BREAKING NEWS

हिंसा के बाद किसान आंदोलन में पड़ी दरार, दो संगठनों ने खुद को किया अलग◾26 जनवरी हिंसा: राकेश टिकैत, अन्य किसान नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज◾गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में कानून-व्यवस्था की समीक्षा की ◾संयुक्त किसान मोर्चा की सफाई - असामाजिक तत्वों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को नष्ट करने की कोशिश की◾दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड में हिंसा के संबंध 200 लोगों को हिरासत में लिया, पूछताछ जारी ◾BCCI प्रमुख सौरव गांगुली को सीने में दर्द, अपोलो हॉस्पिटल में कराया गया एडमिट ◾नेपाल में कोविड टीकाकरण का पहला चरण शुरू, भारत ने तोहफे में दी है 10 लाख वैक्सीन डोज◾ किसान ट्रैक्टर परेड: गणतंत्र दिवस पर हिंसा की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल◾दो दिवसीय दौरे पर केरल पहुंचे राहुल, मलप्पुरम में गर्ल्स स्कूल के भवन का किया उद्घाटन ◾किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हुई कामयाब : हन्नान मोल्लाह◾किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा में 300 पुलिसकर्मी हुए घायल, क्राइम ब्रांच करेगी जांच◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : संयुक्त किसान मोर्चा ने बुलाई बैठक, सभी पहलुओं पर होगी चर्चा ◾DND फ्लाईओवर पर लगा भारी जाम, लाल किला मेट्रो स्टेशन की एंट्री व एग्जिट बंद ◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे में 12 हजार नए केस, 137 मरीजों की हुई मौत ◾वीडियो वायरल होने के बाद बोले राकेश टिकैत-लाठी कोई हथियार नहीं◾विश्व में कोरोना का प्रकोप जारी, मरीजों का आंकड़ा 10 करोड़ से पार ◾किसानों की ट्रैक्टर परेड में बवाल, दिल्ली पुलिस ने हिंसा के मामले में 22 FIR दर्ज की ◾TOP 5 NEWS 27 DECEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾राकांपा अध्यक्ष शरद पवार बोले- दिल्ली में जो कुछ हुआ, उसका समर्थन नहीं किया जा सकता ◾संयुक्त किसान मोर्चा ने की दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान भड़की हिंसा की निंदा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

आतंकवाद को जड़ से खत्म करने के लिये विश्व समूदाय से एकजुट होने की वेंकैया नायडू की अपील

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने दुनिया से आतंकवाद को जड़ से खत्म करने के लिये विश्व समुदाय से एकजुट होकर काम करने की अपील करते हुये संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का विस्तार करने और इसे लोकतांत्रिक बनाने की जरूरत पर बल दिया है। 

नायडू ने बुधवार को विश्व मामलों की भारतीय परिषद (आईसीडब्ल्यूए) द्वारा 'बदलती वैश्विक व्यवस्था में भारत अफ्रीका सहयोग: प्राथमिकतायें, संभावनायें एवं चुनौतियां’ विषय पर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी को संबोधित करते हुये कहा, ‘‘शांति व्यवस्था, विकास की पूर्व शर्त है। भारत सभी देशों के साथ शांतिपूर्ण रिश्ते कायम करने में विश्वास करता है, इनमें उसका ‘एक पड़ोसी’ भी शामिल है, बशर्ते वह देश (भारत) के आंतरिक मामलों में दखल न दे।’’ 

उन्होंने कहा कि आतंकवाद का विश्वव्यापी खतरा इंसानियत का दुश्मन है और इसे जड़ से खत्म करने के लिये विश्व समुदाय को एकजुट होकर काम करने की जरूरत है। 

इस दौरान नायडू ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सुधार की जरूरत पर बल देते हुये कहा कि इसे लोकतांत्रिक बना कर इसका विस्तार किया जाना चाहिये। उन्होंने कहा कि सुरक्षा परिषद में सुधार, आतंकवादरोधी मुहिम, शांति बहाली और साइबर सुरक्षा जैसे अहम मसलों पर अफ्रीका और भारत के साझा हित हैं। इसके मद्देनजर न्यायोचित और लोकतांत्रिक विश्व व्यवस्था कायम करने में भारत और अफ्रीकी देश विश्व की एक तिहाई आबादी की आवाज बन सकते हैं। 

उन्होंने कहा कि उपनिवेशवाद से जुड़े साझा संघर्षपूर्ण अनुभवों के मद्देनजर भारत और अफ्रीका, विकास एवं सामाजिक उत्थान के विभिन्न क्षेत्रों में अपने कौशल एक दूसरे से साझा करने को तत्पर हैं। 

नायडू ने संगोष्ठी में अफ्रीकी देशों के प्रतिनिधियों, राजनयिकों और विदेश नीति के विशेषज्ञों को संबोधित करते हुये कहा, ‘‘भारत अपनी सफल डिजिटल क्रांति के अनुभवों को अफ्रीका के साथ साझा करने के लिए तत्पर है। हम जनसेवाओं के विस्तार, जन स्वास्थ्य और शिक्षा, डिजिटल साक्षरता, वित्तीय समावेश और दुर्बल वर्गों को समाज की मुख्यधारा में शामिल करने जैसे विषयों पर अपने अनुभव साझा करने के लिए तैयार हैं।’’ 

अफ्रीका की कृषि के क्षेत्र में तात्कालिक जरूरतों का जिक्र करते हुये नायडू ने कहा कि अफ्रीका में विश्व की 60 प्रतिशत कृषि योग्य भूमि है, किन्तु विश्व के कुल कृषि उत्पादन का महज 10 प्रतिशत पैदा होता है। ऐसे में भारत कृषि के क्षेत्र में अफ्रीका को सहयोग दे सकता है। 

उपराष्ट्रपति ने द्विपक्षीय आपसी सहयोग के मूलभूत आधार बिंदुओं के हवाले से कहा, ‘‘भारत और अफ्रीका ने उपनिवेशवाद के विरुद्ध साझा लड़ाई लड़ी है। हम एक ऐसी लोकतांत्रिक वैश्विक व्यवस्था चाहते हैं जिसमें भारत और अफ्रीका में रहने वाली विश्व की एक तिहाई जनसंख्या को सार्थक स्वर मिले।’’ 

नायडू ने कहा कि यह संगोष्ठी ऐसे समय हो रही है जबकि भारत राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाने जा रहा है। उन्होंने इस पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुये कहा भारत में अधिसंख्य लोग अफ्रीका को महात्मा की ‘कर्मभूमि’ के रूप में देखते हैं, जहां से उन्होंने समता और न्याय की खातिर अपने संघर्ष का आगाज किया था।

 

इस अवसर पर नायडू ने राजनयिक दिलीप सिन्हा द्वारा लिखित पुस्तक 'शक्ति की मान्यता: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद' तथा अंतरराष्ट्रीय मामलों की विशेषज्ञ एवं पूर्व राजनयिक भास्वती मुखर्जी की पुस्तक ' भारत और यूरोपीय संघ: एक अंतरंग दृष्टिकोण' का लोकार्पण भी किया।