी नीतियों के विरोध में केंद्रीय श्रमिक संघों ने मंगलवार से दो दिन की देशव्यापी हड़ताल का आहवान किया है। संघों ने एक संयुक्त बयान में सोमवार को जानकारी दी कि करीब लाखों की संख्या में कर्मचारी इस हड़ताल में शामिल होंगे। एटक की महासचिव अमरजीत कौर ने 10 केंद्रीय श्रमिक संघों की एक प्रेस वार्ता में पत्रकारों से कहा कि मंगलवार से शुरू हो रही दो दिन की हड़ताल के लिए 10 केंद्रीय श्रमिक संघों ने हाथ मिलाया है।

उन्होंने कहा कि भाजपा नीत सरकार की जनविरोधी और श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ इस हड़ताल में सबसे ज्यादा संख्या में संगठित और असंगठित क्षेत्र के कर्मचारी शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि दूरसंचार, स्वास्थ्य, शिक्षा, कोयला, इस्पात, बिजली, बैंकिंग, बीमा और परिवहन क्षेत्र के लोगों के इस हड़ताल में शामिल होने की उम्मीद है।

कौर ने कहा कि हम बुधवार को नई  दिल्ली में मंडी हाउस से संसद भवन तक विरोध जुलूस निकालेंगे। इसी तरह के अन्य अभियान देशभर में चलाए जाएंगे। कौर ने कहा कि केंद्रीय श्रमिक संघ एकतरफा श्रम सुधारों का भी विरोध करती हैं। उन्होंने कहा कि हमने सरकार को श्रम संहिता पर सुझाव दिए थे। लेकिन चर्चा के दौरान श्रमिक संघों के सुझाव को दरकिनार कर दिया गया।

Central Trade Unions strike

हमने दो सितंबर 2016 को हड़ताल की। हमने नौ से 11 नवंबर 2017 को ‘महापड़ाव’ भी डाला, लेकिन सरकार बात करने के लिए आगे नहीं आई और एकतरफा श्रम सुधार की ओर आगे बढ़ गई। इस हड़ताल में इंटक, एटक, एचएमएस, सीटू, एआईयूटीयूसी, टीयूसीसी, सेवा, एआईसीसीटीयू, एलपीएफ और यूटीयूसी शामिल हो रहे हैं।

हड़ताल से अरबों का कारोबार प्रभावित होने की संभावना

इस बंद से न केवल बैंक बल्कि बस, ट्रेन, ऑटो, बाजार और अन्य जगह पर असर पड़ने की संभावना है। बंद से अरबों रुपये का कारोबार भी प्रभावित होने की संभावना है। इस वजह से बुलाया गया बंद मजदूर संगठन केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ बंद करेंगे। संगठनों का आरोप है कि नोटबंदी, जीएसटी से व्यापारियों को काफी मुश्किल से अपना व्यापार करना पड़ रहा है और केंद्र सरकार व्यापारियों के खिलाफ दमनकारी नीति चला रही है।

मुंबई : तमाम मुद्दों पर बेस्ट कर्मचारी हड़ताल पर, बस स्टॉप पर यात्री कर रहे है इंतजार

किसान भी हुए लामबंद : मार्क्सवादी कम्यूनिस्ट पार्टी की किसान सभा से जुड़े किसान भी इस बंद में हिस्सा लेंगे। वहीं इस बंद के दौरान देश भर में रेल रोको आंदोलन भी चलाया जाएगा। किसानों का संपूर्ण कर्ज माफी व 3500 रुपये मासिक बेरोजगारी भत्ता देने की मांग व कई मुद्दे इस हड़ताल में शामिल किए गए है।

किसानों के समर्थन पर उन्होंने कहा कि इसमें आम लोग, श्रमिक, प्राइवेट कर्मी शामिल हो रहे हैं। इसी को देखते हुए किसानों ने अपना समर्थन दिया है। क्योंकि वह भी परेशान हो चुके हैं। किसान अपने-अपने क्षेत्रों में रोड जाम करेंगे जिससे कि देशव्यापी हड़ताल सफल हो सके।सीआईटीयू के महासचिव तपन सेन ने बताया कि इस आंदोलन में पब्लिक सेक्टर, लघु उद्योग बंदरगाह पर काम करने वाले कर्मी, बैंक कर्मी इंश्योरेंस कर्मी शामिल होंगे।