BREAKING NEWS

वैक्सीन उत्पादन बढ़ाने के लिए पूरी कोशिश जारी : एसआईआई प्रमुख◾गुलाम नबी आजाद ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र, टीका उत्पादन बढ़ाने के दिए सुझाव◾भारत में जुलाई तक टीकों की 51.6 करोड़ खुराकें दी जा चुकी होंगी : हर्षवर्धन◾कांग्रेस ने गुजरात जैसे राज्यों में कोविड-19 संबंधी मौतें कम दिखाने का लगाया आरोप◾मोदी की आलोचना करने वाले पोस्टर चिपकाने पर 25 प्राथमिकी दर्ज, 25 लोग गिरफ्तार◾आधार कार्ड न होने की वजह से टीका लगाने, आवश्यक सेवाएं देने से इनकार नहीं किया जा सकता : UIDAI◾चक्रवाती तूफान पर PM मोदी ने की उच्चस्तरीय मीटिंग, गृह मंत्रालय ने तैनात की एसडीआरएफ की टुकड़ी◾स्टेराइड को गलत तरीके से लेने या दुरूपयोग से बढ़ता है फंगल इन्फेक्शन का खतरा : रणदीप गुलेरिया◾कोविड-19 पर चिकित्सीय प्रबंधन दिशा-निर्देशों से हटाई जा सकती है प्लाज्मा थेरिपी, जानिये बड़ी वजह ◾उत्तर प्रदेश में 24 मई तक बढ़ा कोरोना कर्फ्यू, एक करोड़ गरीबों को राशन और नकदी देगी योगी सरकार◾धनखड़ ने नंदीग्राम का किया दौरा, हिंसा पीड़ितों की स्थिति पर बोले - ज्वालामुखी पर बैठा है राज्य ◾IMD ने जारी की चेतावनी - मजबूत हुआ ‘तौकते’ तूफान, गुजरात के लिए जारी किया हाई अलर्ट ◾मलेरकोटला पर योगी के ट्वीट को अमरिंदर ने बताया भड़काऊ, कहा- ये पंजाब में नफरत फैलाने की कोशिश ◾केंद्र सरकार की विनाशकारी वैक्सीन रणनीति तीसरी लहर सुनिश्चित करेगी : राहुल गांधी◾क्या B1.617.2 वैरिएंट है कोरोना का सबसे खतरनाक रूप, ब्रिटिश एक्सपर्ट का दावा- इसमें वैक्सीन भी प्रभावी नहीं◾गांवों में संक्रमण को रोकने के लिए PM मोदी ने घर-घर टेस्टिंग पर दिया जोर, कहा- स्वास्थ्य संसाधनों पर फोकस जरूरी◾महामारी के समय सारे भेद भूलकर और दोषों की चर्चा छोड़कर टीम भावना से कार्य करने की जरुरत : मोहन भागवत ◾UP: लॉकडाउन के चलते सुधर रहे हालात, पिछले 24 घंटों में 12,547 नए मामले, 281 मरीजों ने तोड़ा दम◾ब्रिटेन ने घटाया कोविशील्ड की दूसरी खुराक का गैप, अब UK में 8 हफ्ते बाद लगेगी वैक्सीन की दूसरी डोज◾ताबड़तोड़ रैलियों के बाद पश्चिम बंगाल पर टूटा कोरोना का कहर, 16 मई से 30 मई तक लगा संपूर्ण लॉकडाउन◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

TOP 5 NEWS 10 FEBRUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें

1 - CORONAVIRUS : 10 महीने में पहली बार दिल्ली में 24 घंटे में कोरोना से एक भी मौत नहीं

पिछले 10 महीने में ऐसा पहली बार हुआ है जब एक दिन में किसी की भी मौत कोविड-19 की वजह से नहीं हुई है। आंकड़ों की मानें तो दिल्ली में कोरोना वायरस के मृतकों की संख्या 10,882 है। पिछले 24 घंटे में दिल्ली में कोरोना वायरस से एक भी मौत नहीं हुई है। दिल्ली में संक्रमण दर में कमी आने के बाद अब यह 0.18 फीसदी है। मंगलवार देर शाम दिल्ली सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में दिल्ली में कोरोना वायरस के 100 नए केस मिले हैं, जबकि 144 लोग इससे ठीक भी हुए हैं। हालांकि, इस दौरान मौत का एक भी मामला सामने नहीं आया। इस तरह से दिल्ली में कोरोना वायरस के कुल मामलों की संख्या 6,36,260 हो गई है, जिनमें से 6,24,326 पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं। वहीं, भारत की बात करे तो देश में अभी कोरोना के कुल मामले 1,08,47,304 हैं। 

2 - कांग्रेस : लंबी हो सकती है गुलाम नबी आजाद की शाम, जानें कांग्रेस के सामने क्या है सबसे बड़ी परेशानी?

कांग्रेस के सामने मुश्किल यह है कि वह चाहकर भी गुलाम नबी आजाद को जल्द राज्यसभा नहीं भेज सकती। राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने बेहद भावुक अंदाज में अपना विदाई भाषण देते हुए शेर पढ़ा। राज्यसभा में वापसी के लिए उनकी शाम लंबी हो सकती है। पार्टी के पास उन्हें राज्यसभा भेजने के लिए कोई सीट नहीं है। इसके साथ विधानसभा के भी चुनाव होने हैं, ऐसे में उम्मीद कम है। गुलाम नबी आजाद कांग्रेस के उन गिने चुने पार्टी नेताओं में है, जिन्हें गांधी परिवार की तीन पीढ़ियों के साथ काम करने का अनुभव है। आजाद लगभग सभी प्रदेशों और केंद्र शासित राज्यों के प्रभारी रहे हैं। पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल के निधन के बाद कांग्रेस में वह इकलौते ऐसे नेता हैं, जिनके कश्मीर से कन्याकुमारी तक हर राजनीतिक दल में उनके मित्र हैं। ऐसे में पार्टी उन्हें संगठन में जिम्मेदारी सौंपकर उनके अनुभवों का लाभ ले सकती है।

3 - ट्रैक्टर रैली हिंसा : 20 मोबाइल व सोशल मीडिया अकाउंट की जांच के बाद ऐसे पकड़ा गया दीप सिद्धू

दीप सिद्धू की गिरफ्तारी में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल व क्राइम ब्रांच की 10 टीम के 50 पुलिसकर्मी जुटे थे। जबकि वीडियेा फुटेज व डंप डाटा के आधार पर तैयार करीब संदिग्ध मोबाइल नंबर की कॉल डिेटेल रिकॉर्ड(सीडीआर) और सोशल मीडिया अकाउंट की भी पिछले 13 दिनों से लगातार तकनीकी जांच चल रही थी, इसके बाद दीप का सुराग हाथ लगा और पुलिस ने उसे आखिरकार सोमवार देर रात करनाल से धर दबोचा। हिंसा मामले की जांच को लेकर पुलिस ने दीप सिद्धू समेत कई लोगों के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने, लोगों को उकसाने और तोड़फोड़ के आरोप में केस दर्ज कर जांच आरंभ की थी। इतना ही नहीं पुलिस ने करीब 44 एफआईआर दर्ज कर सिद्धू समेत 65 लोगों के खिलाफ लुकआउट नोटिस भी जारी किया था। इसके बाद से ही पुलिस की कई टीमें आरोपियों की तलाश में जुटी थीं। इस बीच सिद्धू ने पुलिस से बचने के लिए मोबाइल तो बंद कर दिया था, लेकिन उसके फेसबुक पर वीडियो अपलोड हो रहे थे। वह भी किसी और के जरिये। इस यही छोटी सी चूक ने दीप सिद्धू को आखिरकार 13 दिन बाद ही सही सलाखों के पीछे पहुंचा ही दिया।

4 - चमोली त्रासदी : वैज्ञानिकों ने जताया अंदेशा- बर्फ की चट्टानों के कमजोर पड़ने से आया जल सैलाब!

उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने से आई बाढ़ में कई लोगों की मौतें हो चुकी हैं और काफी जान-माल का नुकसान हुई है। हादसा होने के बाद अब इसके कारणों का पता लगाया जा रहा है कि आखिर यह जल सैलाब किस वजह से आया? डब्ल्यूआईएचजी की दो टीमें सोमवार को जोशीमठ के लिए रवाना हुई थीं, ताकि घटना के कारणों का पता लगाया जा सके। वैज्ञानिकों का मानना है कि उत्तराखंड के चमोली जिले में आई बाढ़ का कारण बर्फ की विशाल चट्टान के बरसों तक जमे रहने और पिघलने के कारण उसके कमजोर पड़ने से वहां शायद कमजोर जोन का निर्माण हुआ होगा, जिससे अचानक सैलाब आ गया। वाडिया हिमालय भू विज्ञान संस्थान (डब्ल्यूआईएचजी) के वैज्ञानिकों ने शुरुआती तौर पर यह अंदेशा जताया है। उन्होंने कहा कि हिम चट्टान ढहने के दौरान अपने साथ मिट्टी और बर्फ के टीले भी लेकर आई। इस घर्षण से संभवत: गर्मी उत्पन्न हुई, जो बाढ़ आने की वजह बनी होगी। संस्थान के वैज्ञानिकों ने विनाशकारी बाढ़ के कारणों का सुराग हासिल करने के लिए इलाके का हेलीकॉप्टर से सर्वेक्षण किया। 

5 - QUAD COUNTRIES: PM मोदी-बाइडेन की पहली बातचीत में ड्रैगन को सख्त संदेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन के बीच सोमवार रात को हुई बातचीत के बाद जल्द ही क्वाड की बैठक को लेकर भी संभावना जताई जा रही है। बातचीत पर अमेरिका की ओर से जारी बयान में क्वाड का खास जिक्र किया गया है। भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, जापान का चार देशों का समूह दक्षिण चीन सागर व हिंद प्रशांत छेत्र में नियम आधारित व्यवस्था की वकालत करता रहा है। चीन इसे अपने खिलाफ मोर्चे के रूप में देखता है। पिछले दिनों रूस ने भी इस गठजोड़ को लेकर सवाल उठाए थे। हालांकि, भारत स्पष्ट कहता रहा है कि क्वाड को किसी देश के खिलाफ मोर्चेबंदी के रूप में नहीं देखना चाहिए। सूत्रों ने कहा कि अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बाइडन इंडो-पैसिफिक क्षेत्र की चार बड़ी लोकतांत्रिक ताकतों को एकजुट करना चाहते हैं। अमेरिका क्वॉड के आधार पर अपनी इंडो-पैसिफिक नीति निर्धारित करना चाहता है। सूत्रों का कहना है कि ऑनलाइन मीटिंग जल्द हो सकती है। गौरतलब है कि इस इलाके में चीन की बढ़ती सैन्य मौजूदगी को देखते हुए अमेरिका क्वाड देशों के साथ रणनीतिक सहयोग को विस्तार देना चाहता है।