BREAKING NEWS

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा- भविष्य में युद्ध जीतने के लिए नई प्रतिभाओं की भर्ती की जरूरत◾शशि थरूर की महिला सांसदों सग सेल्फी हुई वायरल, कैप्शन लिखा- कौन कहता है लोकसभा आकर्षक जगह नहीं?◾ओवैसी बोले- CAA को भी रद्द करे मोदी सरकार..पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा- इनको कोई गंभीरता से नहीं लेता◾ 'ओमीक्रोन' के बढ़ते खतरे के चलते जापान ने विदेशी यात्रियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की◾IND VS NZ के बीच पहला टेस्ट मैच हुआ ड्रा, आखिरी विकेट नहीं ले पाई टीम इंडिया ◾विपक्ष को दिया बड़ा झटका, एक साथ किया इतने सारे सांसदों को राज्यसभा से निलंबित◾तीन कृषि कानून: सदन में बिल पास कराने से लेकर वापसी तक, जानिये कैसा रहा सरकार और किसानों का गतिरोध◾कृषि कानूनों की वापसी पर राहुल का केंद्र पर हमला, बोले- चर्चा से डरती है सरकार, जानती है कि उनसे गलती हुई ◾नरेंद्र तोमर ने कांग्रेस पर लगाया दोहरा रुख अपनाने का आरोप, कहा- किसानों की भलाई के लिए थे कृषि कानून ◾ तेलंगाना में कोविड़-19 ने फिर दी दस्तक, एक स्कूल में 42 छात्राएं और एक शिक्षक पाए गए कोरोना संक्रमित ◾शीतकालीन सत्र में सरकार के पास बिटक्वाइन को करेंसी के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं: निर्मला सीतारमण◾विपक्ष के हंगामे के बीच केंद्र सरकार ने राज्यसभा से भी पारित करवाया कृषि विधि निरसन विधेयक ◾कृषि कानूनों की वापसी का बिल लोकसभा में हुआ पारित, टिकैत बोले- यह तो होना ही था... आंदोलन रहेगा जारी ◾बिना चर्चा कृषि कानून बिल वापसी को विपक्ष ने बताया लोकतंत्र के लिए काला दिन, मिला ये जवाब ◾प्रदूषण के मद्दे पर SC ने अपनाया सख्त रुख, कहा- राज्य दिशानिर्देश नहीं मानेंगे, तो हम करेंगे टास्क फोर्स का गठन ◾कांग्रेस का केंद्र पर निशाना -बिल वापसी नहीं हुई चर्चा क्योंकि सरकार को हिसाब और जवाब देना पड़ता◾पीएम मोदी ने निभाया किसानों को दिया वादा, लोकसभा में हंगामे के बीच पास हुआ कृषि कानून वापसी बिल ◾प्रधानमंत्री मोदी की अपील का नहीं हुआ विपक्ष पर असर, हंगामेदार हुई दोनों सदनों की शुरुआत ◾किसानों के समर्थन में संसद के बाहर कांग्रेस का विरोध, राहुल बोले- आज उगाना है अन्नदाता के नाम का सूरज ◾"संसद में सवाल भी हो और शांति भी", सत्र की शुरुआत से पहले बोले मोदी- कुर्सी की गरिमा को रखें बरकरार◾

भारतीय औद्योगिक साझेदारों के साथ मिलकर दो और रॉकेटों का संपूर्ण उत्पादन किया जाएगा : अंतरिक्ष विभाग

अंतरिक्ष विभाग ने भारतीय औद्योगिक साझेदारों के साथ मिलकर पीएसएलवी के अलावा दो और रॉकेटों जीएसएलवी-एमके III और एसएसएलवी के संपूर्ण उत्पादन की योजना बनाई है। विभाग के वाणिज्यिक अंग एनएसआईएल के एक शीर्ष अधिकारी ने यह जानकारी दी।

न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (एनएसआईएल) को पीएसएलवी (ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान) के संपूर्ण निर्माण के लिये जारी उसके प्रस्ताव अनुरोध (आरएफपी) के जवाब में तीन आवेदन मिले हैं। ये आवेदन एचएएल-एलएंडटी, बीईएल-अडानी-बीईएमएल और बीएचईएल ने दाखिल किये हैं।

एनएसआईएल के अध्यक्ष तथा प्रबंध निदेशक राधाकृष्णन डी ने बताया, ''अभी हम (तीनों आवेदनों के संबंध में) तकनीकी-वाणिज्यिक मूल्यांकन की प्रक्रिया में हैं।'' उन्होंने कहा कि यह प्रक्रिया अगले दो महीनों के भीतर पूरी हो जाएगी, जिसमें किसी एक बोली लगाने वाले को अनुबंध मिल जाएगा।

राधाकृष्णन ने कहा , ''संपूर्ण पीएसएलवी का उत्पादन करने के लिए बोलीदाता के चयन के तुरंत बाद, एनएसआईएल एक अन्य परिचालन रॉकेट जीएसएलवी-एमके III (जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल) के संपूर्ण उत्पादन के लिए अभिरुचि पत्र (ईओआई) जारी करेगा।''

उन्होंने कहा, ''मैं इस साल के अंत से पहले (जीएसएलवी-एमके III के लिए ईओआई जारी होने की) उम्मीद कर रहा हूं।'' एनएसआईएल ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) द्वारा विकसित किए जा रहे एसएसएलवी (लघु उपग्रह प्रक्षेपण यान) को इस साल के अंत तक भारतीय उद्योग भागीदारों के माध्यम से जारी करने की भी योजना बनाई है।