BREAKING NEWS

मंत्रिमंडल की सुरक्षा मामलों की समिति की हुई बैठक, CDS बिपिन रावत की मौत के बारे में अवगत कराया गया◾CDS जनरल बिपिन रावत की मृत्यु के चलते सोनिया गाँधी ने जन्मदिन नहीं मनाने का फैसला किया◾जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी के निधन पर राष्ट्रपति कोविंद समेत इन नेताओ ने शोक व्यक्त किया ◾CDS बिपिन रावत के निधन पर PM मोदी समेत सभी बड़े नेताओं ने शोक प्रकट किया ◾CDS जनरल बिपिन रावत के निधन पर योगी आदित्यनाथ समेत कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने शोक व्यक्त किया◾केंद्र की राज्यों को कड़ी नसीहत, कहा- 'ओमिक्रोन' मामलों का इलाज केवल निर्धारित कोविड अस्पतालों में ही किया जाए◾हेलीकॉप्टर क्रैश : CDS बिपिन रावत समेत 12 लोगों की मौत, वायुसेना ने की पुष्टि ◾एंजेला मर्केल की जगह जर्मनी के नए चांसलर बने ओलाफ शोल्ज, नई सरकार के समक्ष कई चुनौतियां ◾देश के पहले CDS बिपिन रावत का कैसा रहा 42 साल लंबा सैन्य सफर, जानें उनके बारे में बेहद खास बातें ◾Mi-17 चौपर : बेहद अत्याधुनिक होने के बावजूद रहा है खतरनाक रिकॉर्ड, कई बार हो चुका है भीषण क्रैश◾सीडीएस बिपिन रावत के हेलिकॉप्टर क्रैश पर राहुल गांधी, नितिन गडकरी समेत कई नेताओं ने जताया दुःख◾कुन्नूर हेलीकॉप्टर हादसे पर संसद में राजनाथ सिंह देंगे बयान, 11 लोगों के शव बरामद,रेस्क्यू ऑपरेशन जारी ◾सदन नहीं चलने देना चाहती केंद्र, खड़गे का दावा- महंगाई समेत कई अहम मुद्दों पर चर्चा से बच रही सरकार ◾राज्यसभा के निलंबित सदस्यों को लेकर विपक्षी नेताओं का समर्थन जारी, संसद परिसर में दिया धरना ◾UP विधानसभा चुनाव : कांग्रेस ने जारी किया 'महिला घोषणापत्र', नौकरियों में 40% आरक्षण समेत कई बड़े वादे◾CDS जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी को ले जा रहा सेना का हेलिकॉप्टर क्रैश, कुन्नूर में हुआ हादसा ◾मोदी के बयान पर अखिलेश का करारा जवाब- लाल रंग भावनाओं का प्रतिक, हार का डर ला रहा भाषा में बदलाव ◾महंगाई, बेरोज़गारी और कृषि संकट की वजह सरकार की विफलता है, राहुल गांधी ने केंद्र पर लगाया आरोप ◾'पाकिस्तानी-खालिस्तानी' बुलाये जाने पर फारूक अब्दुल्ला ने जताया खेद, बोले- गांधी का भारत लाए वापस◾लालू के घर बजेंगी शहनाई, तेजस्वी यादव की शादी हुई पक्की, दिल्ली में आज या कल होगी सगाई ◾

आंदोलन पर अड़े राकेश टिकैत का बयान, बोले- MSP पर बात नहीं करना चाहती सरकार

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने गुरुवार को कहा कि फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) हमेशा से हमारा मुद्दा रहा है। टिकैत एक साल से अधिक समय से दिल्ली के गाजीपुर सीमा पर चल रहे किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे हैं। गुरुवार को हैदराबाद पहुंचे राकेश टिकैत ने कहा कि एमएसपी से किसानों को मदद मिलेगी। इसके साथ-साथ टिकैत ने कहा कि वो 'बीजेपी को हराओ' के नारे के साथ यूपी के मतदाताओं के पास भी जाएंगे।

एमएसपी की गारंटी का कानून बनाना होगा

 किसान नेता राकेश टिकैत ने आज कहा कि केंद्र सरकार को न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी का कानून बनाना होगा। उन्होंने कहा कि किसानों की मांगों के पूरा होने तक आंदोलन खत्न नहीं होगा। सरकार MSP पर बात नहीं करना चाहती है, हमने चार दिन पहले इसे लेकर सरकार को चिट्ठी लिखी है लेकिन इसका कोई जवाब नहीं आया। उन्होंने कहा कि MSP पर कानून बनने से पूरे देश के किसानों को फायदा होगा।ओवैसी पर भड़के राकेश टिकैत: हैदराबाद में किसान नेता राकेश टिकैत ने ओवैसी को BJP की टीम-बी कहा। BKU के टिकैत ने बिना नाम लिए कहा कि वो देश में BJP की सबसे बड़ी मदद करता है, उसको यहीं बांधकर रखो, कहीं जाने मत दो।

किसान नेताओं की मांग

 किसान नेताओं का कहना है कि सरकार ने हमारी तीनों कृषि कानूनों वापसी की मांग को मान लिया है लेकिन हमारी जो अन्य मांगे हैं उनके लिए हम सरकार को चिट्ठी लिख चुके हैं। बताते चलें कि बुधवार को कैबिनेट में इन तीनों कृषि कानूनों की वापसी की मंजूरी भी हो गई है। किसान नेताओं ने कहा कि हम भी यह चाहते हैं कि सरकार हमारी मांगें जल्द से जल्द माने, ताकि हम अपने घरों का रुख कर सकें।दर्शनपाल सिंह ने कहा कि तीनों कानून तो वापस हो चुके हैं और सरकार MSP की गारंटी के कानून पर हमें आश्वासन दे, कमेटी बनाकर इसको लागू करें और किसान आंदोलन के दौरान किसानों पर दर्ज हुए मुकदमे वापस ले।

दिल्ली की सीमाओं पर बढ़ रही है किसानों की संख्या

26 नवंबर को दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के आंदोलन को 1 साल पूरा होने जा रहा है। इस मौके पर संयुक्त किसान मोर्चा ने किसानों से यहां पहुंचने की अपील की है। जिसके चलते अब दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे किसान आंदोलन में इनकी संख्या में इजाफा हो रहा है।बता दें कि कृषि कानून पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाई कमिटी के सदस्य अनिल घनवट ने कहा है कि MSP का कानून अगर आता है तो इससे नुकसान होगा। वहीं कृषि कानूनों की वापसी के ऐलान के बाद उन्होंने कहा था कि यह तीनों कानून वापस लेने नहीं चाहिए थे। कानूनों में सुधार की गुंजाइश थी।