BREAKING NEWS

आतंकी मॉड्यूल : ISI प्रशिक्षित आतंकवादी भारत में पुलों, रेलवे पटरियों को उड़ाने वाले थे - आधिकारिक सूत्र◾केशव प्रसाद मौर्य ने सपा पर साधा निशाना , कहा - रोजा-इफ्तार पार्टी करने वाले अब मंदिर-मंदिर घूम रहे हैं◾RSS पर विवादित बयान देने पर राहुल पर प्राथमिकी दर्ज करने पर विचार कर रहे हैं नरोत्तम मिश्रा◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुणे के दगडूशेठ हलवाई गणपति ट्रस्ट की सराहना की◾SC, ST, OBC , अल्पसंख्यक, महिलाओं के लिए योजनाओं को लेकर केंद्र ने GoM का किया गठन◾केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ शिरोमणि अकाली दल शुक्रवार को दिल्ली में करेगा प्रदर्शन ◾कोविड-19 टीकाकरण को लेकर गोवावासियों को संबोधित करेंगे PM मोदी◾भारत ने अमेरिका में खालिस्तानी अलगाववादी समूहों की गतिविधियों पर चिंता व्यक्त की◾कोविड-19 की बूस्टर खुराक फिलहाल केंद्रीय विषय नहीं : केंद्र◾गुजरात : CM भूपेंद्र पटेल ने अपने पास रखे कई मंत्रालय, कनुभाई देसाई को वित्त विभाग की जिम्मेदारी सौंपी◾वित्त मंत्री सीतारमण बोली- कोरोना महामारी के समय जनधन-आधार-मोबाइल की तिगड़ी पासा पलटने वाली साबित हुई◾विराट कोहली ने किया बड़ा ऐलान, विश्व कप के बाद छोड़ेंगे टी-20 प्रारूप की कप्तानी◾एक समय था जब गुजरात को कहा जाता था कर्फ्यू राजधानी, BJP सरकार ने मजबूत की कानून-व्यवस्था : शाह◾कांग्रेस ने ICMR पर कोरोना से जुड़े तथ्य छिपाने का लगाया आरोप, आपराधिक जांच की मांग की ◾BJP ने राहुल को बताया 'इच्छाधारी हिंदू', कहा- जब व्यक्ति का ‘मूल पिंड’ विदेशी हो, तो रहती है ये विसंगती ◾PM मोदी के जन्मदिन पर दिव्यांगों को मिलेगी सौगात, गुजरात में शुरू होगी ‘मोबाइल वैन’ सेवा◾अमेरिकी दूत का दावा- असरफ गनी के अचानक बाहर निकलने से तालिबान का सत्ता बंटवारा समझौता ठप◾गुजरात की नई कैबिनेट में पटेल समुदाय का दबदबा, कुल 24 मंत्रियों ने ली शपथ◾UP में सरकार बनने पर हर घर को 300 यूनिट बिजली मुफ्त देगी AAP पार्टी, मनीष सिसोदिया ने की घोषणा◾हैदराबाद रेप-मर्डर : रेलवे ट्रैक पर मिली आरोपी की लाश, 6 साल की बच्ची के साथ किया था दुष्कर्म◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

केंद्रीय कृषि मंत्री तोमर ने बताया ई-नाम मंच से 117 और मंडियां जुड़ी, 15 मई तक 1 हजार मंडियों को जोड़ने का लक्ष्य

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने सोमवार को बताया कि इलेक्ट्रॉनिक नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट (ई-नाम) प्लेटफॉर्म के साथ 117 अतिरिक्त थोक मंडियों का एकीकरण किया गया है, जिसके बाद देश भर में ऑनलाइन मंडियों की कुल संख्या 962 तक पहुंच गई है। एक सरकारी बयान में कहा गया है कि ई-नाम प्लेटफॉर्म के साथ इन एकीकृत अतिरिक्त मंडियों में गुजरात की 17, हरियाणा की 26, जम्मू एवं कश्मीर की एक, केरल की पांच, महाराष्ट्र की 54, ओडिशा की 15, पंजाब की 17, राजस्थान की 25, तमिलनाडु की 13 और पश्चिम बंगाल की एक मंडी शामिल हैं। इस समय, किसान अपनी कृषि उपज की नीलामी देशभर में मौजूद 6,900-एपीएमसी (कृषि उपज विपणन समितियों) मंडियों में करते हैं। कुछ कृषक ई-नाम प्लेटफॉर्म के माध्यम से ऑनलाइन बोली के माध्यम से बिक्री कर रहे हैं।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से नई मंडियों का शुभारंभ करते हुए, तोमर ने कहा कि किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए ई-नाम को और मजबूत करने के प्रयास किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि ई-नाम के साथ एपीएमसी मंडियों का एकीकरण करने से किसानों को ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से अपनी उपज को बेचने की सुविधा मिलेगी। 15 मई से पहले 1,000 मंडियों को जोड़ने का लक्ष्य है। मौजूदा कोविड ​​-19 की स्थिति में अधिक मंडियों को एकीकृत किया जा रहा है क्योंकि ई-नाम मंच पर बोली लगाने के लिए नीलामी स्थल के पास खरीदार या व्यापारी की भौतिक उपस्थिति जरूरी नहीं है। इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्म, ई-भुगतान सुविधा भी प्रदान करता है जिसके माध्यम से व्यापारी किसानों को अपने घर या कार्यालय, किसी भी स्थान से उनका भुगतान कर सकते हैं और इस प्रकार भीड़ से बचा जा सकता है।

कोविड-19 की वजह से लॉकडाउन स्थिति के दौरान मंडियों में भीड़-भाड़ को कम करने के लिए, सरकार ने ई-नाम मंच पर लॉजिस्टिक्स समर्थन के अलावा, गोदामों से सीधे व्यापार के साथ-साथ किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ) के संग्रह केंद्रों से सीधा कारोबार करने की नई सुविधाएं शुरू की है। मंत्रालय के अनुसार, 1.66 करोड़ किसान, 1.30 लाख व्यापारी और 71,911 कमीशन एजेंट ई-नाम मंच का उपयोग कर रहे हैं। इस वर्ष 9 मई तक ई-नाम मंच पर एक लाख करोड़ रुपये से अधिक की वस्तुओं का कारोबार किया गया है।

इसके अलावा, ई-नाम मंच के माध्यम से 708 करोड़ रुपये के डिजिटल भुगतान किए गए, जिससे 1.25 लाख से अधिक किसान लाभान्वित हुए। बारह राज्यों में अंतर-मंडी व्यापार में कुल 236 मंडियों ने भाग लिया, जबकि 13 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने व्यापार में भाग लिया, जिससे किसानों को दूर स्थित व्यापारियों के साथ सीधे बातचीत करने का मौका हासिल हुआ। मौजूदा समय में ई-नाम पर खाद्यान्न, तिलहन, फाइबर, सब्जियों और फलों सहित 150 वस्तुओं का कारोबार किया जा रहा है। ई-नाम मंच पर 1,005 से अधिक एफपीओ पंजीकृत किए गए है और इसने 7.92 करोड़ रुपये की 2,900 टन कृषि उपज का कारोबार किया है।