BREAKING NEWS

कोरोना के बी.1.617 वैरिएंट को भारतीय वैरिएंट कहने पर सरकार ने जताई आपत्ति, कहा- WHO ने ऐसा नहीं कहा◾राहुल गांधी का केंद्र पर तंज, कहा- संक्रमण की गंभीर स्थिति में जिनकी जवाबदेही है वो छिपे बैठे हैं◾विपक्षी नेताओं ने PM को लिखा पत्र: सभी स्रोतों से खरीदा जाए टीका, हर नागरिक का मुफ्त हो टीकाकरण ◾ममता का मोदी को पत्र, कहा- सरकार कोविड रोधी टीकों के विनिर्माण के लिए जमीन और मदद उपलब्ध कराने को तैयार◾दिल्ली में कोरोना के 13,287 नए मामले सामने आए, 300 लोगों की मौत, संक्रमण दर में गिरावट जारी◾उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना ने ली 329 लोगों की जान, 18125 नए मरीजों की पुष्टि◾अब भारत में बनेंगी लंबे समय तक चलने वाली बैटरी, 18 हजार करोड़ के PLI इंसेंटिव को मंजूरी◾कांग्रेस ने केंद्र को बताया आपदा में अवसर वाली सरकार, कहा- चिकित्सा उपकरणों से हटाई जाए GST◾BJP का पलटवार- वैक्सीन को लेकर लगातार भ्रम उत्पन्न करने की कोशिश कर रहा है विपक्ष ◾देश में लगातार दूसरे दिन उपचाराधीन मरीजों की संख्या में आई कमी, 71.22 प्रतिशत मामले 10 राज्यों में आए सामने◾44 देशों में मिला कोरोना का इंडियन वैरिएंट, WHO ने कहा- वायरस का यह स्वरूप है खतरनाक ◾कांग्रेस का सरकार पर कटाक्ष, कहा- चुनाव के बाद विकास 100 रुपये प्रति लीटर पेट्रोल के साथ वापस आ गया◾क्या ऐसे होगी कोरोना पर जीत? PM केअर्स फंड से फरीदकोट भेजे गए वेंटिलेटर्स में से अधिकतर खराब◾भारत बायोटेक ने दिल्ली को कोवैक्सीन देने से किया इनकार, कई केंद्र करने पड़े बंद- सिसोदिया◾राहुल और प्रियंका का केंद्र पर वार- रेत में सिर डालना सकारात्मकता नहीं, देशवासियों के साथ है धोखा◾इमरान खान का कश्मीर राग बरकरार, कहा- जब तक निर्णय वापस नहीं होगा, भारत से वार्ता नहीं करेगा पाकिस्तान◾कोरोना वायरस : देश में पिछले 24 घंटे में साढ़े 3 लाख से कम मामलों की पुष्टि, 4205 लोगों ने गंवाई जान ◾कोरोना वायरस : 2 से 18 साल के बच्चों पर वैक्सीन के ट्रायल की भारत बायोटेक को मिली मंजूरी ◾गुजरात : कोरोना देखभाल केंद्र में लगी आग, 61 मरीजों को दूसरे अस्पतालों में किया गया शिफ्ट ◾उत्तर प्रदेश : एएमयू में अब तक 26 प्रोफेसरों की कोरोना से मौत, कोविड के वैरिएंट की होगी जांच◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

आठ महीने बाद गृह मंत्रालय ने भारत में सभी को आने की छूट प्रदान की, सिर्फ इन वीजा पर है रोक

सरकार ने आठ महीने के बाद चुनिंदा श्रेणियों को छोड़ सभी प्रकार के वीजा को बहाल करने का बृहस्पतिवार को निर्णय लिया। कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिये देश भर में लागू किये गये लॉकडाउन के चलते सरकार ने सभी प्रकार के वीजा को निलंबित कर दिया था। 

गृह मंत्रालय ने इसकी घोषणा करते हुए कहा कि इलेक्ट्रॉनिक वीजा, पर्यटक वीजा और चिकित्सा वीजा को छोड़ शेष सभी प्रकार के वीजा को तत्काल प्रभाव से बहाल किया जा रहा है। मंत्रालय ने कहा कि वर्जित श्रेणियों को छोड़ भारत के विदेशी नागरिक (ओसीआई) और भारतीय मूल के व्यक्ति (पीआईओ) कार्ड रखने वाले सभी व्यक्तियों समेत सभी विदेशी नागरिक अब किसी भी उद्देश्य से भारत की यात्रा कर सकते हैं। 

मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न स्थिति के मद्देनजर सरकार ने फरवरी 2020 से अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की आवाजाही को रोकने के लिये कई कदम उठाये थे। सरकार ने अब भारत में प्रवेश करने या यहां से बाहर जाने के इच्छुक विदेशी नागरिकों और भारतीय नागरिकों की अधिक श्रेणियों के लिये वीजा व यात्रा प्रतिबंधों में क्रमिक छूट देने का निर्णय लिया है। 

भारत सरकार ने देश का गलत मानचित्र दिखाने को लेकर ट्विटर को दी सख्त चेतावनी

इस क्रमिक छूट के तहत सरकार ने इलेक्ट्रॉनिक वीजा, पर्यटक वीजा और चिकित्सा वीजा को छोड़कर सभी मौजूदा वीजा को तत्काल प्रभाव से बहाल करने का फैसला किया है। यदि ऐसे वीजा की वैधता समाप्त हो गयी है, तो उपयुक्त श्रेणियों के ताजा वीजा भारतीय मिशन से प्राप्त किये जा सकते हैं। 

चिकित्सा उपचार के लिये भारत आने के इच्छुक विदेशी नागरिक अपने चिकित्सा परिचारकों सहित चिकित्सा वीजा के लिये नए सिरे से आवेदन कर सकते हैं। यह निर्णय विदेशी नागरिकों को विभिन्न उद्देश्यों जैसे व्यवसाय, सम्मेलन, रोजगार, अध्ययन, अनुसंधान, चिकित्सा आदि के लिये भारत आने में सक्षम करेगा।

 सरकार ने सभी ओसीआई और पीआईओ कार्ड धारकों तथा अन्य सभी विदेशी नागरिकों को हवाई मार्ग या जल मार्ग से यात्रा के लिये अधिकृत करने की अनुमति देने का फैसला किया है। इसमें 'वंदे भारत' मिशन के तहत संचालित उड़ानें, एयर ट्रांसपोर्ट बबल अरेंजमेंट और नागरिक उड्डयन मंत्रालय की अनुमति के अनुसार कोई भी गैर-अनुसूचित वाणिज्यिक उड़ान भी शामिल हैं। 

हालांकि सरकार ने कहा है कि ऐसे सभी यात्रियों को क्वारंटीन (संगरोध) तथा स्वास्थ्य व कोविड से संबंधित स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अन्य दिशानिर्देशों का कड़ाई से पालन करना होगा।