BREAKING NEWS

राजनाथ ने केंद्रीय विभागों के पुन आवंटन पर मंत्री समूह की अध्यक्षता की ◾कर्नाटक : येदियुरप्पा को अमित शाह ने दी मंत्रिमंडल विस्तार की हरी झंडी ◾जलवायु परिवर्तन पर ‘बेसिक’ देशों को एक सुर में आवाज उठानी होगी : जावड़ेकर ◾BJP सरकार का रवैया नकारात्मक, अमेठी-मैनपुरी में सैनिक स्कूल की स्थापना समाजवादी सरकार में हुई : अखिलेश◾MP : मुख्यमंत्री कमलनाथ उज्जैन मंदिर को दे सकते हैं 300 करोड़ की सौगात ◾TOP 20 NEWS 17 August : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾ AIIMS अस्पताल में लगी भीषण आग, अभी तक कोई हताहत नहीं◾जेटली जीवन रक्षक प्रणाली पर : नीतीश, पीयूष गोयल समेत अन्य नेता हाल जानने एम्स पहुंचे ◾PM मोदी : भूटान का पड़ोसी होना सौभाग्य कि बात, भूटान कि पंचवर्षीय योजनाओं में करेंगे सहयोग◾पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन, एक जवान शहीद◾प्रियंका गांधी बोलीं- देश में 'भयंकर मंदी' लेकिन सरकार के लोग खामोश◾ मायावती का ट्वीट- देश में आर्थिक मंदी का खतरा, इसे गंभीरता से लें केंद्र◾AAP के पूर्व विधायक कपिल मिश्रा भाजपा में शामिल◾चिदंबरम बोले- मीर को नजरबंद करना गैरकानूनी, नागरिकों की स्वतंत्रता सुनिश्चित करें अदालतें◾राजनाथ के आवास पर ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स की बैठक शुरू, शाह समेत कई मंत्री मौजूद◾भूटान पहुंचे मोदी का PM लोटे ने एयरपोर्ट पर किया स्वागत, दिया गया गार्ड ऑफ ऑनर◾शरद पवार बोले- पता नहीं राणे का कांग्रेस में शामिल होने का फैसला गलत था या बड़ी भूल◾उत्तर कोरिया ने किया नए हथियार का परीक्षण, किम ने जताया संतोष◾12 दिन बाद आज से घाटी में फोन और जम्मू समेत कई इलाकों में 2G इंटरनेट सेवा बहाल◾राम माधव बोले- जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को मिलेगा देश के कानूनों के अनुसार लाभ◾

देश

उच्चतम न्यायालय ने आईबीसी में किये गये संशोधन को संवैधानिक बताया

उच्चतम न्यायालय ने दिवाला एवं ऋण शोधन अक्षमता संहिता (आईबीसी) में हाल में किये गये बदलावों को शुक्रवार को संवैधानिक रूप से वैध करार दिया और कहा कि ये संशोधन घर खरीदारों के हितों की रक्षा करते हैं। ये संशोधन घर खरीदारों को वित्तीय कर्जदाता का दर्जा देते हैं जिससे उन्हें अपने हितों का बचाव करने के लिये ऋणदाताओं की समिति का हिस्सा होने का अधिकार मिलता है। 


उच्चतम न्यायालय का यह निर्णय ऐसे समय आया है जब बहुत से घर खरीदार अधूरी रीयल एस्टेट परियोजनाओं या अटकी परियोजनाओं को लेकर परेशान हैं। 


न्यायालय ने कहा कि रीयल एस्टेट (विनियमन एवं विकास) अधिनियम, 2016 (रेरा) को समरसता के साथ देखा जाना चाहिए और जहां आईबीसी तथा रेरा के बीच कोई टकराव उत्पन्न हो रहा हो तो आईबीसी के प्रावधान ही लागू होंगे। 


न्यायमूर्ति आर एफ नरीमन एवं न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति सूर्यकांत की पीठ ने रीयल एस्टेट डेवलपरों की उस दलील को खारिज कर दिया कि रेरा आवासीय परियोजनाओं के लिए बनाया गया कानून है।


 ऐसे में इसे आईबीसी पर तरजीह दिये जाने की जरूरत है क्योंकि आईबीसी सामान्य कानून है जो मुख्य रूप से दिवाला से जुड़े मामलों से निपटता है। रीयल एस्टेट कंपनियों के संगठन नारेडको ने कहा है कि न्यायालय के आज के फैसले से अटकी परियोजनाओं को पूरा करने में मदद मिलेगी।