BREAKING NEWS

सड़क परियोजनाओं की मिली सौगात, सड़कें बेहतर होंगी तो लगेंगे उद्योग, मिलेगा रोजगार : नितिन गडकरी ◾दिल्ली में वेंटिलेटर के साथ केवल 205 ICU बेड उपलब्ध, 60 अस्पतालों में कोई बेड नहीं खाली : सत्येंद्र जैन◾BJP बाहरी लोगों की पार्टी है, बंगाल को ‘दंगा प्रभावित गुजरात’ नहीं बनने देंगे : CM ममता◾पूर्वी लद्दाख से सैनिकों की वापसी को लेकर चीन, भारत में सैन्य और कूटनीतिक बातचीत जारी : चीनी सेना◾किसानों के आंदोलन के कारण डीएमआरसी की सेवाएं पड़ोसी शहरों से कल रहेंगी स्थगित ◾किसानों के ‘दिल्ली चलो’ मार्च रोकने को शिरोमणि अकाली दल ने बताया पंजाब का '26/11'◾बिहार में भाजपा विधायक ललन कुमार पासवान ने लालू प्रसाद के खिलाफ दर्ज कराई FIR◾री-इनवेस्ट उद्घाटन सत्र : भारत में नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में निवेशकों के लिये काफी अवसर - पीएम मोदी ◾किसानों को रोकने पर खट्टर और कैप्टन के बीच जुबानी जंग, हरियाणा CM बोले-MSP पर दिक्कत हुई तो छोड़ दूंगा राजनीति◾फोन कॉल कांड के बाद लालू प्रसाद यादव केली बंगले से रिम्स के पेइंग वार्ड में किये गए शिफ्ट◾केजरीवाल सरकार ने दिल्ली HC से कहा- जरूरत पड़ने पर लगाया जा सकता है नाइट कर्फ्यू◾3 दिसंबर को आंदोलनकारी किसानों से मुलाकात करेंगे केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर◾रोशनी लैंड स्कैम : अनुराग ठाकुर बोले- भ्रष्टाचारी नेताओं ने जम्मू-कश्मीर जैसे स्वर्ग को बना दिया था नर्क◾किसान आंदोलन पर पक्ष और विपक्ष के नेताओं के बीच राजनीतिक घमासान◾सरकारी निर्णयों को मांपने में राष्ट्रहित हो सर्वोपरि, राजनीति हावी होने से देश का नुकसान: PM मोदी ◾पैतृक गांव में सुपुर्दे-खाक हुए अहमद पटेल, राहुल गांधी समेत कई दिग्गज कांग्रेस नेता रहे मौजूद ◾मुंबई हमले के जख्म को भारत भूल नहीं सकता, अब नीति से देश कर रहा आतंक का मुकाबला : PM मोदी◾पी. चिदंबरम का भाजपा पर हमला - 'लव जिहाद' पर कानून एक छलावा है, असंवैधानिक है◾भीषण चक्रवात में हुआ तब्दील ‘निवार’, गृहमंत्री अमित शाह ने ट्वीट कर दी अहम जानकारी ◾किसानों का प्रदर्शन हुआ उग्र, शंभू बॉर्डर पर भीड़ ने उखाड़ फेंके बैरिकेड, पुलिस पर पथराव◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

डब्ल्यूईएफ रिपोर्ट : 2025 तक इंसानों की जगह लेंगी मशीनें

भविष्य में नई-नई तकनीकों की मदद से जैसे-जैसे देश व दुनिया का विकास होता जाएगा, वैसे-वैसे इंसानों की नौकरियां भी खतरे में पड़ती जाएंगी। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (डब्ल्यूईएफ) या विश्व आर्थिक मंच की एक रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है। रिपोर्ट में बताया गया है कि आने वाले वर्षो में 8.7 करोड़ लोगों की नौकरियां खतरे में पड़ सकती हैं। 

'फ्यूचर ऑफ जॉब्स रिपोर्ट 2020' में हालांकि यह भी बात सामने आई है कि 9.7 करोड़ कई नई ऐसी भूमिकाओं का भी विकास होगा जो मानव मशीनें और नई प्रक्रियाओं के बीच सामंजस्य लाने में मददगार साबित होगा। रिपोर्ट के मुताबिक, हालांकि आने वाले समय में जिन नई नौकरियों का विकास होगा वे खत्म हो रही नौकरियों पर हावी रहेंगी ठीक बीते वर्षो के विपरीत जहां नौकरियों का निर्माण धीमा रहा, जबकि नौकरियों के खत्म होने के आंकड़ों में तेजी देखी गई। 

रिपोर्ट में कहा गया कि नियोक्ताओं को इस बात की उम्मीद है कि साल 2025 तक कार्यबल में 15.4 फीसदी से लेकर 9 फीसदी तक की गिरावट आएगी और साथ ही नए कामों में भी 7.8 फीसदी से लेकर 13.5 फीसदी तक की बढ़ोतरी देखने को मिलेगी। इसमें आगे बताया गया, इन आंकड़ों के आधार पर हम अनुमान लगाते हैं कि 2025 तक 8.7 करोड़ नौकरियां इंसानों से मशीनों में विस्थापित होंगी जबकि 9.7 करोड़ नई भूमिकाओं का इजात होगा जो कि मशीन इंसानी कार्यबल और नई प्रक्रियाओं के बीच सामंजस्य स्थापित करता हुआ दिखाई देगा।