BREAKING NEWS

केंद्र सरकार को सुभाषचंद्र बोस को देश के पहले प्रधानमंत्री के रूप में मान्यता देनी चाहिए : TMC◾कपटी 1 दिन में प्राइवेट नंबर पर 5 हजार से ज्यादा मैसेज नहीं आ सकते.....सिद्धू का केजरीवाल पर निशाना◾कर्नाटक : मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई अपने पहले बजट की तैयारियों में जुटे ◾गणतंत्र दिवस के बाद टाटा को सौंप दी जाएगी एयर इंड़िया, जानें अधिग्रहण की पूरी जानकारी◾पाक PM ने की नवजोत सिद्धू को मंत्रिमंडल में लेने की सिफारिश, अमरिंदर सिंह ने किया बड़ा खुलासा ◾कांग्रेस ने बेरोजगारी को लेकर केंद्र पर कसा तंज, कहा- कोरोना काल में बढ़ी अमीरों और गरीबों के बीच खाई ◾पंजाब: NDA में पूरा हुआ बंटवारे का दौर, नड्डा ने किया ऐलान- 65 सीटों पर BJP लड़ेगी चुनाव, जानें पूरा गणित ◾शरजील इमाम पर चलेगा देशद्रोह का मामला, भड़काऊ भाषणों और विशेष समुदाय को उकसाने के लगे आरोप ◾ गणतंत्र दिवस: 25-26 जनवरी को दिल्ली मेट्रो की पार्किंग सेवा रहेगी बंद, जारी की गई एडवाइजरी◾महिला सशक्तिकरण की बात कर रही BJP की मंत्री हुई मारपीट की शिकार, ऑडियो वायरल, जानें मामला? ◾UP चुनाव: SP को लगा तीसरा बड़ा झटका, BJP में शामिल हुए विधायक सुभाष राय, टिकट कटने से थे नाराज ◾देश में कोरोना के मामलों में 15 फरवरी तक आएगी कमी, कुछ राज्यों और मेट्रो शहरों में कम हुए कोविड केस◾UP चुनाव: BJP के साथ गठबंधन नहीं होने के जिम्मेदार हैं आरसीपी, JDU अध्यक्ष बोले- हमने किया था भरोसा.. ◾फडणवीस का उद्धव ठाकरे को जवाब, बोले- 'जब शिवसेना का जन्म भी नहीं हुआ था तब से BJP...'◾BJP ने जारी की पांचवी सूची, महज एक उम्मीदवार के नाम की हुई घोषणा, UP कोर ग्रुप की बैठक में मंथन जारी ◾राष्ट्रीय बाल पुरस्कार: PM मोदी ने बच्चों से "वोकल फॉर लोकल’’ अभियान को आगे बढ़ाने का किया आग्रह◾गोवा चुनाव: TMC ने उठाए BJP की मंशा पर सवाल, कहा- 'डबल इंजन सरकार' का नारा तानाशाही का संकेत ◾राहुल गांधी ने केंद्र को घेरा, कहा- गरीब और मध्य वर्ग के लोग सरकार की ‘आर्थिक महामारी’ के शिकार हुए◾विधानसभा चुनावः दिल्लीवासियों से केजरीवाल ने चार राज्यों में प्रचार के लिए मांगी मदद ◾MP में नए 'स्टील्थ ओमीक्रॉन' ने दी दस्तक, इंदौर में 21 मामले आए सामने, फेफड़ों पर हो रहा संक्रमण का असर ◾

2004 से 2014 तक के संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन के शासनकाल ने अर्थव्यवस्था को 10 वर्ष पीछे धकेला : सीतारमण

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को कहा कि 2004 से 2014 तक के संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) के शासनकाल ने देश को अर्थव्यवस्था के मामले में 10 साल पीछे धकेल दिया था।

सीतारमण ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने जो आर्थिक सुधार किए हैं, उनसे लोगों में अर्थव्यवस्था के प्रति विश्वास बढ़ा है।

शेयर बाजार में छोटे निवेशकों अब कर रहे है निवेश - केंद्रीय मंत्री

केंद्रीय मंत्री ने रायपुर के एक होटल में ‘प्रबुद्ध जन संगो​ष्ठि’ को संबोधित करते हुए कहा कि शेयर बाजार में छोटे निवेशकों का विश्वास बढ़ रहा है और वे अब इसमें निवेश कर रहे हैं।

सीतारमण ने कहा कि विपक्ष आरोप लगाता है कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आर्थिक सुधारों को लेकर बहुत बड़ा काम किया है, जबकि मोदी जी की सरकार को सुधारों की कोई समझ नहीं है। उन्होंने कहा कि विपक्ष टिप्पणी करता था कि (मोदी सरकार में) विशेषज्ञों से परामर्श करके अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित किया जाना चाहिए था।

उन्होंने कहा​, ‘‘आप जानते हैं कि उन 10 वर्षों (संप्रग शासन के दौरान) के दौरान क्या हुआ था। बैंकों को जोरदार झटका लगा था। बाद में जब मोदी सरकार (2014 के मध्य में) सत्ता में आई तब बैंकों में सुधार की प्रक्रिया शुरू की गई और दिखाया गया कि संस्था को चलाया जा सकता है।’’

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक कमा रहे हैं लाभ - केंद्रीय मंत्री

केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘‘आज सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक लाभ कमा रहे हैं। हमने उनसे एनपीए का बोझ हटाकर एनएआरसीएल (नेशनल एसेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी लिमिटेड) में डाल दिया है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘विशेषज्ञों के होने के बावजूद उन 10 वर्षों (संप्रग शासन के दौरान) में कोई आर्थिक सुधार नहीं किया गया था। उस अवधि के दौरान भारत को अर्थव्यवस्था के मामले में 10 साल पीछे धकेल दिया गया, इसलिए मैं इसे ऐसा दशक कहती हूं, जिसे गंवा दिया गया।’’

केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘‘यदि वर्ष 2014 में श्वेत पत्र जारी होता, तब इन 10 साल में अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर जो कुछ छिपा था, वह सच सामने आ जाता। उन्होंने अर्थव्यवस्था को बहुत खराब स्थिति में छोड़ा था, लेकिन पिछले सात वर्षों से इसमें सुधार के बाद अब लोगों को अर्थव्यवस्था पर विश्वास हो रहा है। बाजार से इसका संकेत मिल रहा है।’’

मोदी सरकार में आम व्यापारियों, उद्योगों और लोगों के हित में कई सुधार किए गए - केंद्रीय वित्त मंत्री

सीतारमण ने कहा कि मोदी सरकार में आम व्यापारियों, उद्योगों और लोगों के हित में कई सुधार किए गए।

केंद्रीय वित्त मंत्री ने कहा कि आम भारतीय शेयर बाजार में जोखिम उठाने से बचता था, लेकिन अब अर्थव्यवस्था में सुधार के कारण भरोसा बढ़ा है।

उन्होंने कहा कि मार्च वर्ष 2020 के बाद डीमैट खातों के जरिए शेयर बाजार में निवेश बढ़ा है और म्युचुअल फंड में निवेश करने वाले छोटे निवेशक अब शेयर बाजार में भी निवेश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अब हर महीने करीब नौ-10 लाख डीमैट खाते खोले जा रहे हैं।

सीतारमण ने कहा कि अर्थव्यवस्था में विश्वास बढ़ने के कारण विदेशी निवेश भी आकर्षित हुआ है। केंद्र सरकार ने स्थिरता दी है और व्यापार में लोगों का भरोसा बढ़ा है।

कोरोना काल के दौरान मार्च 2019 में किसी को भी अंदाजा नहीं था कि क्या होने वाला है - सीतारमण

केंद्रीय वित्त मंत्री ने कहा, ‘‘कोरोना काल के दौरान मार्च 2019 में किसी को भी अंदाजा नहीं था कि क्या होने वाला है। कैसे इसका सामना करें। हमारे पास इससे निपटने के लिए क्या होना चाहिए, इसका अंदाजा नहीं था। लॉकडाउन लगाया गया। उस समय पर्याप्त मात्रा में पीपीई किट नहीं थी, जांच के लिए किट नहीं थीं, लेकिन इससे निपटने के लिए कोशिश की गई और सारी ताकत झोंकी गई। बाहर से पीपीई किट मंगाई गईं और हमारे देश में भी इसका निर्माण शुरू हुआ।’’

उन्होंने कहा कि इस समस्या से निपटने में सभी उद्योगों और आम लोगों ने भी इसमें सहयोग दिया। उन्होंने कहा कि इस दौरान गरीब भूखा न रहे, इसके लिए राशन दिया गया।

सीतारमण ने कहा कि ऐसे भयावह दौर में प्रधानमंत्री मोदी ने देश को महामारी और आर्थिक संकट सहित अन्य कठिनाइयों से उबारने में जिस कुशलता के साथ प्रयत्न किया, उससे भारतीय नेतृत्व के सार्थक प्रयासों को विश्व मंच पर सराहना मिली है।