BREAKING NEWS

भाजपा ने किया कांग्रेस सरकार के खिलाफ प्रदर्शन : किसानों के प्रति असंवेदनशील होने का लगाया आरोप ◾कांग्रेस जवाब दे कि न्यायालय में उसने भगवान राम के अस्तित्व पर क्यों सवाल उठाए : ईरानी◾दिल्ली के रामलीला मैदान में 22 दिसंबर को रैली कर दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार शुरू करेंगे PM मोदी ◾जामिया के छात्रों ने आंदोलन फिलहाल वापस लिया◾सीएए के खिलाफ जनहित याचिका दायर की, एआईएमआईएम हरसंभव तरीके से कानून के खिलाफ लडे़गी : औवेसी◾गंगा बैराज की सीढियों पर अचानक फिसले प्रधानमंत्री मोदी ◾संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ पूर्वोत्तर, बंगाल में प्रदर्शन जारी◾PM मोदी ने कानपुर में वायुसेना कर्मियों के साथ की बातचीत ◾कानपुर : नमामि गंगे की बैठक के बाद PM मोदी ने नाव पर बैठकर गंगा की सफाई का लिया जायजा ◾राहुल गांधी के लिए ‘राहुल जिन्ना’ अधिक उपयुक्त नाम : भाजपा ◾TOP 20 NEWS 14 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾उत्तर प्रदेश : फतेहपुर में दोहराया गया 'उन्नाव कांड', बलात्कार के बाद पीड़िता को जिंदा जलाया ◾साबित हो गया कि मोदी ने झूठे वादे किए थे : मनमोहन सिंह◾जम्मू-कश्मीर : फारुक अब्दुल्ला की हिरासत अवधि 3 महीने और बढ़ी◾झारखंड : अमित शाह बोले- CAB कानून के खिलाफ कांग्रेस भड़का रही है हिंसा◾मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं, कभी माफी नहीं मांगने वाला : राहुल गांधी◾'भारत बचाओ रैली' में बोलीं सोनिया गांधी- भारत की आत्मा को तार-तार कर देगा नागरिकता संशोधन कानून◾संविधान और देश को विभाजन से बचाने के लिए पूरा देश आवाज उठाए: प्रियंका गांधी ◾'भारत बचाओ' रैली से पहले राहुल गांधी का ट्वीट, कहा- BJP सरकार की तानाशाही के खिलाफ बोलूंगा◾पीएम मोदी निर्मल गंगा के दर्शन करने पहुंचे कानपुर, एयरपोर्ट पर CM योगी ने किया स्वागत ◾

देश

क्या गडकरी सर्वसम्मत सीएम उम्मीदवार होंगे?

 devendra fadnavis and nitin gadkari

महाराष्ट्र में चुनावों के नतीजे के एक पखवाड़े के बाद और भाजपा व शिवसेना के बीच शब्दों की तकरार के बाद इन दोनों दलों की सरकार बनने के करीब है। लेकिन, रोचक यह है कि हो सकता है कि सत्ता की खींचतान में संघ अपने चहेते मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की कुर्बानी दे दे। राजनीतिक अनुमान है कि फडणवीस की जगह केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ले सकते हैं। शिवसेना के गठबंधन में वापसी की जल्द से जल्द घोषणा हो सकती है। 

फडणवीस व गडकरी दोनों नागपुर से है और कैमरे के सामने दोनों में सौहार्दपूर्ण संबंध होने के बावजूद दोनों के बीच मतभेद जाहिर हैं। 

सूत्रों का कहना है कि राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) ने स्पष्ट रूप से गडकरी को राज्य के नए मुख्यमंत्री के रूप में स्थापित करने का रोडमैप तैयार किया है। इससे शिवसेना को रोटेशन के आधार पर मुख्यमंत्री पद की मांग को कमजोर करने का अवसर मिलेगा। 

नितिन गडकरी के संघ प्रमुख मोहन भागवत के साथ अच्छे संबंध हैं। भागवत ने उन्हें राष्ट्रीय राजनीति में लाने का कार्य किया और कई दिग्गज नेताओं के विरोध के बावजूद उन्हें भाजपा अध्यक्ष बनाया। इसके अलावा 2014 के दौरान जब गडकरी ने चुनाव में उतरने की घोषणा की तो भागवत ने हस्तक्षेप कर उन्हें वापस हटने और अपने को राष्ट्रीय राजनीति तक सीमित करने को मनाया। 

शिवसेना देवेंद्र फडणवीस के कड़े रुख को लेकर नाराज है। आरएसएस के शीर्ष नेताओं ने अपने सूत्रों को शिवसेना को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) से बातचीत को लेकर पाला नहीं बदलने की सलाह देने के लिए भेजा। माना जाता है कि संघ ने भी शिवसेना को आश्वासन दिया है कि सभी 'मुद्दों' का सौहार्दपूर्ण हल किया जाएगा। 

यह खासा महत्वपूर्ण है कि शिवसेना नेता किशोर तिवारी ने भागवत को पत्र लिखकर गडकरी को परिदृश्य में लाने को कहा। तिवारी ने कहा कि सिर्फ गडकरी ही गतिरोध को 'दो घंटे' में खत्म कर सकते हैं। 

गडकरी को संघ का चहेता माना जाता है। वे नागपुर से हैं, जहां आरएसएस का मुख्यालय है। इससे पहले मंगलवार को संघ प्रमुख द्वारा फडणवीस को बुलाया गया था और उन्होंने 90 मिनट बातचीत की, लेकिन नतीजा सिफर रहा। आरएसएस के वरिष्ठ पदाधिकारी भी इस बैठक को लेकर मौन रहे। 

फडणवीस ने सोमवार को दिल्ली में नितिन गडकरी और अमित शाह से मुलाकात की थी। 

राकांपा द्वारा किसी को भी समर्थन देने से इनकार करने के बाद आरएसएस ने भाजपा और शिवसेना के बीच बातचीत के लिए राजनीतिक प्रबंधन को सक्रिय कर दिया है। राज्य विधानसभा के कार्यकाल के इस हफ्ते समाप्त होने के मद्देनजर संघ ने सरकार बनाने की प्रक्रिया को तेज कर दिया है।