BREAKING NEWS

पंजाब विधान सभा चुनाव - गठबंधन तय लेकिन सीटों को लेकर अभी तक नहीं हो पाया है अंतिम फैसला ◾कांग्रेस ने अरबपतियों की संपत्ति बढ़ने संबंधी रिपोर्ट को लेकर सरकार पर निशाना साधा ◾राज्यों की झांकी न शामिल करने के लिए केंद्र की आलोचना करना गलत परम्परा : सरकारी सूत्र ◾ केजरीवाल आज करेंगे पंजाब में ‘आप’ के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार की घोषणा◾गणतंत्र दिवस झांकी विवाद : ममता के बाद स्टालिन ने PM मोदी का लिखा पत्र ◾भारत वर्तमान ही नहीं बल्कि अगले 25 वर्षों के लक्ष्य को लेकर नीतियां बना रहा है : PM मोदी ◾उद्योग जगत ने WEF में PM मोदी के संबोधन का किया स्वागत ◾ कोरोना से निपटने के योगी सरकार के तरीके को लोग याद रखेंगे और भाजपा के खिलाफ वोट डालेंगे : ओवैसी◾गाजीपुर मंडी में मिले IED प्लांट करने की जिम्मेदारी आतंकी संगठन MGH ने ली◾दिल्ली में कोविड-19 के मामले कम हुए, वीकेंड कर्फ्यू काम कर रहा है: सत्येंद्र जैन◾कोविड-19 से उबरने का एकमात्र रास्ता संयुक्त प्रयास, एक दूसरे को पछाड़ने से प्रयासों में होगी देरी : चीनी राष्ट्रपति ◾ ओवैसी की पार्टी AIMIM ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, 8 सीटों पर किया ऐलान◾दिल्ली में कोरोना का ग्राफ तेजी से नीचे आया, 24 घंटे में 12527 नए केस के साथ 24 मौतें हुई◾अखिलेश के ‘अन्न संकल्प’ पर स्वतंत्र देव का पलटवार, ‘गन’ से डराने वाले किसान हितैषी बनने का कर रहे ढोंग ◾12-14 आयु वर्ग के बच्चों के लिए फरवरी अंत तक हो सकती है टीकाकरण की शुरुआत :NTAGI प्रमुख ◾ अबू धाबी में एयरपोर्ट के पास ड्रोन से अटैक, यमन के हूती विद्रोहियों ने UAE में हमले की ली जिम्मेदारी ◾कोरोना संकट के बीच देश की पहली एमआरएनए आधारित वैक्सीन, खास तौर पर Omicron के लिए कारगर◾CM चन्नी के भाई को टिकट न देने से सिद्ध होता है कि कांग्रेस ने दलित वोटों के लिए उनका इस्तेमाल किया : राघव चड्ढा◾उत्तराखंड : हरीश रावत बोले-हरक सिंह मांग लें माफी तो कांग्रेस में उनका स्वागत◾इस साल 75वें गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर 75 एयरक्राफ्ट उड़ान भरेंगे,आसमान से दिखेगी भारत की ताकत◾

कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न के परिभाषा में विस्तार की आवश्यकता : महिला आयोग

राष्ट्रीय महिला आयोग ने कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न की परिभाषा में विस्तार की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि महिला कर्मचारियों के खिलाफ यौन उत्पीड़न की ओर इंगित करने वाले लिंग आधारित साइबर अपराधों को भी इसमें शामिल करने की आवश्यकता है। 

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय को सौंपी अपनी रिपोर्ट में महिला आयोग ने कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न की जांच करने वाली आंतरिक समिति में सदस्यों की संख्या बढ़ाकर विषम (ऑड नंबर) करने का सुझाव दिया है ताकि फैसला बहुमत के आधार पर हो सके। फिलहाल आंतरिक समिति में कम से कम चार सदस्यों का होना अनिवार्य है। रिपोर्ट में कहा गया है कि समिति के सदस्यों का चयन चुनाव के जरिए हो ताकि पारदर्शिता बनी रहे। 

जम्मू कश्मीर : रामबन में सेना का एनकाउंटर खत्म, 3 आतंकवादी ढेर, सभी बंधकों को छुड़ाया गया

महिला आयोग ने यह भी कहा है कि कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न की शिकायत करने की अवधि घटना के बाद तीन महीने से बढ़ाकर छह महीने किया जाए। आयोग ने कार्यस्थल पर महिलाओं का यौन उत्पीड़न कानून, 2013 के प्रावधानों में संशोधन की भी बात कही है। महिला आयोग का कहना है, ‘‘यौन उत्पीड़न की परिभाषा को विस्तृत कर उसमें महिला कार्मचारियों के खिलाफ यौन उत्पीड़न की ओर इंगित करने वाले लिंग आधारित साइबर अपराधों को शामिल करने की आवश्यकता है।’’ 

कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न को लेकर क्षेत्रीय स्तर पर सलाह- मशविरा करने के बाद महिला आयोग ने ये सिफारिशें की हैं। इस प्रक्रिया में कानून विशेषज्ञ भी शामिल थे। रिपोर्ट में यह सिफारिश भी की गई है कि यौन उत्पीड़न की परिभाषा ऐसी होनी चाहिए जो उत्पीड़न की गंभीरता और प्रकृति में फर्क कर सके और दंड के संबंध में आंतरिक समिति का ठोस दिशा-निर्देश कर सके। आयोग ने यह भी कहा है कि यौन उत्पीड़न के मामलों में आपसी समझौते का प्रावधान समाप्त कर दिया जाना चाहिए क्योंकि यह कोई ऐसा विवाद नहीं है जिसे समझा-बुझा कर समाप्त किया जा सके।