BREAKING NEWS

किसानों ने दिल्ली को चारों तरफ से घेरने की दी चेतावनी, कहा- बुराड़ी कभी नहीं जाएंगे◾दिल्ली में लगातार दूसरे दिन संक्रमण के 4906 नए मामले की पुष्टि, 68 लोगों की मौत◾महबूबा मुफ्ती ने BJP पर साधा निशाना, बोलीं- मुसलमान आतंकवादी और सिख खालिस्तानी तो हिन्दुस्तानी कौन?◾दिल्ली पुलिस की बैरिकेटिंग गिराकर किसानों का जोरदार प्रदर्शन, कहा- सभी बॉर्डर और रोड ऐसे ही रहेंगे ब्लॉक ◾राहुल बोले- 'कृषि कानूनों को सही बताने वाले क्या खाक निकालेंगे हल', केंद्र ने बढ़ाई अदानी-अंबानी की आय◾अमित शाह की हुंकार, कहा- BJP से होगा हैदराबाद का नया मेयर, सत्ता में आए तो गिराएंगे अवैध निर्माण ◾अन्नदाआतों के समर्थन में सामने आए विपक्षी दल, राउत बोले- किसानों के साथ किया गया आतंकियों जैसा बर्ताव◾किसानों ने गृह मंत्री अमित शाह का ठुकराया प्रस्ताव, सत्येंद्र जैन बोले- बिना शर्त बात करे केंद्र ◾बॉर्डर पर हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाक, जम्मू में देखा गया ड्रोन, BSF की फायरिंग के बाद लौटा वापस◾'मन की बात' में बोले पीएम मोदी- नए कृषि कानून से किसानों को मिले नए अधिकार और अवसर◾हैदराबाद निगम चुनावों में BJP ने झोंकी पूरी ताकत, 2023 के लिटमस टेस्ट की तरह साबित होंगे निगम चुनाव ◾गजियाबाद-दिल्ली बॉर्डर पर डटे किसान, राकेश टिकैत का ऐलान- नहीं जाएंगे बुराड़ी ◾बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा- कृषि कानूनों पर फिर से विचार करे केंद्र सरकार◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 94 लाख के करीब, 88 लाख से अधिक लोगों ने महामारी को दी मात ◾योगी के 'हैदराबाद को भाग्यनगर बनाने' वाले बयान पर ओवैसी का वार- नाम बदला तो नस्लें होंगी तबाह ◾वैश्विक स्तर पर कोरोना के मामले 6 करोड़ 20 लाख के पार, साढ़े 14 लाख लोगों की मौत ◾सिंधु बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी, आगे की रणनीति के लिए आज फिर होगी बैठक ◾छत्तीसगढ़ में बारूदी सुरंग में विस्फोट, CRFP का अधिकारी शहीद, सात जवान घायल ◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾भाजपा नेता अनुराग ठाकुर बोले- J&K के लोग मतपत्र की राजनीति में विश्वास करते हैं, गोली की राजनीति में नहीं◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

भाजपा नेता ने जम्मू कश्मीर पर पाकिस्तान के साथ वार्ता का विरोध किया, पीएजीडी पर साधा निशाना

भाजपा के वरिष्ठ नेता अश्विनी कुमार चरुंगू ने पाकिस्तान के साथ जम्मू कश्मीर को लेकर वार्ता का विरोध करते हुए रविवार को कहा कि ‘‘स्थापित सिद्धांत में आतंकवाद और वार्ता साथ-साथ नहीं चलेगी।’’ 

भाजपा नेता ने गुपकर घोषणापत्र गठबंधन (पीएजीडी) पर भी निशाना साधा और कहा कि ‘‘भाजपा, केंद्र सरकार या केंद्र शासित प्रदेश प्रशासन के विरोध के नाम पर लोगों की राय को छलने की अब शायद ही कोई संभावना है।’’ 

पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती और हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के पाकिस्तान के साथ बातचीत की वकालत करने वाले बयानों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भाजपा नेता ने कहा कि ‘‘भारत के स्थाापित राष्ट्रीय, कूटनीतिक और राजनीतिक सिद्धांत में आतंक और वार्ता साथ-साथ नहीं चलेंगे जिसका आधार उन समझौतों में है जिस पर हस्ताक्षर भारत और पाकिस्तान द्वारा एक दशक से अधिक समय पहले किया गया था।’’ 

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने भारत को आश्वासन दिया था कि वह अपने नियंत्रण वाली जमीन का इस्तेमाल भारत के खिलाफ आतंकवाद के लिए नहीं होने देगा लेकिन वह आज तक अपने वादे को निभाने में विफल रहा है। 

पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने शनिवार को कहा था कि भारत एवं पाकिस्तान अपनी राजनीतिक मजबूरियों से ऊपर उठें और संवाद की पहल करें। उन्होंने कहा था कि नियंत्रण रेखा (एलओसी) के दोनों ओर बढ़ रही हताहतों की संख्या को देखना दुखद है। 

वहीं मीरवाइज उमर फारुक के नेतृत्व वाले हुर्रियत कॉन्फ्रेंस ने एक अलग बयान में कहा था कि कश्मीर मुद्दे को सुलझाने और नियंत्रण रेखा से लगे क्षेत्रों में बसे लोगों के ‘‘निरर्थक खून-खराबे’’ को रोकने के लिए भारत और पाकिस्तान को बातचीत करनी चाहिए। 

पाकिस्तानी सेना ने शुक्रवार को नियंत्रण रेखा से लगे क्षेत्रों को निशाना बनाते हुए भारी गोलीबारी और गोलाबारी की जिसमें सुरक्षा बलों के पांच जवान शहीद हो गए और छह नागरिकों की मौत हो गई। भारतीय सैनिकों की जवाबी कार्रवाई में आठ पाकिस्तानी सैनिक मारे गए और 12 अन्य घायल हो गए। साथ ही भारतीय सेना की कार्रवाई में पाकिस्तान में बुनियादी ढांचे को भी व्यापक नुकसान पहुंचा। 

भाजपा के राजनीतिक मामलों के विभाग के प्रभारी चरुंगू ने यहां एक बयान में कहा, ‘‘इन बयानों की वर्तमान घटनाओं के संदर्भ में कोई प्रासंगिकता नहीं है। अलगाववादी खेमे या कश्मीर की तथाकथित मुख्यधारा की राजनीति में रहने वालों और उनके शीर्ष नेताओं को यह जानने की ज़रूरत है कि पाकिस्तान द्वारा आतंकवाद के प्रति व्यवहार, भूमिका और समर्थन के कारण पाकिस्तान के बारे में वार्ता विमर्श पूरी तरह से निरर्थक हो गया है।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘जम्मू कश्मीर के संबंध में किसी भी प्रकार के ‘विवाद के निपटारे’ का कोई मामला नहीं है क्योंकि विलय पत्र, शिमला समझौते और जम्मू कश्मीर को लेकर संसद द्वारा 1994 में सर्वसम्मति से पारित संकल्प के अनुसार कश्मीर एक सुलझा हुआ मुद्दा है।’’