BREAKING NEWS

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री बोले- व्यापक स्तर पर कार्रवाई से कोरोना के मामले और मौत प्रति दस लाख पर कम रहे◾24 घंटे में UP में कोरोना के 4658 नए मामले की पुष्टि, 61 मरीजों ने तोड़ा दम◾बिहार के कांग्रेस नेताओं से बोले राहुल-आने वाला है बड़ा तूफान◾राम मंदिर के निर्माण पर PAK की टिप्पणी को भारत ने बताया निंदनीय, कहा-साम्प्रदायिकता भड़काने से बचे पड़ोसी देश◾TV एक्टर और मॉडल समीर शर्मा ने फांसी लगाकर की खुदकुशी◾RBI ने मौद्रिक नीति का किया ऐलान, नीतिगत ब्याज दर में नहीं हुआ कोई बदलाव◾इमाम एसोसिएशन के अध्यक्ष का विवादित बयान, कहा-मस्जिद बनाने के लिए ध्वस्त किया जा सकता है मंदिर◾राहुल गांधी ने PM से पूछा-चीनी घुसपैठ को लेकर झूठ बोलने की वजह बतायें मोदी ◾देश में कोरोना संक्रमण के 56,282 नए मामलों की पुष्टि, मरीजों का आंकड़ा 19 लाख 64 हजार के पार ◾भारी बारिश के कारण जलमग्न हुई मुंबई, महाराष्ट्र में NDRF की 16 टीमों को किया गया तैनात◾अहमदाबाद के कोविड अस्पताल में आग लगी, 8 कोरोना मरीजों की मौत, CM रूपानी ने जांच के दिए आदेश◾भाजपा नेता मनोज सिन्हा होंगे जम्मू-कश्मीर के नए उप राज्यपाल, शुक्रवार को लेंगे शपथ◾World Corona : विश्व में महामारी का कहर बरकरार, संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 87 लाख से अधिक◾आंध्र प्रदेश में कोरोना के 10 हजार से अधिक नए मामले की पुष्टि, 77 की मौत◾लाखों दीपों से जगमगा उठी रामनगरी, पुष्पों से सजा शहर◾जम्मू कश्मीर पर बड़बोली टिप्पणी करने को लेकर भारत ने चीन को दी सख्त नसीहत◾महाराष्ट्र : मुंबई में तेज हवा के साथ भारी बारिश, कई इलाकों में रेड अलर्ट◾महाराष्ट्र में कोरोना का प्रकोप जारी, 24 घंटे में 334 लोगों की मौत, 10309 नए मामले◾प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रिया चक्रवर्ती को भेजा सम्मन, सात अगस्त को पूछताछ के लिए बुलाया ◾एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में जांच करेगी सीबीआई, केंद्र ने जारी की अधिसूचना ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कोलोकेशन ‘सफेदपोशों’ का काम, चिदंबरम की भूमिका की भी जांच हो : जिग्नेश शाह

संकट में फंसे कारोबारी जिग्नेश शाह ने नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के को लोकेशन मामले में पूर्ववर्ती संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार में वित्त मंत्री रहे पी चिदंबरम और अन्य की भूमिका की मांग की है। शाह ने इसे ‘बड़े सफेदपोशों का अपराध’ बताया है और कहा है कि इसमें एक सेकेंड से भी कम समय में अरबों डालर की गैर कानूनी कमाई की जा सकती है। 

को लोकेशन का मामला एक जगह विशेष पर लगे कुछ शेयर ब्रोकरों के सर्वर पर शेयर बाजार से जुड़ी सूचनाएं कथित रूप से कुछ पहले पहुंचाने से संबंधित है। उन्होंने सरकार से कहा कि इस बात की जांच होनी चाहिए कि कैसे एक शीर्ष शेयर बाजार ने कुछ चुनिंदा ब्रोकरों को एक तरजीह सुविधा दी थी। 

मोदी सरकार को ‘विकास रहित’ 100 दिन पूरे होने पर बधाई : राहुल गांधी

उन्होंने कहा कि इस तरह के मामले में सेकेंड के एक छोटे अंश भी में अरबों डॉलर अवैध तरीके से लाभ कमाया जा सकता है। शाह ने छह द्वीपों पर 14 एक्सचेंज शुरू किए थे। इसमें शीर्ष जिंस एक्सचेंज एमसीएक्स भी है। इस वजह से शाह को ‘भारत का एक्सजेंस मैन’ भी कहा जाता था। फाइनेंशियल टेक्लोलॉजीज समूह के पूर्ववर्ती कृषि जिंस एक्सचेंज एनएसईएल में 5,600 करोड़ रुपये की भुगतान चूक के बाद शाह को अपने इन सभी कारोबारों से हटना पड़ा था। 

शाह ने अपने कारोबारी साम्राज्य के समक्ष आई सभी दिक्क्तों के लिए चिदंबरम को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि यदि उनके सामने गैरकानूनी अड़चनें पैदा नहीं की गई होतीं तो भारत विश्व वित्तीय बाजार के लिए ‘कीमत तय’ करने वाला बन सकता था। शाह ने कहा, ‘‘हमने एक बड़ा अवसर गंवा दिया। हमने जो भी एक्सचेंज स्थापित किए उनमें हम शीर्ष पर थे और हम जो शेयर बाजार शुरू करने जा रहे थे उनमें भी इसे दोहराते।’’ 

उन्होंने कहा कि भारत ने दुनिया का शीर्ष वित्तीय बाजार बनने का अवसर गंवा दिया और हम उसी रफ्तार को फिर से नहीं पाया जा सकता क्योंकि एक्सचेंज क्षेत्र अब उस स्तर पर वापस जा चुका है जहां यह कई साल पहले होता था। चिदंबरम पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा कि पूर्व वित्त मंत्री ने अपने प्रिय एक्सचेंज के हितों के संरक्षण के लिए उन्हें निशाना बनाया। 

एमसीएक्स-एसएक्स की वजह से उन एक्सचेंजों का दबदबा कम हो रहा है। एमसीएक्स-एसएक्स को पूर्व शेयर बाजार के संचालन का लाइसेंस मिल गया था और एनएसईएल संकट शुरू होने से पहले हम पूर्ण परिचालन शुरू करने की तैयारी में थे। पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम इस समय एक अन्य मामले में न्यायिक हिरासत में हैं। वहीं एनएसई के अधिकारियों ने एनएसईएल मामले में किसी भूमिका से इनकार किया है। उन्होंने इन आरोपों को भी खारिज किया कि को लोकेशन सुविधा के जरिये चुनिंदा लोगों को फायदा पहुंचाया गया।