BREAKING NEWS

दिग्विजय सिंह की PM मोदी को सलाह, कहा-NRC के बजाय शिक्षित बेरोजगारों का राष्ट्रीय रजिस्टर करें तैयार ◾‘एयर इंडिया’ में 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचेगी केंद्र सरकार, 17 मार्च 2020 तक लगाई जा सकती हैं बोलियां◾बेरोजगारी को लेकर प्रियंका का मोदी सरकार पर वार, बोलीं-7 क्षेत्रों में बेरोजगार हो गए साढ़े 3 करोड़ लोग◾ CAA के खिलाफ ममता बनर्जी आज पश्चिम बंगाल विधानसभा में पेश करेंगी प्रस्ताव◾कोरोना वायरस मामला : चीन से बिहार लौटी युवती PMCH में भर्ती◾दिल्ली चुनाव : अमित शाह की रैली में सीएए का विरोध कर रहे युवक को लोगों ने पीटा◾ईरान से तनाव के बीच इराक की राजधानी में अमेरिकी दूतावास पर फिर हमला, दागे गए 3 रॉकेट◾सोनिया गांधी के घर बजट सत्र को लेकर कांग्रेस की आज बैठक, सरकार को घेरने की बनेगी रणनीति◾कोहरे के कारण दिल्ली आने वालीं 14 ट्रेनें 1 से 3 घंटे तक लेट ◾बोडो शांति समझौते पर हस्ताक्षर से पहले सभी पक्षकारों को विश्वास में लिया जाए : कांग्रेस ◾चीन में कोरोनावायरस संक्रमण से अभी तक कोई भारतीय प्रभावित नहीं : विदेश मंत्रालय ◾सभी शरणार्थियों को CAA के तहत दी जाएगी नागरिकता : पश्चिम बंगाल भाजपा प्रमुख ◾खेलो इंडिया की तर्ज पर हर वर्ष खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स आयोजित होगा : प्रधानमंत्री मोदी ◾हिंसा किसी समस्या का समाधान नहीं, शांति हर सवाल का जवाब : PM मोदी ◾उल्फा (आई) ने गणतंत्र दिवस पर असम में हुए विस्फोटों की जिम्मेदारी ली ◾गणतंत्र दिवस पर कांग्रेस ने प्रधानमंत्री मोदी को संविधान की प्रति भेजी ◾ब्राजील के राष्ट्रपति बोलसोनारो की मौजूदगी में भारत ने मनाया 71वां गणतंत्र दिवस ◾71वां गणतंत्र दिवस के मोके पर राष्ट्रपति कोविंद ने राजपथ पर फहराया तिरंगा◾गणतंत्र दिवस पर सैन्य शक्ति, सांस्कृतिक विरासत और सामाजिक-आर्थिक प्रगति का होगा भव्य प्रदर्शन◾अदनान सामी को पद्मश्री पुरस्कार मिलने पर हरदीप सिंह पुरी ने दी बधाई ◾

बारह विपक्षी दलों ने असम मामले में कोविंद से की गुहार

नई दिल्ली : बारह विपक्षी दलों ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर मसौदे के मामले में हस्तक्षेप करने का अनुरोध करते हुए असम के किसी नागरिक का नाम इस सूची से वंचित न किये जाने की अपील की। पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौडा के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने श्री कोविंद से गुरुवार दोपहर सवा एक बजे राष्ट्रपति भवन में मुलाकात कर इस मुद्दे पर उनका ध्यान इस ओर खींचा और एक ज्ञापन भी दिया। तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डेरेक ओ ब्रायन ने पत्रकारों को बताया कि श्री कोविंद ने मुला़कात के लिए निर्धारित समय से अधिक देर तक उनकी बातें सुनी और करीब आधे घंटे से अधिक समय तक उनकी बातों पर गौर से सुना।

प्रतिनिधिमंडल में ज्ञारह लोग शामिल थे। राष्ट्रपति को दिए गए ज्ञापन में जनता दल सेक्युलर के अध्यक्ष देवगौड़ के अलावा कांग्रेस के आनंद शर्मा, समाजवादी पार्टी के राम गोपाल यादव, राष्ट्रीय जनता दल की मीसा भारती, राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी की सुप्रिया सुले, नेशनल कांफ्रेंस के फारूक अब्दुल्ला, द्रमुक के तिरुची शिव, माकपा के डी सलीम भाकपा के डी राजा, तेलगु देशम के वाई एस चौधरी, आम आदमी पार्टी के संजय सिंह तथा तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन, और सुदीप बंदोपाध्याय के हस्ताक्षर शामिल हैं। ज्ञापन में कहा गया है कि सत्तारूढ दल ने उच्चतम न्यायालय के खिलाफ भ्रामक बयान देकर देश के लोकतांत्रिक और धर्मनिरपेक्ष मूल्यों की अवहेलना की है जबकि शीर्ष अदालत ने किसी भी नागरिक को इस सूची से वंचित करने को नहीं कहा है।

इस रजिस्टर से चालीस लाख लोगों के नाम हटायें गए हैं जिनमें बंगाली, असमी, बिहारी, राजस्थानी, गोरखा, मारवाड़, पंजाबी तथा उत्तर प्रदेश के लोग एवं दक्षिण भारत के लोग भी शामिल हैं। इस सूची में सैनिकों, पूर्व राष्ट्रपति तथा पूर्व मुख्यमंत्रियों के परिवार के लोगों के आलावा नागरिक समाज के कई प्रमुख लोगों का भी नाम नही है। यह सूची राजनीतिक बदले की कार्रवाई के तहत तैयार की गयी है। उच्चतम न्यायालय ने असम के राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर के प्रदेश संयोजक और रजिस्टर जनरल को भी फटकार लगाई है। श्री ब्रायन ने यह भी कहा कि ज्ञापन में हमने राष्ट्रपति का ध्यान इस बात की ओर भी खींचा है कि इस रजिस्टर की घटना के बाद सत्तापक्ष संसद संविधान न्यायपालिका और मीडिया की अवहेलना कर उनका अवमूल्यन कर रहा है। इसलिए संविधान के रक्षक होने के नाते आप से अनुरोध है कि आप इसमें हस्तक्षेप कर किसी भी नागरिक का नाम इस सूची से वंचित न होने को सुनिश्चित करे।