BREAKING NEWS

BJP ने कांग्रेस पर ट्रैक्टर परेड के दौरान किसानों को उकसाने का आरोप लगाया ◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : योगेन्द्र यादव, टिकैत, पाटकर सहित 37 किसान नेताओं के खिलाफ नामजद प्राथमिकी ◾राजनाथ ने अमेरिका के नये रक्षा मंत्री ऑस्टिन से क्षेत्रीय, वैश्विक मुद्दों पर बात की ◾बंगाल विधानसभा का दो दिवसीय सत्र शुरू, कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव लाएगी तृणमूल ◾हिंसा में शामिल थे किसान नेता, शर्तों को नहीं मानकर किया विश्वासघात : पुलिस कमिश्नर◾केंद्र सरकार ने जारी की नई गाइडलाइंस,1 फरवरी से खुलेंगे सिनेमा हॉल और स्वीमिंग पूल◾आप नेता राघव चड्डा ने हिंसा के मुद्दे पर बीजेपी को घेरा, लगाए कई गंभीर आरोप◾दिल्ली में हिंसा के लिए गृह मंत्री जिम्मेदार, कांग्रेस ने कहा- केवल 30 से 40 ट्रैक्टर लेकर उपद्रवी लाल किले में कैसे घुस पाए?◾हिंसा के बाद किसान आंदोलन में पड़ी दरार, दो संगठनों ने खुद को किया अलग◾26 जनवरी हिंसा: राकेश टिकैत, अन्य किसान नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज◾गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में कानून-व्यवस्था की समीक्षा की ◾संयुक्त किसान मोर्चा की सफाई - असामाजिक तत्वों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को नष्ट करने की कोशिश की◾दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड में हिंसा के संबंध 200 लोगों को हिरासत में लिया, पूछताछ जारी ◾BCCI प्रमुख सौरव गांगुली को सीने में दर्द, अपोलो हॉस्पिटल में कराया गया एडमिट ◾नेपाल में कोविड टीकाकरण का पहला चरण शुरू, भारत ने तोहफे में दी है 10 लाख वैक्सीन डोज◾ किसान ट्रैक्टर परेड: गणतंत्र दिवस पर हिंसा की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल◾दो दिवसीय दौरे पर केरल पहुंचे राहुल, मलप्पुरम में गर्ल्स स्कूल के भवन का किया उद्घाटन ◾किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हुई कामयाब : हन्नान मोल्लाह◾किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा में 300 पुलिसकर्मी हुए घायल, क्राइम ब्रांच करेगी जांच◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : संयुक्त किसान मोर्चा ने बुलाई बैठक, सभी पहलुओं पर होगी चर्चा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

आंतकवाद को पूरी तरह नष्ट करने के लिए हो एकजुट : महाजन

मास्को : लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने आज कहा कि आतंकवादी नेटवर्क को पूरी तरह से नष्ट करने और सीमापार से आतंकवाद की घुसपैठ रोकने के लिए सभी राष्ट्रों को एकजुटता से काम करना होगा।

source

श्रीमती महाजन ने मास्को में रूस की संसद डूमा को संबोधित करते हुए कहा कि आतंकवाद ने वैश्विक स्वरुप ले लिया है। इसलिए आतंक के बढ़ते खतरे को देखते हुए पूरा विश्व दोहरा मानदंड अपनाए बिना निर्णायक और सामूहिक रूप से इसे परास्त करने के लिए एकजुट हो जाए। श्रीमती महाजन के नेतृत्व में भारतीय संसदीय शिष्टमंडल रूस की यात्रा पर है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष भारत और रूस के राजनयिक संबंधों की स्थापना की 70वीं वर्षगांठ मनायी जा रही है।

source

भारत और रूस की मित्रता को उन्होंने संस्कृत श्लोक से स्मरण किया। श्लोक का अर्थ बताते हुए उन्होंने कहा कि जो सुख, दु:ख, अकाल, उपद्रव, युद्ध के समय, राजा के दरबार में और श्मशान में भी साथ देता है वही सच्चा मित्र होता है। लोकसभा अध्यक्ष ने रूस-भारत संबंधों पर जोर देते हुए कहा कि दोनों देशों की ऊर्जा सेतु बनाने की महत्वाकांक्षी योजना है। उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय उत्तर-दक्षिण परिवहन गलियारे जैसे नए क्षेत्र खोलने और सुगम गलियारे की स्थापना करने तथा दोनों देशों के बीच प्रौद्योगिकी हस्तांतरण एवं जनता में आपसी मेलजोल को सुगम बनाने के प्रयासों को तेज करने की आवश्यकता है।

source

श्रीमती महाजन ने भारत और रूस के रक्षा संबंधों को ऐतिहासिक बताते हुए कहा कि आज यह संबंध क्रेता-विक्रेता के संबंध तक ही सीमित न रहकर गहरे और दोस्ताना हो गए हैं। भारत और रूस संयुक्त राष्ट्र और विशेष रूप से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सुधार की आवश्यकता के बारे में सहमत हैं जिससे यह संस्था मौजूदा चुनौतियों और खतरों का और अधिक प्रभावी ढंग से सामना कर सके। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता के लिए पुरजोर समर्थन करने के लिए रूस को धन्यवाद दिया।

source

श्रीमती महाजन ने रूस की संसद अध्यक्ष व्याचेस्लाव वोलोदिन के साथ द्विपक्षीय वार्ता की। बातचीत के दौरान दोनों देशों की संसदों के बीच सहयोग बढ़ाने निरंतरसंपर्क और समन्वय पर बल दिया। भारत-रूस अंतर-संसदीय आयोग की चौथ बैठक में व्यापार, आर्थिक, सांस्कृतिक सहयोग, विशिष्ट सामरिक भागीदारी के क्षेत्रों में भारत और रूस के बीच द्विपक्षीय संबधो को सुगम बनाने में सांसदों की भूमिका, ब्रिक्स और शंघाई सहयोग संगठन पर संसदीय विचार-विमर्श, क्षेत्रीय स्थिरता और सुरक्षा तथा बहुपक्षीय मंचों पर आतंकवाद और अतिवाद के विरुद्ध संघर्ष करना आदि विषय शामिल रहे।