BREAKING NEWS

केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾TOP 20 NEWS 17 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾गार्गी कॉलेज मामले में जांच की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र और CBI को जारी किया नोटिस◾SC ने दिल्ली HC के फैसले पर लगाई मोहर, सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थाई कमीशन◾निर्भया मामले को लेकर आज कोर्ट में सुनवाई, जारी हो सकता है नया डेथ वारंट◾शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए निर्देशों की मांग करने वाली याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज ◾केजरीवाल की तारीफ पर आपस में भिड़े कांग्रेस नेता देवरा - माकन, अलका लांबा ने भी कस दिया तंज ◾

गिरफ्तारी वारंट पर स्पष्टीकरण के लिए अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे : शशि थरूर

कांग्रेस नेता शशि थरूर ने रविवार को कहा कि वह एक वकील द्वारा उनके खिलाफ दायर मानहानि के मामले में गिरफ्तारी वारंट जारी होने की खबर के बारे में स्पष्टीकरण के लिए अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे, जो 1989 में लिखी उनकी किताब 'द ग्रेट इंडियन नॉवेल' में हिंदू महिलाओं को कथित तौर पर बदनाम करने के लिए दायर किया गया है।

शिकायतकर्ता अधिवक्ता संध्या ने पीटीआई से कहा कि तिरुवनंतपुरम से सांसद थरूर के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट 21 दिसंबर को जारी किया गया जब वह मानहानि के मामले में अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश होने में असफल रहे। 

संध्या ने कहा, ‘‘उन्होंने (थरूर) अपनी पुस्तक ‘द ग्रेट इंडियन नॉवेल’ में नायर महिलाओं के खिलाफ एक मानहानिकारक टिप्पणी की थी।’’ 

            उन्होंने कहा, ‘‘मैंने अप्रैल में भारतीय दंड संहिता की धारा 499 के तहत मामला दायर किया था। अदालत ने उन्हें सम्मन जारी कर 21 दिसंबर को पेश होने के लिए कहा था। वह ऐसा करने में असफल रहे।’’ थरूर ने रविवार को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर कहा कि वह न्यायपालिका का काफी सम्मान करते हैं और उनका अदालत की अवमानना का कोई इरादा नहीं था। 

उन्होंने प्राप्त सम्मन की तस्वीर भी पोस्ट की जिसमें अदालत में उनके पेश होने की तिथि का कोई उल्लेख नहीं था। थरूर ने कहा, ‘‘कई लोगों ने भाजपा महिला मोर्चा की एक वकील द्वारा मेरी 30 वर्ष पुरानी पुस्तक ‘ग्रेट इंडियन नॉवेल’ में एक पंक्ति के बारे में दायर मामले के बारे में मीडिया में आयी खबरों के बारे में सवाल किए हैं।’’ 

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘मैं न्यायपालिका का काफी सम्मान करता हूं और अदालत की अवमानना का मेरा कोई इरादा नहीं था। जैसा कि देखा जा सकता है कि मैंने सम्मन की प्रति संलग्न की है जिसमें कोई तिथि निर्दिष्ट नहीं है।’’ थरूर ने ट्वीट किया, ‘‘तदनुसार अधिवक्ता ने अदालत से संपर्क किया और बताया गया कि यह अनजाने में हुई लिपिकीय त्रुटि है तथा एक ताजा सम्मन जारी किया जाएगा। हम अभी भी ताजा सम्मन का इंतजार कर रहे हैं लेकिन हमने इसकी जगह गिरफ्तारी वारंट की खबर देखी।’’ 

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘हम स्पष्टीकरण के लिए सोमवार को माननीय अदालत से सम्पर्क करेंगे।’’ थरूर के कार्यालय ने शनिवार को स्पष्ट किया कि उन्हें कोई गिरफ्तारी वारंट प्राप्त नहीं हुआ है और उन्हें उनकी पेशी के लिए जो सम्मन मिला था, उस पर कोई तिथि नहीं थी। उनके कार्यालय को वारंट के बारे में जानकारी मीडिया की खबरों से हुई।