BREAKING NEWS

Coronavirus : देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 26 हजार से अधिक मामले आये सामने ◾World Corona : दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 23.18 करोड़ के करीब, 47.4 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾किसानों के भारत बंद के मद्देनजर दिल्ली में मेट्रो स्टेशनों पर सुरक्षा बढ़ी,पुलिस अलर्ट पर ◾भारत बंद : कृषि कानूनों के खिलाफ गाजीपुर बॉर्डर समेत दिल्ली-अमृतसर नेशनल हाइवे को किसानों ने किया जाम◾दस साल तक प्रदर्शन के लिए तैयार हैं, लेकिन कृषि कानूनों को लागू नहीं होने देंगे : राकेश टिकैत◾संयुक्त किसान मोर्चा की सोमवार को भारत बंद के दौरान शांति की अपील, कई राजनीतिक दलों ने दिया समर्थन◾मंत्रिमंडल विस्तार में भाजपा ने विधानसभा चुनाव को लक्ष्य कर जातीय और क्षेत्रीय समीकरण साधा◾दिग्विजय सिंह ने RSS संचालित सरस्वती शिशु मंदिर के खिलाफ दिया विवादित बयान◾PM मोदी ने नए संसद भवन के निर्माण स्थल का किया दौरा ◾RCB vs MI : पटेल की हैट्रिक और मैक्सवेल के शानदार प्रदर्शन से आरसीबी ने मुंबई इंडियंस को 54 से हराया◾अर्थव्यवस्था की जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत को ‘एसबीआई जैसे’ 4-5 बैंकों की जरूरत : सीतारमण◾आरएसएस से जुड़ी साप्ताहिक पत्रिका 'पांचजन्य' ने अमेजन को 'ईस्ट इंडिया कंपनी 2.0' बताया◾‘भारत बंद’ से पहले दिल्ली के सीमावर्ती इलाकों में पुलिस ने गश्त बढ़ायी, अतिरिक्त कर्मियों की तैनाती की◾गन्ना खरीद मूल्य 350 रुपये किए जाने पर प्रियंका का CM योगी पर तंज, कहा- किसानों के साथ किया धोखा◾पारंपरिक पोशाक पहनने वालों को प्रवेश नहीं देने वाले रेस्तरां के खिलाफ हो कार्रवाई : कांग्रेस◾बिहार : CM नीतीश कुमार बोले- राष्ट्र हित में है जातिगत जनगणना◾UP: योगी कैबिनेट में शामिल हुए 7 नए मंत्री, इन विधायकों ने ली शपथ◾पंजाब : चन्नी कैबिनेट में शामिल हुए 15 नए चेहरे, जाने किसको मिली जगह तो किसका कटा पत्ता ◾योगी सरकार का किसानो के लिए बड़ा फैसला, गन्ने का समर्थन मूल्य 325 रूपए से बढ़ाकर 350 किया ◾MP में एक व्यक्ति की अजीबोगरीब मांग, कहा- प्रधानमंत्री की मौजूदगी में ही लगवाउंगा वैक्सीन ◾

विश्व विश्वविद्यालय सम्मेलन : उपराष्ट्रपति ने कहा- ऑनलाइन शैक्षणिक व्यवस्था में सुधार करने की जरूरत

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ओ पी जिंदल विश्वविद्यालय द्वारा डिजिटल माध्यम से आयोजित विश्व विश्वविद्यालय शिखर सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित कर रहे थे। विश्वविद्यालयों से जलवायु परिवर्तन, गरीबी और प्रदूषण जैसी वैश्विक चुनौतियों का समाधान तलाशने का सुझाव देते हुए उन्होंने कहा कि विश्व के सामने पेश आ रही चुनौतियों का स्थायी और उचित समाधान निकालने में विश्वविद्यालय प्रमुख भूमिका निभा सकते हैं।

उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालयों को विश्व के सामने आ रहे विभिन्न सामाजिक-आर्थिक और राजनीतिक मुद्दों के बारे में विचार-विमर्श करना चाहिए तथा ऐसे विचारों के साथ सामने आना चाहिए, जिन्हें सरकारों द्वारा अपनी जरूरतों और अनुरूपता के अनुसार लागू किया जा सके।

उन्होंने ऑनलाइन शैक्षणिक व्यवस्था में लगातार सुधार करने और उसे नवीनतम करने की जरूरत पर जोर दिया। उपराष्ट्रपति ने कहा कि ऑफलाइन और ऑनलाइन शिक्षा के सर्वश्रेष्ठ तत्वों को शामिल करते हुए भविष्य के लिए एक मिला-जुला शिक्षण मॉडल विकसित किए जाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि ऐसा मॉडल शिक्षा ग्रहण करने वालों के साथ-साथ शिक्षक के लिए भी परस्पर प्रभाव डालने वाला और दिलचस्प होना चाहिए, ताकि अधिक से अधिक शिक्षण परिणाम सुनिश्चित हो सकें।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि शिक्षा का अर्थ सिर्फ व्याख्यान देना ही नहीं है बल्कि छात्रों की स्वतंत्र सोच और रचनात्मकता को विकसित करना है। सक्रिय आलोचनात्मक सोच के माध्यम से शिक्षार्थियों को उनके चुने हुए क्षेत्रों में ही ढाला जाना चाहिए, ताकि वे सामाजिक परिवर्तन के वाहक के रूप में विकसित हो सकें।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि मौजूदा महामारी ने हमें यह अहसास कराया है कि दुनिया की कोई भी राजनीति भविष्य के अज्ञात खतरों के खिलाफ पूरी तरह से तैयार नहीं है। कोई भी तब तक सुरक्षित नहीं है जब तक कि हर कोई सुरक्षित न हो उक्ति का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि वैश्विक स्तर पर संकट प्रबंधन के लिए बहु-आयामी, बहु-सांस्कृतिक, सामूहिक दृष्टिकोण के लिए सभी के सहयोग की आवश्यकता होती है।