BREAKING NEWS

गृहमंत्री अमित शाह शुक्रवार को जायेंगे सीआरपीएफ के मुख्यालय ◾झारखंड : भाजपा ने 15 उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी की ◾JNU में विवेकानंद की प्रतिमा के चबूतरे पर आपत्तिजनक संदेश◾राफेल की कीमत, ऑफसेट के भागीदारों के मुद्दों पर सरकार के निर्णय को न्यायालय ने सही करार दिया : सीतारमण ◾झारखंड चुनाव के पहले चरण के लिए कांग्रेस के 40 स्टार प्रचारकों की सूची जारी ◾आतंकवाद के कारण विश्व अर्थव्यवस्था को 1,000 अरब डॉलर का नुकसान : PM मोदी◾महाराष्ट्र गतिरोध : कांग्रेस, राकांपा और शिवसेना में बातचीत, सोनिया से मिल सकते हैं पवार ◾मोदी..शी की ब्राजील में बैठक के बाद भारत, चीन अगले दौर की सीमा वार्ता करने पर हुए सहमत ◾कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान ने भारत से किसी भी समझौते से किया इनकार ◾राफेल के फैसले से JPC की जांच का रास्ता खुला : राहुल गांधी ◾राफेल पर उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद देवेंद्र फड़णवीस बोले- राहुल गांधी को अब माफी मांगनी चाहिए ◾नोबेल विजेता कैलाश सत्यार्थी ने कहा- शुद्ध हवा सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री को ठोस कदम उठाने चाहिए◾TOP 20 NEWS 14 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾RSS-भाजपा को सबरीमाला पर न्यायालय का फैसला मान लेना चाहिए : दिग्विजय सिंह ◾महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने को लेकर CM ममता ने राज्यपाल कोश्यारी पर साधा निशाना ◾प्रधानमंत्री की छवि बिगाड़ने के लिए कांग्रेस ने लगाए थे राफेल सौदे पर भ्रष्टाचार के आरोप : राजनाथ◾राफेल मामले में SC के फैसले को रविशंकर ने बताया सत्य की जीत, राहुल गांधी से की माफी की मांग ◾हरियाणा सरकार के मंत्रीमंडल का हुआ विस्तार, 6 कैबिनेट और 4 राज्यमंत्रियों ने ली शपथ◾अमेठी : अभद्रता का वीडियो वायरल होने के बाद DM पद से हटाए गए प्रशांत शर्मा◾कर्नाटक के अयोग्य घोषित विधायक बीजेपी में हुए शामिल, CM येदियुरप्पा ने किया स्वागत◾

जम्मू-कश्मीर

अमित शाह के पास कश्मीरी अलगाववादी नेताओं के लिए कोई सुलह प्रस्ताव नहीं?

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के दावे के बावजूद कि अलगाववादी हुर्रियत नेता वार्ता के लिए तैयार हैं, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा राज्य के बुधवार से हो रहे अपने दो दिवसीय दौरे के दौरान उन्हें कोई सुलह का प्रस्ताव देने की संभावना नहीं हैं। यह जानकारी सूत्रों ने दी है। अमित शाह का जम्मू एवं कश्मीर पहुंच चुके हैं। 

सूत्रों ने यह भी कहा कि मलिक व केंद्रीय गृह मंत्रालय कश्मीरी अलगाववादी नेताओं के साथ वार्ता के संदर्भ में एकमत नहीं हैं। सूत्रों ने कहा कि मलिक, केंद्र और अलगाववादियों के बीच बातचीत पर गतिरोध को तोड़ने के पक्षधर हैं, या कम से कम वह निकट भविष्य में ऐसी संभावना के पक्षधर हैं। 

शीर्ष सूत्रों ने कहा, 'प्रधानमंत्री कार्यालय व गृह मंत्रालय की इस वार्ता को लेकर पूरी तरह से अलग राय है।' शाह के करीबी सूत्रों के अनुसार, शाह अलगाववादियों के साथ बातचीत के मोर्चे पर कुछ नहीं करेंगे। एक वरिष्ठ बीजेपी नेता ने कहा, 'शाह अलगाववादी नेतृत्व से हाथ मिलाने के बजाय अलगाववादी हिंसा से लड़कर शांति लाने पर ज्यादा ध्यान केंद्रित करेंगे, जिससे यह छाप छोड़ी जा सके कि दिल्ली की मौजूद राजनीतिक व्यवस्था पहले की व्यवस्थाओं से अलग है।'

मलिक आतंकवाद की कमर तोड़ने के साथ ही अलगाववादियों के साथ खुले तौर पर बातचीत के भी समर्थक रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक, केंद्र में बीजेपी सरकार की छवि से यह मेल नहीं खाता है, जिसे सभी अलगाववादी आकांक्षाओं से मजबूती व बिना समझौता किए निपटने का भारी जनादेश मिला है।