BREAKING NEWS

राजस्थान : विधायक दल की बैठक के बाद कांग्रेस ने कहा- सभी विधायकों ने भाजपा का षड्यंत्र विफल करने का लिया संकल्प ◾नहीं थम रहा महाराष्ट्र में कोरोना का कहर, संक्रमितों का आंकड़ा 5.60 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 11,813 नए केस◾आंध्र प्रदेश में कोरोना का प्रकोप जारी, 24 घंटों में 82 लोगों की मौत, 9996 नए मामले◾राजस्थान: विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री गहलोत बोले- कांग्रेस खुद लाएगी विश्वास प्रस्ताव ◾कोविड-19 : राहुल का PM मोदी पर वार, कहा- कोरोना की यह ‘संभली हुई स्थिति’ है तो ‘बिगड़ी स्थिति’ किसे कहेंगे ◾कोविड-19 : स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- देश में मृत्यु दर घटकर 1.96 % हुई, कुल 27 प्रतिशत लोग ही संक्रमित◾राजस्थान : CM आवास पर शुरू हुई कांग्रेस विधायक दल की बैठक, गहलोत से मिले पायलट◾राजस्थान की गहलोत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी BJP◾उत्तर प्रदेश में कोरोना के 4 हजार 603 नए मामले की पुष्टि, 50 लोगों की मौत◾रक्षा उत्पादन में घरेलू उद्योगों को पांच वर्षों में चार लाख करोड़ रूपये के दिए जायेंगे आर्डर: राजनाथ◾फेसलेस जांच और अपील से करदाताओं की शिकायतों का बोझ कम होगा, निष्पक्षता बढ़ेगी : सीतारमण ◾PM मोदी ने लांच किया 'ट्रांसपेरेंट टैक्सेशन ऑनरिंग द ऑनेस्ट', देशवासियों से की आगे बढ़कर कर भुगतान की अपील ◾श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास कोरोना वायरस से संक्रमित◾देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 66,999 नए केस, मृतकों का आंकड़ा 47 हजार पार◾प्राइवेट ट्रेन चलाने के लिए इन 23 कंपनियों ने दिखाई दिलचस्पी, जानें क्या है रेलवे की डिमांड ◾कोविड 19 - दुनियाभर में वायरस संक्रमण से मौतें 7.47 लाख और मामले 2 करोड़ से अधिक◾प्रवर्तन निदेशालय ने सुशांत सिंह राजपूत के बॉडीगॉर्ड को भेजा समन, पूछताछ के लिए बुलाया ◾दिल्ली - एनसीआर में रातभर हुई मूसलाधार बारिश से जगह - जगह जलभराव, आज दिन भर का अलर्ट◾कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी के निधन पर प्रियंका ने जताया दुख, राहुल बोले : पार्टी ने ‘बब्बर शेर’ खो दिया◾कोरोना वायरस के कारण फीका-फीका रहा ब्रज में कृष्ण जन्मोत्सव, भक्तों ने ऑनलाइन किये दर्शन ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

क्या गडकरी सर्वसम्मत सीएम उम्मीदवार होंगे?

महाराष्ट्र में चुनावों के नतीजे के एक पखवाड़े के बाद और भाजपा व शिवसेना के बीच शब्दों की तकरार के बाद इन दोनों दलों की सरकार बनने के करीब है। लेकिन, रोचक यह है कि हो सकता है कि सत्ता की खींचतान में संघ अपने चहेते मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की कुर्बानी दे दे। राजनीतिक अनुमान है कि फडणवीस की जगह केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ले सकते हैं। शिवसेना के गठबंधन में वापसी की जल्द से जल्द घोषणा हो सकती है। 

फडणवीस व गडकरी दोनों नागपुर से है और कैमरे के सामने दोनों में सौहार्दपूर्ण संबंध होने के बावजूद दोनों के बीच मतभेद जाहिर हैं। 

सूत्रों का कहना है कि राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) ने स्पष्ट रूप से गडकरी को राज्य के नए मुख्यमंत्री के रूप में स्थापित करने का रोडमैप तैयार किया है। इससे शिवसेना को रोटेशन के आधार पर मुख्यमंत्री पद की मांग को कमजोर करने का अवसर मिलेगा। 

नितिन गडकरी के संघ प्रमुख मोहन भागवत के साथ अच्छे संबंध हैं। भागवत ने उन्हें राष्ट्रीय राजनीति में लाने का कार्य किया और कई दिग्गज नेताओं के विरोध के बावजूद उन्हें भाजपा अध्यक्ष बनाया। इसके अलावा 2014 के दौरान जब गडकरी ने चुनाव में उतरने की घोषणा की तो भागवत ने हस्तक्षेप कर उन्हें वापस हटने और अपने को राष्ट्रीय राजनीति तक सीमित करने को मनाया। 

शिवसेना देवेंद्र फडणवीस के कड़े रुख को लेकर नाराज है। आरएसएस के शीर्ष नेताओं ने अपने सूत्रों को शिवसेना को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) से बातचीत को लेकर पाला नहीं बदलने की सलाह देने के लिए भेजा। माना जाता है कि संघ ने भी शिवसेना को आश्वासन दिया है कि सभी 'मुद्दों' का सौहार्दपूर्ण हल किया जाएगा। 

यह खासा महत्वपूर्ण है कि शिवसेना नेता किशोर तिवारी ने भागवत को पत्र लिखकर गडकरी को परिदृश्य में लाने को कहा। तिवारी ने कहा कि सिर्फ गडकरी ही गतिरोध को 'दो घंटे' में खत्म कर सकते हैं। 

गडकरी को संघ का चहेता माना जाता है। वे नागपुर से हैं, जहां आरएसएस का मुख्यालय है। इससे पहले मंगलवार को संघ प्रमुख द्वारा फडणवीस को बुलाया गया था और उन्होंने 90 मिनट बातचीत की, लेकिन नतीजा सिफर रहा। आरएसएस के वरिष्ठ पदाधिकारी भी इस बैठक को लेकर मौन रहे। 

फडणवीस ने सोमवार को दिल्ली में नितिन गडकरी और अमित शाह से मुलाकात की थी। 

राकांपा द्वारा किसी को भी समर्थन देने से इनकार करने के बाद आरएसएस ने भाजपा और शिवसेना के बीच बातचीत के लिए राजनीतिक प्रबंधन को सक्रिय कर दिया है। राज्य विधानसभा के कार्यकाल के इस हफ्ते समाप्त होने के मद्देनजर संघ ने सरकार बनाने की प्रक्रिया को तेज कर दिया है।