BREAKING NEWS

देश में कोरोना का आंकड़ा 6 लाख के पार, पिछले 20 दिनों के अंदर 3 लाख से अधिक केस आए सामने ◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 करोड़ 6 लाख के पार, अब तक 5 लाख से अधिक लोगों ने गंवाई जान ◾मध्यप्रदेश : शिवराज सरकार के कैबिनेट का विस्तार होगा आज, करीब 24 मंत्री ले सकते है शपथ ◾असम में बाढ़ से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 33 हुई, 15 लाख लोग हुए प्रभावित◾प्रियंका गांधी का मकान खाली कराने का कदम PM मोदी और CM योगी की बेचैनी दिखाता है : कांग्रेस◾रेलवे ने दी निजी यात्री ट्रेने शुरू करने को हरी झंडी, 30,000 करोड़ रुपये का होगा निवेश◾भारत के साथ सैन्य कमांडरों की बातचीत में प्रगति का चीन ने किया स्वागत, कहा - तनाव जल्द कम होगा ◾चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगाने के फैसले पर भारत के साथ खड़ा हुआ अमेरिका, कहा - सुरक्षा के लिए जरूरी ◾दिल्ली में 2,442 नए मामले सामने आने के बाद कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 89 हजार के पार ◾UAPA कानून के तहत गृह मंत्रालय ने खालिस्तानी समूहों से जुड़े नौ लोगों को आतंकवादी घोषित किया ◾ 5,537 नए मामलों के साथ महाराष्ट्र में कोरोना मीटर पहुंचा 1,80,298, अबतक 8,053 मरीजों की मौत ◾59 चीनी ऐप बैन करने के बाद पीएम मोदी ने चीनी सोशल मीडिया प्लेटफार्म वीबो को कहा अलविदा ◾कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी से एक महीने में सरकारी बंगला खाली करने का आदेश◾चीन की दादागिरी पर अमेरिका सख्त,कहा - अगर हांगकांग को “निगलने” की कोशिश की हम चुप नहीं बैठेंगे ◾कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए मुंबई में 15 जुलाई तक लगाई गई धारा 144◾सैन्य तैयारियों का जायजा लेने के लिए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह शुक्रवार को कर सकते है लद्दाख दौरा ◾आनंदीबेन पटेल ने मध्यप्रदेश के प्रभारी राज्यपाल पद की शपथ ली ◾चीन को एक और झटका देने की तैयारी में भारत, हाईवे प्रोजेक्ट्स में चीनी कंपनियों को करेगा बैन◾कोरोनिल को लेकर आयुष मंत्रालय के साथ समाप्त हुआ विवाद, देश में हर जगह होगी उपलब्ध : रामदेव◾कोरोनिल पर विवाद को लेकर बोले रामदेव, क्या सिर्फ कोट-टाई वालों ने रिसर्च का ठेका ले रखा है◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

विपक्ष के विरोध के बीच लोकसभा में पास हुआ UAPA बिल

आतंकवाद फैलाने वाले संगठनों के साथ ही ऐसी गतिविधियों में लिप्त व्यक्ति विशेष को भी अब आतंकवादी घोषित करने और उस पर प्रतिबंध लगाने से संबंधित विधेयक विपक्ष के विरोध और बहिर्गमन के बीच बुधवार को लोकसभा में पारित हो गया। गृह मंत्री अमित शाह ने विधेयक पर दो दिन तक चली चर्चा का जवाब देते हुए बुधवार को लोकसभा में कहा कि इसके राजनीतिक दुरुपयोग की आशंकाओं को खारिज कर दिया गया है। 

उन्होंने कहा कि व्यक्ति विशेष को गैर-कानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के दायरे में लाना जरूरी था इसीलिए सरकार को गैर-कानूनी गतिविधि (रोकथाम) संशोधन विधेयक, 2019 लाना पड़ा। उन्होंने कहा कि आतंकवाद सिर्फ बंदूक से जन्म नहीं लेता। जो उसका अपप्रचार करता है वह भी आतंकवादी है। 

लोकसभा में बोले ओवैसी-सत्ता से बाहर होते ही मुसलमानों की ‘बिग ब्रदर बन जाती है कांग्रेस

इस संशोधन के जरिए आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने वाले, आतंकवादियों को तैयारी में मदद करने वाले, उन्हें आर्थिक सहायता प्रदान करने वाले और साहित्य एवं वैचारिक प्रचार के जरिए आतंकवाद के सिद्धांत का प्रचार करने वालों को आतंकवादी घोषित करने का प्रावधान किया गया है। 

अमित शाह ने आश्वस्त किया ‘‘इसमें बहुत सारी सावधानी बरती गयी है कि इसका दुरुपयोग न हो। ..मैं आश्वस्त करना चाहता हूँ कि कानून सिर्फ और सिर्फ आतंकवाद को समाप्त करने के लिए है। समय आ गया है कि एक के बाद एक संस्था बदलने वालों को आतंकवादी घोषित किया जाए।’’ 

इससे पहले कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने विधेयक को संसद की स्थायी समिति और संयुक्त प्रवर समिति के पास भेजने की मांग की। उनकी मांग नहीं माने जाने पर कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों ने सदन से बहिर्गमन किया जबकि अमित शाह ने कहा कि विपक्षी दलों के सदस्य ‘‘वोट बैंक नाराज न हो इस भय से’’ सदन से बाहर जा रहे हैं। 

ऑल इंडिया मजलिसे इत्तेहादुल मुसलमीन के असदुद्दीन ओवैसी ने विधेयक पर विचार का विरोध किया और मत विभाजन की मांग की। मतदान से पहले बहुजन समाज पार्टी के सदस्य भी सदन से बाहर चले गए। मतदान पर्चियों से हुए मतदान में आठ के मुकाबले 287 मतों से विधेयक पर विचार की अनुमति मिल गई। 

इसके बाद विपक्ष के सभी संशोधन भी सदन में खारिज हो गये। ओवैसी द्वारा पेश संशोधनों पर तीन बार मतदान हुआ हालांकि अध्यक्ष ने इन तीनों मौकों पर पर्चियों की बजाय संशोधनों का समर्थन तथा विरोध करने वालों से बारी-बारी से उनकी जगहों पर खड़े होने के लिए कहकर मतदान कराया। 

पहली दो बार में संशोधनों के पक्ष में आठ तथा विरोध में 288 मत पड़े जबकि तीसरी बार में संशोधनों पक्ष में सात और विरोध में 288 मत पड़े। अध्यक्ष ओम बिरला ने खड़ा करवाकर सदस्यों की गणना करने के लिए लोकसभा के कार्यसंचालन एवं प्रक्रिया संबंधी 367 नियम का हवाला दिया जिसके तहत अध्यक्ष को यदि लगता है कि मत विभाजन की ‘‘अनावश्यक’’ मांग की जा रही है तो वह इस प्रकार से मतदान करवा सकता है।