श्रीनगर : बचावकर्मियों ने श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग में जवाहर सुरंग के निकट हिमस्खलन के कारण पुलिस चौकी में फंसे 10 पुलिसकर्मियों को बाहर निकालने का सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया है। जिसमे से एक जवान को निकल लिया गया है, बाकी 9 को निकालने का काम जारी है।

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘बचाव दल आज सुबह हिमस्खलन वाले स्थान के निकट पहुंच गया है वहां फंसे लोगों को निकालने के प्रयास किए जा रहे हैं। गौरतलब है कि कुलगाम जिले में बृहस्पतिवार को जवाहर सुरंग के उत्तरी छोर पर हिमस्खलन हुआ।

सुरंग के निकट चौकी पर तैनात 10 पुलिसकर्मी हिमस्खलन से पहले वहां से सुरक्षित निकल गए जबकि 10 पुलिसकर्मियों वहां फस गए थे। अधिकारियों के अनुसार कश्मीर घाटी में बुधवार से ही बर्फबारी हो रही है। पिछले 24 घंटे में कुलगाम जिले में सबसे अधिक हिमपात हुआ हैं । जिले के कुछ हिस्सों में पांच फुट तक बफबारी हुई है।

हिमाचल में शुक्रवार तक भारी बर्फबारी

हिमाचल प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में बुधवार को शीतलहर जारी है। मौसम विभाग ने शुक्रवार तक भारी बारिश और बर्फबारी का अनुमान लगाया है। राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने मनाली स्थित हिमपात और हिमस्खलन अध्ययन संस्थान (एसएएसई) द्वारा ऊंची पहाड़ियों में हिमस्खलन की चेतावनी के बाद यात्रा सलाह जारी की है।

एसएएसई ने गुरुवार तक चंबा, लाहौल-स्पीति, शिमला, किन्नौर और कुल्लू जिलों में हिमस्खलन के खतरे की आशंका जताई है। सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि जिला प्रशासनों को सलाह दी गई है कि वे खोज और बचाव दल को तैयार रखें और लोगों को यात्रा से बचने की जानकारी दें। शिमला में बदली छाने के कारण रात के तापमान में वृद्धि देखी गई। तापमान 5.7 डिग्री सेल्सियस रहा। लोकप्रिय गंतव्य मनाली में तापमान 5.8 डिग्री दर्ज किया गया।

किन्नौर जिले के कल्पा में रात का तापमान शून्य से 4.2 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया जबकि डलहौजी और धर्मशाला दोनों में तापमान 3.8 डिग्री दर्ज किया गया। उन्होंने कहा कि इस इलाके में गुरुवार से पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय हो रहा है जिसके कारण गुरुवार तक कई स्थानों पर बारिश और बर्फबारी की संभावना है। कुल्लू, चंबा, लाहौल-स्पीति, शिमला, कांगड़ा और किन्नौर जिलों में कुछ स्थानों पर भारी बर्फबारी की संभावना है।