BREAKING NEWS

दिल्ली में अमित शाह की रैली में सीएए-विरोधी नारा लगाने पर छात्र की पिटाई ◾हेमंत मंत्रिमंडल का विस्तार मंगलवार को, सात नये मंत्री हो सकते हैं शामिल ◾मुझे पेशेवर सेवाओं के लिए पीएफआई की तरफ से भुगतान किया गया था: कपिल सिब्बल ◾कोरेगांव-भीमा मामला : भाकपा ने कहा- NIR को सौंपना पूर्व भाजपाई सरकार के झूठ पर “पर्दा डालने की कोशिश’◾कोई शक्ति कश्मीरी पंडितों को लौटने से नहीं रोक सकती : राजनाथ सिंह ◾उत्तरप्रदेश : प्रदर्शनकारियों पर ‘अत्याचार’ के खिलाफ मानवाधिकार पहुंचे राहुल और प्रियंका ◾‘कर चोरी’ मामले में कार्ति चिदंबरम के खिलाफ मद्रास उच्च न्यायालय ने कार्यवाही पर अंतरिम रोक बढ़ाई ◾ताजमहल एक खूबसूरत तोहफा है, इसे सहेजने की हम सबकी है जिम्मेदारी : बोलसोनारो◾जम्मू : डोगरा फ्रंट ने शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों के खिलाफ निकाली रैली◾मुख्यमंत्री से रिश्ते सुधारने की कोशिश करते दिखे राज्यपाल धनखड़, लेकिन कुछ नहीं बोलीं ममता बनर्जी ◾रामविलास पासवान ने अदनान सामी को पद्मश्री पुरस्कार मिलने पर दी बधाई, बोले- उन्होंने अपनी प्रतिभा से भारत की प्रतिष्ठा एवं सम्मान बढ़ाया है◾वैश्विक आलू सम्मेलन को सम्बोधित करेंगे PM मोदी ◾TOP 20 NEWS 27 January : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾पश्चिम बंगाल विधानसभा में CAA विरोधी प्रस्ताव पारित, ममता बनर्जी ने केंद्र के खिलाफ लड़ने का किया आह्वान◾अफगानिस्तान के गजनी प्रांत में यात्री विमान हुआ दुर्घटनाग्रस्त, 110 लोग थे सवार◾उत्तर प्रदेश में हुए सीएए विरोधी प्रदर्शनों के दौरान PFI से जुड़े 73 खातों में जमा हुए 120 करोड़ रुपए◾भारत के टुकड़े-टुकड़े करने की मंशा रखने वालों को मिल रही है शाहीन बाग प्रदर्शन की आड़ : रविशंकर प्रसाद◾सुप्रीम कोर्ट का NPR की प्रक्रिया पर रोक लगाने से इनकार, केंद्र को जारी किया नोटिस◾केजरीवाल बताएं, भारत को तोड़ने की चाह रखने वालों का समर्थन क्यों कर रहे : जेपी नड्डा◾शरजील इमाम के बाद एक और विवादित वीडियो आया सामने, संबित पात्रा ने ट्वीट कर कही ये बात◾

उन्नाव केस : SC के जज ने वकील से पूछा - क्या आपका कोई रिश्तेदार है, जिससे बलात्कार हुआ हो?

आपराधिक मामले में जनहित याचिका दायर होने से खिन्न सुप्रीम कोर्ट ने एक वकील से सवाल किया , "क्या बलात्कार पीड़िता का कोई रिश्तेदार राहत के लिये हमारे सामने है, या क्या आपका कोई ऐसा रिश्तेदार है जिससे बलात्कार हुआ है ?" न्यायमूर्ति एस ए बोबडे और न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव की पीठ ने अधिवक्ता मनोहन लाल शर्मा से जनहित याचिका दायर करने के उसके औचित्य पर सवाल उठाते हुये अचरज व्यक्त किया कि आपराधिक मामलों में जनहित याचिका कैसे दायर हो सकती है।

दरअसल, इस वकील ने आरोप लगाया था कि पुलिस बलात्कार के ऐसे मामलों में प्राथमिकी दर्ज नहीं कर रही हैं जिनमें मंत्रियों , सांसदों या विधायकों जैसे ताकतवर लोगों की संलिप्तता होती है।

शीर्ष अदालत ने इस वकील से जानना चाहा कि उन्नाव बलात्कार कांड के संदर्भ में उसकी क्या हैसियत है। न्यायालय यह भी जानना चाहता था कि उन्नाव कांड से वह किस तरह प्रभावित है और इससे उसका क्या संबंध है।  पीठ ने कहा ,"इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने पहले ही इस मामले में कुछ आदेश दिये हैं। शर्मा जी आप इस मामले में प्रभावित व्यक्ति नहीं है। आपराधिक मामले में जनहित याचिका दायर नहीं हो सकती है।"

शर्मा ने आरोप लगाया कि पूर्व मंत्रियों और विधायकों जैसे ताकतवर लोगों की संलिप्तता वाले बलात्कार के अनेक मामलों में पुलिस प्राथमिकी दर्ज नहीं कर रही है। पीठ ने सवाल किया ,इन बलात्कार के मामलों में आप कौन हैं ? क्या बलात्कार पीड़िता का कोई रिश्तेदार राहत के लिये हमारे सामने है ? क्या आपका ऐसा कोई रिश्तेदार है जिसके साथ बलात्कार हुआ है।  पीठ की तल्ख टिप्पणी के बाद न्यायालय कक्ष में वकीलों के बीच एकदम सन्नाटा पसर गया।

इसके बाद भी जब शर्मा ने अपनी याचिका पर जोर दिया तो न्यायालय ने इसे खारिज करते हुये कहा कि इस पर विचार नहीं किया जा सकता। शीर्ष न्यायालय उप्र के भाजपा विधायक की कथित संलिप्तता वाले उन्नाव सामूहिक बलात्कार मामले की सीबीआई जांच के लिये दायर याचिका पर 11 अप्रैल को सुनवाई के लिये तैयार हो गयी थी।

शर्मा का यह भी आरोप था कि पीड़िता के पिता को यातना दी गयी और सत्तारूढ़ पार्टी के इशारे पर पुलिस हिरासत में उनकी हत्या भी हो गयी है। उन्होंने पिछले साल जुलाई में नाबालिग लड़की के अपहरण और बलात्कार के मामले की सीबीआई जांच का भी अनुरोध किया था।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ।