BREAKING NEWS

कश्मीर मुद्दे पर विदेश मंत्रालय ने कहा-किसी तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं◾निर्भया मामले में आरोपियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी करने वाले जज का हुआ ट्रांसफर◾CM नीतीश की चेतावनी पर पवन वर्मा बोले- मुझे चिट्ठी का जवाब नहीं मिला◾भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले- देश हित में लिए प्रधानमंत्री के फैसलों से देश में नई ऊर्जा एवं उत्साह पैदा हुआ◾नेताजी ने हिंदू महासभा की विभाजनकारी राजनीति का विरोध किया था : ममता बनर्जी◾‘हिंदुत्व’ की राह पर निकले राज ठाकरे, MNS का नया झंडा लॉन्च किया◾CM नीतीश कुमार ने पवन वर्मा को लताड़ा, कहा- जिसको जहां जाना है, जाएं◾तिहाड़ जेल प्रशासन ने निर्भया के गुनहगारों से पूछी उनकी अंतिम इच्छा, 1 फरवरी को होगी फांसी◾JNU और जामिया में पश्चिमी यूपी के छात्रों को 10 फीसदी आरक्षण दे दो, सबका इलाज कर देंगे : संजीव बालियान◾PM मोदी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस और बाल ठाकरे को उनकी जयंती पर दी श्रद्धांजलि, ट्वीट कर कही ये बात◾चीन में कोरोना वायरस से 17 लोगों की मौत के बाद इमरजेंसी घोषित, शहर छोड़ने पर भी लगी रोक ◾उपराष्ट्रपति नायडू ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि अर्पित की, ट्वीट कर कही ये बात◾अनुपम खेर ने ट्विटर पर दिया नसीरुद्दीन शाह को जवाब, कहा - कुछ पदार्थों के सेवन का नतीजा है यह बयान◾अगले दस दिन में देश में 5,000 और शाहीन बाग होंगे : आजाद ◾पुरुष घर पर रजाई में सो रहे, महिलाएं चौराहे पर : सीएए विरोध पर बोले योगी आदित्यनाथ ◾मौत की सजा पाने वाले दोषियों को सात दिन में फांसी देने के लिये केन्द्र पहुंचा न्यायालय◾नेताजी जयंती को लेकर भाजपा में उत्साह नहीं, पोते चंद्र कुमार हैरान !◾गणतंत्र दिवस परेड में गुरु नानक के साथ जयपुर के परकोटा और गुजरात की बावड़ी की झलक◾राहुल 30 जनवरी को वायनाड में करेंगे सीएए विरोधी रैली◾CAA के समर्थन में नड्डा करेंगे आगरा में रैली◾

नेशनल कांफ्रेंस के संस्थापक शेख अब्दुल्ला की 114वीं जयंती, चंद कार्यकर्ताओं ने दी श्रद्धांजलि

नेशनल कांफ्रेंस के चंद कार्यकर्ताओं ने बृहस्पतिवार को पार्टी के संस्थापक शेख मोहम्मद अब्दुल्ला की 114वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। दशकों बाद ऐसा पहली बार हुआ है जब इतने कम कार्यकर्ताओं ने अब्दुल्ला की जयंती मनाई। 

पुलिस ने बड़ी संख्या में लोगों को जमा होने से रोकने के लिये यहां हजरत बल में स्थित शेख अब्दुल्ला के मकबरे के दरवाजे के बाहर कंटीले तार लगा रखे थे, लेकिन पार्टी के कुछ कार्यकर्ताओं को अंदर जाने की इजाजत मिली, जिन्होंने एक-एक कर वहां जाकर प्रार्थना की।

दक्षिण कश्मीर से सांसद हसनैन मसूदी पार्टी की ओर से एकमात्र वरिष्ठ नेता रहे, जिन्होंने फातेहा (विशेष प्रार्थना) पढ़ी। नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला के पिता शेख अब्दुल्ला की जयंती पर हर साल बड़ी संख्या में पार्टी नेता और कार्यकर्ता उन्हें खिराज-ए-अकीदत पेश करने मकबरे पर एकत्रित होते थे। इसके अलावा आठ सितंबर को उनकी पुण्यतिथि पर भी भारी तादाद में लोग उन्हें श्रद्धांजलि देने पहुंचते थे।

इस बार पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के प्रावधान निरस्त कर विशेष दर्जा वापस लिये जाने के बाद से नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला समेत पार्टी के शीर्ष नेताओं को नजरबंद रखा गया है। मसूदी ने पत्रकारों से कहा कि राजनीतिक गतिविधियों पर पाबंदी ने घाटी में हालात सामान्य होने की बात को झूठा साबित कर दिया है।

उन्होंने कहा, 'अब्दुल्ला की जयंती पर प्रतिबंध अपनी कहानी बयां करता है। यह देश के लोगों को उस सामान्य स्थिति के बारे में बताता है जिसका दावा किया जा रहा है। क्या इस तरह के प्रतिबंध होने चाहिए? क्या अब्दुल्ला के बेटे (फारूक अब्दुल्ला) और उनके पोते (उमर अब्दुल्ला) को इस दिन यहां नहीं होना चाहिए?