BREAKING NEWS

प्रधानमंत्री को पता था कि योगी कामचोरी वाले मुख्यमंत्री है इसलिए उन्हें पैदल चलने की सजा दी थी : अखिलेश यादव ◾PM मोदी ने 15 से 18 वर्ष आयु के 50 प्रतिशत से अधिक युवाओं को टीके की पहली खुराक लगाए जाने की सराहना की◾यूपी : जे पी नड्डा का बड़ा ऐलान, 'अपना दल' और निषाद पार्टी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ेगी भाजपा◾हरक सिंह की वापसी पर कांग्रेस में बढ़ी अंदरूनी कलह, बागी को ठहराया 'लोकतंत्र का हत्यारा', पूछे ये सवाल ◾समाजवादी पार्टी के नेताओं को भी पता है कि उनकी बेटियां एवं बहुएं भाजपा में सुरक्षित हैं : केन्द्रीय मंत्री ठाकुर ◾त्रिवेंद्र रावत ने चुनाव लड़ने से किया इंकार, नड्डा को लिखा पत्र, कहा- BJP की वापसी पर करना चाहता हूं फोकस ◾मुलायम परिवार में BJP की बड़ी सेंधमारी, अपर्णा यादव के बाद प्रमोद गुप्ता थामेंगे कमल, SP पर लगाए ये आरोप ◾PM मोदी, योगी और शाह समेत पार्टी के कई बड़े नेता BJP के स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल, जानें पूरी लिस्ट ◾महाराष्ट्र: मुंबई में कोविड की स्थिति नियंत्रित, BMC ने हाईकोर्ट को कहा- घबराने की कोई बात नहीं◾राहुल गांधी ने साधा PM पर निशाना, बोले- LAC पर चीन द्वारा निर्मित पुल का उद्घाटन कहीं मोदी न कर दें ◾बाटला हाउस में मरे लोग आतंकी नहीं, तौकीर रजा ने किया कांग्रेस का समर्थन, राहुल-प्रियंका को बताया सेक्युलर ◾दिल्ली : त्रिलोकपुरी में संदिग्ध बैग से मिला लैपटॉप और चार्जर, कुछ देर के लिए मची अफरातफरी◾अखिलेश ने अपर्णा को BJP में शामिल होने पर दी बधाई, बोले- नेता जी ने की रोकने की बहुत कोशिश, लेकिन... ◾दिल्ली: संक्रमण दर में आई कमी, जैन बोले- पाबंदियां कम करने से पहले होगा कोरोना की स्थिति का आकलन ◾भारत में यूएई जैसे हमले की योजना बना रहा ISI, चीन से ड्रोन खरीद रहा पाकिस्तान◾मुलायम सिंह का आशीर्वाद लेकर BJP में शामिल हुई अपर्णा, बोलीं- परिवार से विमुख नहीं, मैं स्वतंत्र हूं... ◾अमित पालेकर होंगे आगामी गोवा विधानसभा चुनाव में AAP का CM फेस, अरविंद केजरीवाल ने किया ऐलान ◾भारत में 15 फरवरी तक चरम पर होगा ओमीक्रॉन, स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने किया दावा- तीसरी लहर जल्द हो सकती है समाप्त◾उत्तराखंड चुनाव: कांग्रेस की CEC बैठक में 70 सीटों पर होगा फैसला, जल्द जारी होगी उम्मीदवारों की पहली लिस्ट ◾श्रीलंका के तमिल नेताओं ने PM मोदी को लिखा पत्र, 13वें संशोधन को लागू करने की मांग की, जानें पूरा मामला◾

'ओमिक्रॉन' के बढ़ते खतरे के बीच क्या भारत में लगेगी बूस्टर डोज! सरकार ने दिया ये जवाब

देश में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के नए मामले दस हजार के करीब ही सामने आ रहे है। ऐसे में कहा जा सकता है कि फिलहाल कोरोना का काल सरकार के नियंत्रण में है। लेकिन वहीं, दूसरी तरफ, कोरोना के नए स्वरुप ने सरकार की चिंता को काफी बढ़ा दिया है। सरकार ने मंगलवार को कहा कि कोविड टीकाकरण संबंधी राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह (एनटीएजीआई) और राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह बूस्टर खुराक की जरूरत और औचित्य के संबंध में वैज्ञानिक प्रमाणों पर विचार कर रहे हैं। 

जरूरत और औचित्य को लेकर वैज्ञानिक साक्ष्यों पर विचार कर रहे हैं 

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने एक सवाल के लिखित जवाब में राज्यसभा को बताया कि कुछ देश कोविड-19 टीके की बूस्टर खुराक दे रहे हैं। बूस्टर खुराक के संबंध में भारत सरकार के रुख के बारे में पूछे गए प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि कोविड टीकाकरण संबंधी राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह और राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह बूस्टर खुराक की जरूरत और औचित्य को लेकर वैज्ञानिक साक्ष्यों पर विचार कर रहे हैं। 

उन्होंने एक अन्य सवाल के जवाब में कहा कि टीका ले चुके लोगों के अस्पताल में भर्ती होने और बीमारी से मृत्यु की दर में काफी कमी आई है, लेकिन ऐसे कुछ लोगों में अब भी हल्के संक्रमण हो सकते हैं। 

ICMR ने एक टीकाकरण ट्रैकर विकसित किया है  

उन्होंने कहा कि इसलिए मास्क का सख्त उपयोग, सामाजिक दूरी बनाए रखने और हाथ धोने सहित हर समय कोविड संबंधी उपयुक्त व्यवहार का पालन महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य मंत्रालय और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने एक टीकाकरण ट्रैकर विकसित किया है जो आंशिक रूप से और पूरी तरह से टीकाकरण वाले व्यक्तियों में मौतों की संख्या की तुलना में टीका नहीं लेने वाले व्यक्तियों की कोविड से मौतों की संख्या पर अलग-अलग जानकारी को दर्शाता है। 

2021 में पेट्रोल-डीजल से मिलने वाला उत्पाद शुल्क कलेक्शन हुआ दोगुना, सरकार ने राज्यसभा में दी जानकारी

उन्होंने कहा कि सरकार ने राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के माध्यम से उच्चतम न्यायालय के निर्देशों के अनुसरण में कोविड से जान गंवाने वालों के परिजनों को अनुग्रह सहायता प्रदान करने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। 

अब तक इतने देशों में फैल चुका है ओमिक्रॉन वेरिएंट  

अब 28 नवंबर तक ओमिक्रॉन ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया समेत केस कम से कम 11 देशों में मिल चुके हैं। कुछ विशेषज्ञों का तो यहां तक मानना है कि ओमिक्रॉन वैरिएंट इन देशों के अलावा एक दर्जन और देशों में फैल चुका है और इसके केस धीरे-धीरे सामने आएंगे। यानी ओमिक्रॉन वैरिएंट का कहर जल्द ही और देशों में भी देखने को मिल सकता है। भारत में भी इसे लेकर अलर्ट जारी किया जा चुका है। 

यह विशेष रूप से गंभीर बीमारी का कारण नहीं बनता है 

उधर, हामिश मैक्कलम, निदेशक, सेंटर फॉर प्लेनेटरी हेल्थ एंड फूड सिक्योरिटी, ग्रिफ़िथ यूनिवर्सिटी, साउथ ईस्ट क्वींसलैंड ऑस्ट्रेलिया, ने कहा है कि ओमिक्रॉन वेरिएंट को समझने के मामले में ये बहुत शुरुआती दिन हैं। अफ्रीका से मिले बहुत शुरुआती संकेत बताते हैं कि यह विशेष रूप से गंभीर बीमारी का कारण नहीं बनता है (हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने उपलब्ध सीमित आंकड़ों को देखते हुए सावधानी बरतने का आग्रह किया है)। इस बिंदु पर, यह स्पष्ट नहीं है कि इसमें डेल्टा जैसे अन्य सार्स-कोव-2 उपभेदों की तुलना में टीकों से बचने की कोई बड़ी क्षमता है या नहीं। 

बूस्टर शॉट दिया जाए या नहीं अभी इसपर स्पष्ट राय नहीं है, लेकिन  

एक बार आबादी में स्थापित हो जाने के बाद वायरस का कम प्रभावी (अर्थात कम गंभीर बीमारी का कारण) होना बहुत आम है। मायक्सोमैटोसिस इसका श्रेष्ठ उदाहरण है, जिसने पहली बार ऑस्ट्रेलिया में सामने आने पर 99% खरगोशों को मार डाला था, लेकिन अब इसका प्रभाव कम हो चुका है और यह बहुत कम मृत्यु दर का कारण बनता है। 

कुछ विशेषज्ञों ने भविष्यवाणी की है कि कोविड भी कम गंभीर हो जाएगा क्योंकि यह बीमारी के एक स्थानिक स्तर पर संक्रमण करता है - किसी खास स्थान पर संक्रमण के अनुमानित पैटर्न में बस जाता है। यह संभव है कि ओमिक्रोन संस्करण इस प्रक्रिया में पहला कदम हो। 

विशेषज्ञ पहले से बताते आए हैं कि अतिरिक्त खुराक उन लोगों को दी जाती है जिनकी प्रतिरक्षा कमजोर है, जबकि स्वस्थ लोगों को बूस्टर शॉट दिया जाए या नहीं अभी इसपर स्पष्ट राय नहीं है, लेकिन कोरोना के इस नए वैरिएंट के सामने आने के बाद बूस्टर डोज की चर्चा फिर से बढ़ गई है।