BREAKING NEWS

आज का राशिफल ( 27 मई 2022)◾त्यागराज स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS अधिकारी संजीव खिरवार का लद्दाख ट्रांसफर, पत्नी का अरुणाचल तबादला◾PM मोदी के नेतृत्व और सशस्त्र बलों के योगदान ने भारत के प्रति दुनिया के नजरिये को बदला : राजनाथ◾PM मोदी ने तमिल भाषा का किया जिक्र , स्टालिन ने ‘सच्चे संघवाद’ को लेकर साधा निशाना◾भारत, यूएई ने जलवायु कार्रवाई के लिए समझौता ज्ञापन पर किए हस्ताक्षर ◾J&K : कश्मीर में टीवी कलाकार की हत्या में शमिल दो आतंकवादी सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में घिरे◾J&K : कुपवाड़ा में सेना ने घुसपैठ का प्रयास किया विफल , तीन आतंकवादी मारे गए, पोर्टर की भी मौत◾PM मोदी ने ‘परिवारवाद’ के कटाक्ष से राव को घेरा, तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने ‘भाषणबाजी’ का लगाया आरोप◾टीएमसी का दावा, दिलीप घोष को बंगाल से बाहर किया जा रहा है, भाजपा का पलटवार◾ मूडीज ने भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान घटाया, आसमान छू रही महंगाई पर जताई चिंता◾ Tamil Nadu: चेन्नई पहुंचे PM मोदी ,हुआ जोरदार स्वागत, रोड शो में उमड़ी हजारों की भीड़◾तेलंगाना के CM चंद्रशेखर राव ने एच डी देवेगौड़ा से की मुलाकात, जानें- किन मुद्दों पर हुई चर्चा◾J&K News: सुंजवां हमले में शामिल एक आतंकवादी को NIA ने किया गिरफ्तार, जैश ए मोहम्मद से जुड़े थे तार◾Monkeypox Virus: कनाडा में मंकीपॉक्स ने दी दस्तक! यहां देखें- कितने मामले सामने आए◾यासीन मलिक को उम्रकैद की सजा सुनाने के बाद फेंके थे पत्थर, लेकिन अब पुलिस के सामने पकड़े कान◾सुप्रीम कोर्ट ने वेश्यावृत्ति को माना प्रोफेशन, पुलिस को दी हिदायत... जारी हुए सख्त निर्देश, जानें क्या कहा ◾ गवर्नर की जगह अब CM होंगी स्टेट यूनिवर्सिटी की चांसलर, ममता बनर्जी कैबिनेट की बैठक में हुआ फैसला◾नवजोत सिंह सिद्धू का पटियाला जेल में बज गया बैंड, मिला क्लर्क का काम, जानें कितना होगा वेतन ◾ Gyanvapi Masjid: यहां जानें 2 घंटे चली वाराणसी जिला कोर्ट की बहस में क्या हुआ, अब सोमवार तक टली सुनवाई◾पाकिस्तान को 'मॉडर्न देश' बनाना चाहते हैं जरदारी! भारत और अन्य देशों से जारी संघर्षों पर कही यह बात ◾

राज्यसभा में उठा इन तीन राज्यों में भारी बारिश का मुद्दा, कांग्रेस ने सरकार से की तत्काल राहत देने की मांग

संसद के शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन राज्यसभा में विपक्षी ने काफी हंगामा किया। केंद्र की मोदी सरकार को कई सियासी मुद्दों पर घेरने वाली कांग्रेस ने इसी बीच एक अहम मुद्दा सदन के समक्ष उठाया। इसके साथ ही विभिन्न दलों के सदस्यों ने आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और तमिलनाडु में बीते एक महीने के दौरान हुई भारी बारिश और इससे हुए जानमाल के नुकसान का मुद्दा उठाया तथा केंद्र सरकार से आर्थिक मदद दिए जाने की मांग की ताकि लोगों को राहत मुहैया कराई जा सके। 

प्राकृतिक आपदा की वजह से राज्य में तबाही मची है 

वहीं, दूसरी तरफ, सत्र के शून्यकाल के दौरान उच्च सदन में तमिल मनीला कांग्रेस के जी के वासन ने तमिलनाडु में भीषण बारिश का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि एक माह से इस प्राकृतिक आपदा की वजह से राज्य में तबाही मची है और जनजीवन बाधित हो गया है। उन्होंने कहा कि चेन्नई, कांचीपुरम, तिरूवल्लूर में 100 साल से अधिक समय में ऐसी बारिश नहीं देखी गई। वासन ने कहा कि बारिश के कारण नदी नाले उफान पर हैं, कावेरी डेल्टा तबाह हो गया है, स्कूल-कालेज, विभिन्न संस्थान आदि बंद हैं और बड़ी संख्या में लोग विस्थापित हुए हैं।  

छह दशक बाद राज्य में ऐसी बारिश हुई है 

उन्होंने केंद्र सरकार से मांग की कि वह अपने दल राज्य में भेजे और राज्य को तत्काल वित्तीय सहायता दे ताकि लोगों को अपेक्षित मदद दी जा सके और नए सिरे से शुरुआत की जा सके। भाजपा सदस्य के सी राममूर्ति ने कर्नाटक में बारिश से हुई तबाही का जिक्र करते हुए कहा कि छह दशक बाद राज्य में ऐसी बारिश हुई है और इससे हुआ जानमाल का नुकसान अकल्पनीय है। 

ओमीक्रॉन को लेकर केंद्र ने अपनाया सख्त रवैया, सभी राज्यों को दिए जांच बढ़ाने समेत कई निर्देश, जानें क्या कहा

उन्होंने कहा कि बारिश से फसल तबाह हो गई, कई मकान नष्ट हो गए, सड़कें और रेल की पटरियां क्षतिग्रस्त हो गईं और पशुहानि भी हुई है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से मदद मिली है लेकिन नुकसान को देखते हुए यह पर्याप्त नहीं है। राममूर्ति ने सरकार से कर्नाटक को 2000 करोड़ रुपये की आर्थिक मदद तत्काल दिए जाने की मांग की। वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के विजय साई रेड्डी ने आंध्रप्रदेश में हुई भीषण बारिश का मुद्दा उठाया। 

बिजली ठप हो गई, फसल तबाह हो गई  

उन्होंने कहा कि बंगाल की खाड़ी पर बने कम दबाव के क्षेत्र की वजह से आठ नवंबर को आंध्रप्रदेश के रायलसीमा और तटीय हिस्से में तबाही मच गई। उन्होंने कहा कि बिजली ठप हो गई, फसल तबाह हो गई, गोदामों में रखा अनाज भीग गया, घरों में पानी घुस गया।  

उन्होंने कहा कि बारिश जनित हादसों में 44 लोगों की जान चली गई, 60 से ज्यादा लोग लापता हैं और एक लाख से अधिक लोग विस्थापित हुए हैं। रेड्डी ने सरकार से मांग की कि राज्य को तत्काल आर्थिक मदद मुहैया कराई जाए अन्यथा विभाजन का दंश झेल रहे इस राज्य की अर्थव्यवस्था बुरी तरह लड़खड़ा जाएगी। 

अधिकारियों ने प्रभावितों को राहत और बचाव के लिए कोई कदम नहीं उठाए थे

भाजपा के सी एम रमेश ने कहा कि आंध्रप्रदेश में प्रशासनिक व्यवस्था को भी दुरूस्त किया जाना जरूरी है अन्यथा लोगों को राहत मिल पाना मुश्किल होगा। उन्होंने कहा कि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य के मुख्यमंत्री से बाढ़ की स्थिति के बारे में जानकारी ली, तब तक राज्य के अधिकारियों ने प्रभावितों को राहत और बचाव के लिए कोई कदम नहीं उठाए थे।

रमेश ने कहा ‘‘राज्य में स्थिति जितनी भयावह है, उसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती।’’  

सभापति एम वेंकैया नायडू ने उम्मीद जताई

विभिन्न दलों के सदस्यों ने वासन, राममूर्ति, रेड्डी और रमेश द्वारा उठाए गए मुद्दों से स्वयं को संबद्ध किया। सभापति एम वेंकैया नायडू ने उम्मीद जताई की सरकार आंध्रप्रदेश, केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु में बारिश की वजह से उत्पन्न हालात को देखते हुए तत्काल उचित कदम उठाएगी ताकि इन राज्यों के लोगों को समुचित राहत मिल सके।