BREAKING NEWS

एफसी कोहली का 96 वर्ष की आयु में निधन; प्रधानमंत्री समेत कई हस्तियों ने जताया शोक◾PM मोदी 28 नवंबर को पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया का करेंगे दौरा◾प्रधानमंत्री द्वारा तीसरे ग्लोबल रिन्यूबल एनर्जी इन्वेस्टर्स मीट एक्सपो का शुभारंभ, शिवराज हुए शामिल◾सड़क परियोजनाओं की मिली सौगात, सड़कें बेहतर होंगी तो लगेंगे उद्योग, मिलेगा रोजगार : नितिन गडकरी ◾दिल्ली में वेंटिलेटर के साथ केवल 205 ICU बेड उपलब्ध, 60 अस्पतालों में कोई बेड नहीं खाली : सत्येंद्र जैन◾BJP बाहरी लोगों की पार्टी है, बंगाल को ‘दंगा प्रभावित गुजरात’ नहीं बनने देंगे : CM ममता◾पूर्वी लद्दाख से सैनिकों की वापसी को लेकर चीन, भारत में सैन्य और कूटनीतिक बातचीत जारी : चीनी सेना◾किसानों के आंदोलन के कारण डीएमआरसी की सेवाएं पड़ोसी शहरों से कल रहेंगी स्थगित ◾किसानों के ‘दिल्ली चलो’ मार्च रोकने को शिरोमणि अकाली दल ने बताया पंजाब का '26/11'◾बिहार में भाजपा विधायक ललन कुमार पासवान ने लालू प्रसाद के खिलाफ दर्ज कराई FIR◾री-इनवेस्ट उद्घाटन सत्र : भारत में नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में निवेशकों के लिये काफी अवसर - पीएम मोदी ◾किसानों को रोकने पर खट्टर और कैप्टन के बीच जुबानी जंग, हरियाणा CM बोले-MSP पर दिक्कत हुई तो छोड़ दूंगा राजनीति◾फोन कॉल कांड के बाद लालू प्रसाद यादव केली बंगले से रिम्स के पेइंग वार्ड में किये गए शिफ्ट◾केजरीवाल सरकार ने दिल्ली HC से कहा- जरूरत पड़ने पर लगाया जा सकता है नाइट कर्फ्यू◾3 दिसंबर को आंदोलनकारी किसानों से मुलाकात करेंगे केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर◾रोशनी लैंड स्कैम : अनुराग ठाकुर बोले- भ्रष्टाचारी नेताओं ने जम्मू-कश्मीर जैसे स्वर्ग को बना दिया था नर्क◾किसान आंदोलन पर पक्ष और विपक्ष के नेताओं के बीच राजनीतिक घमासान◾सरकारी निर्णयों को मांपने में राष्ट्रहित हो सर्वोपरि, राजनीति हावी होने से देश का नुकसान: PM मोदी ◾पैतृक गांव में सुपुर्दे-खाक हुए अहमद पटेल, राहुल गांधी समेत कई दिग्गज कांग्रेस नेता रहे मौजूद ◾मुंबई हमले के जख्म को भारत भूल नहीं सकता, अब नीति से देश कर रहा आतंक का मुकाबला : PM मोदी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

आठ महीने बाद गृह मंत्रालय ने भारत में सभी को आने की छूट प्रदान की, सिर्फ इन वीजा पर है रोक

सरकार ने आठ महीने के बाद चुनिंदा श्रेणियों को छोड़ सभी प्रकार के वीजा को बहाल करने का बृहस्पतिवार को निर्णय लिया। कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिये देश भर में लागू किये गये लॉकडाउन के चलते सरकार ने सभी प्रकार के वीजा को निलंबित कर दिया था। 

गृह मंत्रालय ने इसकी घोषणा करते हुए कहा कि इलेक्ट्रॉनिक वीजा, पर्यटक वीजा और चिकित्सा वीजा को छोड़ शेष सभी प्रकार के वीजा को तत्काल प्रभाव से बहाल किया जा रहा है। मंत्रालय ने कहा कि वर्जित श्रेणियों को छोड़ भारत के विदेशी नागरिक (ओसीआई) और भारतीय मूल के व्यक्ति (पीआईओ) कार्ड रखने वाले सभी व्यक्तियों समेत सभी विदेशी नागरिक अब किसी भी उद्देश्य से भारत की यात्रा कर सकते हैं। 

मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न स्थिति के मद्देनजर सरकार ने फरवरी 2020 से अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की आवाजाही को रोकने के लिये कई कदम उठाये थे। सरकार ने अब भारत में प्रवेश करने या यहां से बाहर जाने के इच्छुक विदेशी नागरिकों और भारतीय नागरिकों की अधिक श्रेणियों के लिये वीजा व यात्रा प्रतिबंधों में क्रमिक छूट देने का निर्णय लिया है। 

भारत सरकार ने देश का गलत मानचित्र दिखाने को लेकर ट्विटर को दी सख्त चेतावनी

इस क्रमिक छूट के तहत सरकार ने इलेक्ट्रॉनिक वीजा, पर्यटक वीजा और चिकित्सा वीजा को छोड़कर सभी मौजूदा वीजा को तत्काल प्रभाव से बहाल करने का फैसला किया है। यदि ऐसे वीजा की वैधता समाप्त हो गयी है, तो उपयुक्त श्रेणियों के ताजा वीजा भारतीय मिशन से प्राप्त किये जा सकते हैं। 

चिकित्सा उपचार के लिये भारत आने के इच्छुक विदेशी नागरिक अपने चिकित्सा परिचारकों सहित चिकित्सा वीजा के लिये नए सिरे से आवेदन कर सकते हैं। यह निर्णय विदेशी नागरिकों को विभिन्न उद्देश्यों जैसे व्यवसाय, सम्मेलन, रोजगार, अध्ययन, अनुसंधान, चिकित्सा आदि के लिये भारत आने में सक्षम करेगा।

 सरकार ने सभी ओसीआई और पीआईओ कार्ड धारकों तथा अन्य सभी विदेशी नागरिकों को हवाई मार्ग या जल मार्ग से यात्रा के लिये अधिकृत करने की अनुमति देने का फैसला किया है। इसमें 'वंदे भारत' मिशन के तहत संचालित उड़ानें, एयर ट्रांसपोर्ट बबल अरेंजमेंट और नागरिक उड्डयन मंत्रालय की अनुमति के अनुसार कोई भी गैर-अनुसूचित वाणिज्यिक उड़ान भी शामिल हैं। 

हालांकि सरकार ने कहा है कि ऐसे सभी यात्रियों को क्वारंटीन (संगरोध) तथा स्वास्थ्य व कोविड से संबंधित स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अन्य दिशानिर्देशों का कड़ाई से पालन करना होगा।