BREAKING NEWS

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में भीड़ ने मंदिर पर किया हमला, सख्त हुई मोदी सरकार, राजनयिक को किया तलब◾संघर्षविराम के बावजूद 140 आतंकवादी जम्मू-कश्मीर में घुसने का कर रहे इंतजार, अधिकारी ने बताया ◾रवि दहिया को हरियाणा सरकार देगी 4 करोड़ रुपये, गांव में स्टेडियम भी बनेगा◾तोक्यो ओलंपिक : अंतिम 10 सेकंड में ब्रॉन्ज से चूके दीपक पुनिया◾ममता ने PM को लिखा पत्र, कहा- वैक्सीन की आपूर्ति नहीं बढ़ाई गई तो कोरोना की स्थिति हो सकती है गंभीर ◾ओलंपिक (कुश्ती) : फाइनल में गोल्ड से चूके रवि दहिया, रजत पदक से करना पड़ेगा संतोष◾मिजोरम और असम ने सीमा विवाद पर की वार्ता, सौहार्द्रपूर्ण तरीके से मुद्दे का समाधान करने को हुए सहमत ◾5 अगस्त को हमेशा याद रखेगा देश, 'सेल्फ गोल' करने में जुटा है विपक्ष : PM मोदी◾ ऐतिहासिक जीत के बाद PM ने टीम के कप्तान से फोन पर की बात, कहा- गजब का काम किया , पूरा देश नाच रहा है◾देश के सामने बेरोजगारी सबसे बड़ा मुद्दा, रोजगार के बारे में एक शब्द नहीं बोलते प्रधानमंत्री : राहुल गांधी◾पेगासस केस पर SC ने कहा- जासूसी के आरोप यदि सही हैं तो क्यों नहीं करवाई FIR, मामला गंभीर◾संसद में पेगासस विवाद समेत कई मुद्दों का लेकर विपक्ष केंद्र पर हमलवार, राज्यसभा की बैठक स्थगित◾भारतीय हॉकी टीम के कोच बोले - ये अहसास अद्भुत, प्लेयर्स ने ऐसे बलिदान दिए है जो किसी को नहीं पता◾कांग्रेस का केंद्र पर आरोप - विपक्ष को बाहर निकाल कर सदन चलाना चाहती है सरकार, हम नहीं झुकेंगे ◾UP चुनाव को धार देने के लिए सपा ने निकाली साइकिल यात्रा, अखिलेश का दावा- हम जीतेंगे 400 सीटें◾संसद में कांग्रेस का एक सीधा मंत्र है 'परिवार का हित', हमें भी उनसे पूछने हैं तीखे सवाल : BJP◾पंजाब चुनाव से पहले प्रशांत किशोर ने 'प्रधान सलाहकार' पद से दिया इस्तीफा◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटे में 42982 नए केस की पुष्टि, 533 मरीजों की मौत◾हॉकी में भारत की जीत पर टीम को बधाई देने वालों का लगा तांता, PM समेत कई दिग्गज नेताओं ने दी शुभकामनाएं◾World Corona : दुनियाभर में संक्रमितों की संख्या 20 करोड़ के पार, 42.5 लाख से अधिक लोगों ने गंवाई जान ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कोरोना महामारी के दौरान भारत में 34 से 49 लाख अतिरिक्त मौत होने की आशंका: रिपोर्ट

देश में कोरोना वायरस वैश्विक महामारी ने बहुत तबाही मचाई, यह बात तो जग जाहिर है, लेकिन इसके अलावा एक ऐसा सच है जो सबसे छुपाया गया है। देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर आने की पूरी आशंका बनी हुई है, ऐसे में एक रिपोर्ट ने सबको हिलाकर कर रख दिया है।
एक नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत में कोरोना वायरस के कारण आधिकारिक आंकड़ों की अपेक्षा लाखों अधिक लोगों की मौत हुयी होगी। रिपोर्ट में कहा गया है कि इस अवधि के दौरान कोविड महामारी के दौरान 34 से 49 लाख अतिरिक्त मौतें होने की आशंका है। यह रिपोर्ट मंगलवार को जारी की गयी।

इस रिपोर्ट को भारत के पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम, अमेरिकी थिंक-टैंक सेंटर फॉर ग्लोबल डेवलपमेंट के जस्टिन सैंडफुर और हार्वर्ड विश्वविद्यालय के अभिषेक आनंद द्वारा तैयार की गयी है। रिपोर्ट के लेखकों ने कहा, ‘‘... लेकिन सभी अनुमान बताते हैं कि महामारी से मरने वालों की संख्या 400,000 की आधिकारिक संख्या से काफी अधिक हो सकती है।’’
उन्होंने अपनी रिपोर्ट में कहा कि मौतों की वास्तविक संख्या के लाखों में होने का अनुमान है और यह विभाजन तथा आजादी के बाद से भारत की सबसे खराब मानव त्रासदी है। उनका अनुमान है कि जनवरी 2020 से जून 2021 के बीच 34 से 49 लाख लोगों की मौत हुयी है। भारत के आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार मृतकों की कुल संख्या बुधवार को 4.18 लाख थी।
रिपोर्ट के अनुसार भारत में कोविड से मरने वालों की संख्या को लेकर आधिकारिक अनुमान नहीं ह और इसके मद्देनजर शोधकर्ताओं ने महामारी की शुरुआत से इस साल जून तक तीन अलग-अलग स्रोतों से मृत्यु दर का अनुमान लगाया। पहला अनुमान सात राज्यों में मौतों के राज्य स्तरीय पंजीकरण से लगाया गया जिससे 34 लाख अतिरिक्त मौतों का पता लगता है। इसके अलावा शोधकर्ताओं ने आयु-विशिष्ट संक्रमण मृत्यु दर (आईएफआर) के अंतरराष्ट्रीय अनुमानों का भी प्रयोग किया।
शोधकर्ताओं ने उपभोक्ता पिरामिड घरेलू सर्वेक्षण (सीपीएचएस) के आंकड़ों का भी विश्लेषण किया, जो सभी राज्यों में 800,000 से अधिक लोगों के बीच का सर्वेक्षण है। इससे 49 लाख अतिरिक्त मौतों का अनुमान है। शोधकर्ताओं ने कहा कि वे किसी एक अनुमान का समर्थन नहीं करते क्योंकि प्रत्येक तरीके में गुण और कमियां हैं।

भारत अब भी विनाशकारी दूसरी लहर से उबर रहा है जो मार्च में शुरू हुई थी और माना जाता है कि अधिक संक्रामक डेल्टा स्वरूप के कारण भारत में स्थिति खराब हुयी। विश्लेषण से यह भी पता चलता है कि जितना समझा जाता है, पहली लहर उससे कहीं ज्यादा घातक थी। इस साल मार्च के अंत तक, जब दूसरी लहर शुरू हुई, भारत में मरने वालों की आधिकारिक संख्या 1,50,000 से अधिक थी।