BREAKING NEWS

चरणजीत सिंह चन्नी को राहुल और अमरिंदर ने दी बधाई, बोले- उम्मीद करता हूं कि पंजाब को सुरक्षित रख सकेंगे◾UP : सलमान खुर्शीद बोले- आगामी चुनाव में जनता नफरत और बंटवारे की राजनीति करने वालों को घर बिठाएगी◾पंजाब के राज्यपाल से मिले चरणजीत सिंह चन्नी, कल सुबह 11 बजे लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ◾चरणजीत चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री, रंधावा ने हाईकमान के फैसले का किया स्वागत◾महबूबा मुफ्ती ने भाजपा पर साधा निशाना, कहा- वोट लेने के लिए पाकिस्तान का करती है इस्तेमाल ◾आतंकियों की नापाक साजिश होगी नाकाम, ड्रोन के लिए काल बनेगी ‘पंप एक्शन गन’! सरकार ने सुरक्षा बलों को दिए निर्देश◾TMC में शामिल होने के बाद बाबुल सुप्रियो ने रखी दिल की बात, बोले- जिंदगी ने मेरे लिए नया रास्ता खोल दिया है ◾सिद्धू पर लगे एंटीनेशनल के आरोपों पर BJP का सवाल, सोनिया और राहुल चुप क्यों हैं?◾सुखजिंदर रंधावा हो सकते पंजाब के नए मुख्यमंत्री, अरुणा चौधरी और भारत भूषण बनेंगे डिप्टी सीएम◾इस्तीफा देने से पहले सोनिया को अमरिंदर ने लिखी थी चिट्ठी, हालिया घटनाक्रमों पर पीड़ा व्यक्त की◾सिद्धू के सलाहकार का अमरिंदर पर वार, कहा-मुझे मुंह खोलने के लिए मजबूर न करें◾पंजाब : मुख्यमंत्री पद की रेस में नाम होने पर बोले रंधावा-कभी नहीं रही पद की लालसा◾प्रियंका गांधी का योगी पर हमला, बोलीं- जनता से जुड़े वादों को पूरा करने में असफल क्यों रही सरकार ◾पंजाब कांग्रेस की रार पर बोली BJP-अमरिंदर की बढ़ती लोकप्रियता के डर से लिया गया उनका इस्तीफा◾कैप्टन के भाजपा में शामिल होने के कयास पर बोले नेता, अमरिंदर जताएंगे इच्छा, तो पार्टी कर सकती है विचार◾कौन संभालेगा पंजाब CM का पद? कांग्रेस MLA ने कहा-अगले 2-3 घंटे में नए मुख्यमंत्री के नाम का होगा फैसला◾पंजाब में हो सकती है बगावत? गहलोत बोले-उम्मीद है कि कांग्रेस को नुकसान पहुंचाने वाला कदम नहीं उठाएंगे कैप्टन ◾CM योगी ने साढ़े चार साल का कार्यकाल पूरा होने पर गिनाईं अपनी सरकार की उपलब्धियां◾राहुल ने ट्वीट किया कोरोना टीकाकरण का ग्राफ, लिखा-'इवेंट खत्म'◾अंबिका सोनी ने पंजाब CM की कमान संभालने से किया इनकार, टली कांग्रेस विधायक दल की बैठक◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

लीडआईटी’ जलवायु पहल में शामिल होने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति का स्वागत : PMO

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने शनिवार को भारत-स्वीडन जलवायु पहल में शामिल होने के अमेरिका के निर्णय का स्वागत किया और कहा कि इससे पेरिस समझौते के लक्ष्यों को हासिल करने में मदद मिलेगी। भारत-स्वीडन जलवायु पहल औद्योगिक परिवर्तन के लिए नेतृत्व (लीडआईटी) करने वाले देशों का समूह है।

जलवायु परिवर्तन पर अमेरिका की ओर से आयोजित डिजिटल शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा था कि जलवायु और ऊर्जा संबंधी लक्ष्यों को हासिल करने के लिए वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ काम करने को उत्सुक हैं। उन्होंने कहा था कि यह दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों का मजबूत आधार बनेगा।

उन्होंने कहा, ‘‘...औद्योगिक क्षेत्र सहित विभिन्न क्षेत्रों में कार्बन उत्सर्जन से मुक्ति के प्रयासों के लिए हम स्वीडन और भारत के साथ जुड़ेंगे।’’ व्हाइट हाउस ने एक ट्वीट में कहा कि अमेरिका ‘लीडआईटी’ में स्वीडन और भारत के साथ जुड़ रहा है। इसने कहा, ‘‘मिलकर काम कर हम जलवायु संकट समाधान के वास्ते उद्योग परिवर्तन के लिए गति तैयार कर सकते हैं।’’

इसके बाद पीएमओ ने ट्वीट कर कहा, ‘‘औद्योगिक परिवर्तन के लिए नेतृत्व (लीडआईटी) समूह में अमेरिका के शामिल होने का स्वागत है। इससे हमें पेरिस समझौते के लक्ष्यों को प्राप्त करने, प्रतिस्पर्द्धा बढ़ाने तथा रोजगार के नए अवसर पैदा करने में मदद मिलेगी।’’ स्वीडन के प्रधानमंत्री स्टीफन लोफवेन ने कहा, ‘‘यह बहुत ही संतोषजनक है कि अमेरिका और राष्ट्रपति जो. बाइडन स्वीडन-भारत पहल ‘लीडआईटी’ में शामिल हुए हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘भारी उद्योग और परिवहन क्षेत्र की वैश्विक उत्सर्जन में लगभग 30 प्रतिशत हिस्सेदारी है। जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में इन क्षेत्रों का पुनर्गठन एक आवश्यक हिस्सा है।’’ लोफवेन ने कहा, ‘‘2050 तक भारी उद्योगों को जीवाश्म मुक्त और शून्य उत्सर्जन स्तर तक ले जाकर पेरिस समझौते के लक्ष्यों को हासिल करने के लिए मैं अमेरिका और अन्य के साथ काम करने को लेकर आशान्वित हूं।’’

भारत में स्वीडन के राजदूत क्लास मोलिन ने कहा कि यह 2019 में न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र जलवायु कार्रवाई शिखर सम्मेलन में स्वीडन और भारत के प्रधानमंत्रियों द्वारा शुरू की गई पहल ‘लीडआईटी’ के लिए एक बड़ा कदम है। मोलिन ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्रियों ने हाल में अपने वर्चुअल शिखर सम्मेलन में भी पहल के प्रति अपनी कटिबद्धता व्यक्त की थी। अब जब अमेरिका शामिल हो रहा है, तो हम उम्मीद करते हैं कि और अधिक देश तथा कंपनियां भारी उद्योगों को जीवाश्म मुक्त और कार्बन मुक्त दिशा में ले जाने के लिए पहल से जुड़ेंगे।’’

स्वीडन के दूतावास ने एक बयान में कहा कि नेतृत्व समूह विश्व आर्थिक फोरम के सहयोग से विकसित किया गया है और यह 30 से अधिक देशों एवं कंपनियों को एक मंच पर लेकर आया है जो पेरिस समझौते के लक्ष्यों के अनुरूप 2050 तक जीवाश्म मुक्त और शून्य कार्बन स्तर हासिल करने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं।