BREAKING NEWS

वैक्सीन उत्पादन बढ़ाने के लिए पूरी कोशिश जारी : एसआईआई प्रमुख◾गुलाम नबी आजाद ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र, टीका उत्पादन बढ़ाने के दिए सुझाव◾भारत में जुलाई तक टीकों की 51.6 करोड़ खुराकें दी जा चुकी होंगी : हर्षवर्धन◾कांग्रेस ने गुजरात जैसे राज्यों में कोविड-19 संबंधी मौतें कम दिखाने का लगाया आरोप◾मोदी की आलोचना करने वाले पोस्टर चिपकाने पर 25 प्राथमिकी दर्ज, 25 लोग गिरफ्तार◾आधार कार्ड न होने की वजह से टीका लगाने, आवश्यक सेवाएं देने से इनकार नहीं किया जा सकता : UIDAI◾चक्रवाती तूफान पर PM मोदी ने की उच्चस्तरीय मीटिंग, गृह मंत्रालय ने तैनात की एसडीआरएफ की टुकड़ी◾स्टेराइड को गलत तरीके से लेने या दुरूपयोग से बढ़ता है फंगल इन्फेक्शन का खतरा : रणदीप गुलेरिया◾कोविड-19 पर चिकित्सीय प्रबंधन दिशा-निर्देशों से हटाई जा सकती है प्लाज्मा थेरिपी, जानिये बड़ी वजह ◾उत्तर प्रदेश में 24 मई तक बढ़ा कोरोना कर्फ्यू, एक करोड़ गरीबों को राशन और नकदी देगी योगी सरकार◾धनखड़ ने नंदीग्राम का किया दौरा, हिंसा पीड़ितों की स्थिति पर बोले - ज्वालामुखी पर बैठा है राज्य ◾IMD ने जारी की चेतावनी - मजबूत हुआ ‘तौकते’ तूफान, गुजरात के लिए जारी किया हाई अलर्ट ◾मलेरकोटला पर योगी के ट्वीट को अमरिंदर ने बताया भड़काऊ, कहा- ये पंजाब में नफरत फैलाने की कोशिश ◾केंद्र सरकार की विनाशकारी वैक्सीन रणनीति तीसरी लहर सुनिश्चित करेगी : राहुल गांधी◾क्या B1.617.2 वैरिएंट है कोरोना का सबसे खतरनाक रूप, ब्रिटिश एक्सपर्ट का दावा- इसमें वैक्सीन भी प्रभावी नहीं◾गांवों में संक्रमण को रोकने के लिए PM मोदी ने घर-घर टेस्टिंग पर दिया जोर, कहा- स्वास्थ्य संसाधनों पर फोकस जरूरी◾महामारी के समय सारे भेद भूलकर और दोषों की चर्चा छोड़कर टीम भावना से कार्य करने की जरुरत : मोहन भागवत ◾UP: लॉकडाउन के चलते सुधर रहे हालात, पिछले 24 घंटों में 12,547 नए मामले, 281 मरीजों ने तोड़ा दम◾ब्रिटेन ने घटाया कोविशील्ड की दूसरी खुराक का गैप, अब UK में 8 हफ्ते बाद लगेगी वैक्सीन की दूसरी डोज◾ताबड़तोड़ रैलियों के बाद पश्चिम बंगाल पर टूटा कोरोना का कहर, 16 मई से 30 मई तक लगा संपूर्ण लॉकडाउन◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

'मन की बात' में आयुर्वेद को लेकर PM मोदी के विचारों का परंपरागत वैद्यों ने किया स्वागत

कोरोना महामारी से लड़ने में आयुर्वेद की भूमिका की  “मन की बात” में रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सराहना किए जाने का परंपरागत वैद्यों ने स्वागत किया है। प्रधानमंत्री ने आज कहा कि दुनिया ने कोरोना महामारी के वैश्विक संकट के दौरान भारत के सदियों पुराने आयुर्वेद के सिद्धांतों को भी अपनाया गया है।

परंपरागत वैद्य संघ भारत के राष्ट्रीय महासचिव वैद्य निर्मल अवस्थी ने कहा कि आयुर्वेद भारत की लोक स्वास्थ्य परंपरा को प्रमाणित करता है अब, जबकि कोरोना महामारी की रोकथाम में प्रधानमंत्री ने आयुर्वेद की भूमिका की सराहना की, यह हमारे लिए गौरव की बात है और इस संघ से देशभर से जुड़े 23,000 परंपरागत वैद्य इसका स्वागत करते हैं। 

उन्होंने कहा कि भारत में आयुर्वेद पर बहुत सारे ग्रंथ लिखे गए जो सैद्धांतिक और शास्त्र सम्मत हैं, लेकिन आज के युग में इसे वैश्विक स्तर पर लाने के लिए वैज्ञानिक तौर पर प्रमाणित करने की जरूरत है और इस बात का जिक्र प्रधानमंत्री ने भी अपनी मन की बात में किया है। अवस्थी ने इस मामले में चीन का उदाहरण देते हुए कहा कि उसने दुनिया के सामने ग्रंथ प्रस्तुत नहीं किया, बल्कि ज्ञान प्रस्तुत किया, जबकि भारत में ग्रंथ को सामने लाया गया। 

उन्होंने कहा कि आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति को पुरातन मापदंडों पर आंका गया है और सारे सिद्धांतों का परीक्षण, शोध, भाषा परिषद में इस पर चर्चा के बाद एक मत होने के बाद ही इसे प्रमाणित किया गया है। हालांकि आज के इस वैज्ञानिक युग में इसका वैज्ञानिक ढंग से प्रमाणन जरूरी है। तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री के विचारों को सुनकर लगता है कि सरकार आयुर्वेद के क्षेत्र में अनुसंधान पर बजटीय आबंटन बढ़ाएगी। उन्होंने कहा कि आज जो भी औषधियां सिद्ध हैं उन्हें वैज्ञानिक तौर पर प्रमाणित करने की जरूरत है। विश्व आयुर्वेद मिशन के अध्यक्ष प्रोफेसर जी.एस. तोमर ने "मन की बात" में आयुर्वेद को लेकर प्रधानमंत्री के विचारों का स्वागत करते हुए कहा, “जब तक हम आयुर्वेदिक औषधियों को वैज्ञानिक मापदंड पर प्रमाणित नहीं करते, तब तक विश्व के लोगों को आयुर्वेद की ताकत का एहसास नहीं होगा।” 

वर्तमान में जहां स्वास्थ्य क्षेत्र का करीब 97 प्रतिशत बजट अंग्रेजी चिकित्सा पद्धति (ऐलोपैथी) को आबंटित किया जाता है, वहीं आयुर्वेद सहित पूरे आयुष को महज तीन प्रतिशत बजट मिलता है। वहीं वैद्य निर्मल अवस्थी ने प्रधानमंत्री को 17 अप्रैल को लिखे पत्र में इस बात का उल्लेख किया था कि भारत की रत्नगर्भा में लगभग आठ हजार औषधीय पौधों की पहचान एवं उपयोगिता सिद्ध हो चुकी है और इन पौधों से पारंपरिक वैद्य उपचार कर रहे हैं। पूरे भारत में लगभग एक लाख पारंपरिक वैद्य हैं जिनकी उपयोगिता आयुष विभाग की विभिन्न योजनाओं के तहत सिद्ध की जा सकती है।