BREAKING NEWS

IPL 2020 : राजस्थान रायल्स ने किंग्स इलेवन पंजाब को 4 विकेट से हराया ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कोहराम बरकरार, बीते 24 घंटे में 18,056 नए केस, 380 की मौत ◾IPL 2020 RR vs KXIP : पंजाब की तूफानी बल्लेबाजी, राजस्थान को दिया 224 रनों का लक्ष्य◾मप्र उपचुनाव : कांग्रेस ने 9 और उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट की जारी, भाजपा के तीन नेताओं को मिला टिकट◾कोविड-19 : सत्येंद्र जैन ने कहा- पिछले 10 दिनों में दिल्ली में मृत्यु दर एक फीसदी से नीचे रही◾संसद से पारित तीनों कृषि संबंधी विधेयकों को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी◾IPL 2020 RR vs KXIP : राजस्थान ने जीता टॉस, पंजाब को दिया बल्लेबाजी का न्योता◾फिल्मकार अनुराग कश्यप की गिरफ्तारी में देरी होने पर पायल घोष ने उठाए सवाल ◾बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय जेडीयू में हुए शामिल, कहा- नहीं समझता राजनीति◾विधानसभा चुनाव के लिए बिहार में तैनात होंगे 30,000 जवान, गृह मंत्रालय ने दिए निर्देश◾मतदाताओं को लुभाने की कवायद में जुटे राजनीतिक दल, तेजस्वी ने 10 लाख युवाओं को नौकरी देने का किया वादा◾पूर्व सैन्य अधिकारी होने के बावजूद एक दक्ष नेता के तौर पर जसवंत ने हमेशा दिखाई राजनीतिक ताकत◾चीन को जवाब देने के लिए भारत पूरी तरह तैयार, लद्दाख में तैनात किए T-90 और T-72 टैंक◾मन की बात : PM मोदी बोले-देश का कृषि क्षेत्र, हमारे किसान, गांव आत्मनिर्भर भारत का आधार◾जिस गठबंधन में शिवसेना और अकाली दल नहीं, मैं उसको NDA नहीं मानता : संजय राउत◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 60 लाख के करीब, पिछले 24 घंटे में 1124 लोगों की मौत◾राहुल गांधी का PM मोदी पर तंज- काश, कोविड एक्सेस स्ट्रैटेजी ही मन की बात होती◾क्या ड्रग चैट्स का होगा खुलासा, एनसीबी ने दीपिका, सारा और श्रद्धा के फोन किए जब्त ◾पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, पीएम मोदी ने शोक व्यक्त किया◾पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती कोरोना से संक्रमित, खुद को किया क्वारनटीन◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

केंद, के हस्तक्षेप से एससी-एसटी के प्रमोशन में आरक्षण की अनुमति : सुशील

पटना : बिहार के उप मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने आज बताया कि केंद, सरकार के उच्चतम न्यायालय में प्रभावी हस्तक्षेप का ही परिणाम है कि अनुसूचित जाति (एसी) एवं अनुसूचित जनजाति (एसटी) के प्रोन्नति में आरक्षण संविधान पीठ का अंतिम फैसला आने तक कानून के अनुसार जारी रखने की अनुमति मिली है। श्री मोदी ने यहां कहा कि केंद, सरकार के उच्चतम न्यायालय में प्रभावी हस्तक्षेप का ही परिणाम है कि अनुसूचित जाति (एसी) एवं अनुसूचित जनजाति (एसटी) के लोगों को सेवा में प्रोन्नति में आरक्षण संविधान पीठ का अंतिम फैसला आने तक कानून के अनुसार जारी रखने की अनुमति मिली है।

उन्होंने कहा कि केंद, सरकार इसके लिए शीघ, ही आदेश जारी करेगी। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा और केंद, की राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार का स्पष्ट मत है कि एससी और एसटी के आरक्षण में क्रीमी लेयर का प्रावधान नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि एससी-एसटी अत्याचार निवारण अधिनियम के मुद्दे पर भी केंद, सरकार उच्चतम न्यायालय में पूरी मजबूती से लड़ रही है। यदि आवश्यकता पड़ तो सरकार अध्यादेश लाकर इसे लागू कराने में भी पीछे नहीं रहेगी।

श्री मोदी ने कहा भाजपा का स्पष्ट मानना है कि एससी-एसटी को आरक्षण सदियों से उनके साथ हुए भेदभाव, छुआछूत और जंगल, पहाड़ तथा पिछड़ इलाके में उनके वास के कारण समाज की मुख्यधारा में उन्हें लाने के लिए संविधान द्वारा दिया गया है। उन्होंने कहा कि आरक्षण चाहे नौकरी में हो या विधायिका, संसद के लिए या फिर पदोन्नति में, इसे कोई भी ताकत छीन या समाप्त नहीं कर सकती है। भाजपा नेता ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार के दौरान ही संविधान की विभिन्न धाराओं में संशोधन कर एससी-एसटी वर्ग के कर्मचारियों की पदोन्नति में आरक्षण की कठिनाइयों को दूर कर प्रोन्नति में परिणामी वरीयता का प्रावधान किया गया। उन्होंने कहा कि बिहार में भी राजग की सरकार में प्रोन्नति में आरक्षण की व्यवस्था लागू की गई थी।

श्री मोदी ने कहा कि केंद, की नरेंद, मोदी सरकार ने ही वर्ष 1979 में बने एससी-एसटी अत्याचार निवारण अधिनियम को वर्ष 2016 में संशोधित कर पहले की तुलना में इसे ज्यादा मजबूत, प्रभावी और कठोर बनाया है। एससी-एसटी समुदाय के किसी भी व्यक्ति को बाल-मूंछ मुड़वाकर घुमाने, मृत जानवर या मानव शव ढुलवाने, मानव मल उठवाने, इस वर्ग की महिला को देवदासी बनाने, महिला के कपड़ उतरवाने एवं चुनाव में नामांकन करने से रोकने को भारतीय दंड विधान की अनेक धाराओं को जोड़ते हुए अपराध की श्रेणी में लाया गया है। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर केंद, सरकार उच्चतम न्यायालय में पूरी मजबूती के साथ लड़ रही है। यदि सरकार के पक्ष में फैसला नहीं आया तो केंद, सरकार अध्यादेश लाकर यथावत इस अधिनियम को लागू करेगी।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।