BREAKING NEWS

भारत दौरे से पहले डोनाल्ड ट्रम्प बोले- भारत के साथ अभी अमेरिका नहीं करेगा ट्रेड डील◾जम्मू-कश्मीर : पुलवामा में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, तीन आतंकियों को किया ढेर◾राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास की पहली बैठक आज◾केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह बोले - कश्मीरी पंडितों का पुनर्वास सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता◾पासवान ने केजरीवाल को साफ पानी मुहैया करवाने की याद दिलाई◾J&K में पंचायतों के उपचुनाव सुरक्षा कारणों से स्थगित किए गए : जम्मू कश्मीर CEO◾मारिया खुलासे को लेकर BJP ने विपक्ष पर बोला हमला ,पूछा - क्या भगवा आतंकवाद साजिश कांग्रेस व ISI की संयुक्त योजना थी ?◾कोरोना वायरस से प्रभावित वुहान से और भारतीयों को वापस लाने, दवाएं पहुंचाने के लिए C-17 विमान भेजेगा भारत◾INX मीडिया मामले में CBI को आरोपपत्र से कुछ दस्तावेज चिदंबरम, कार्ति को सौंपने के निर्देश ◾मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त राकेश मारिया का दावा : लश्कर की योजना मुंबई हमले को हिंदू आतंकवाद के तौर पर पेश करने की थी◾ट्रम्प यात्रा को लेकर कांग्रेस ने BJP पर साधा निशाना , कहा - गरीबी को दीवार के पीछे छिपाने का प्रयास कर रही है सरकार◾संजय हेगड़े , साधना रामचंद्रन और वजाहत हबीबुल्लाह जाएंगे शाहीन बाग, शुरू होगी मध्यस्थता की कार्यवाही◾झारखंड और दिल्ली विधानसभा चुनाव में हार के बाद चिंतित बीजेपी बदल सकती है रणनीति◾ट्रंप को साबरमती आश्रम के दौरे के समय महात्मा गांधी की आत्मकथा, चित्र और चरखा भेंट किये जाएंगे◾जामिया वीडियो वार : नए वीडियो से मामले में आया नया मोड़ ◾अमर सिंह ने अमिताभ बच्चन से मांगी माफी, आपत्त‍िजनक टिप्पणियों को लेकर जताया खेद ◾UP आम बजट को कांग्रेस ने बताया किसानों और युवाओं के साथ धोखा◾जामिया हिंसा मामले में पुलिस ने दायर की चार्जशीट, कुल 17 लोगों की हुई गिरफ्तारी◾उत्तर प्रदेश : योगी सरकार ने 5 लाख 12 हजार करोड़ का बजट किया पेश, जानें क्या रहा खास◾CAA-NRC दोनों अलग, किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं : उद्धव ठाकरे◾

ऑनलाइन दुष्प्रचार का मुकाबला करना मेरी प्राथमिकता : दिनेश्वर शर्मा

कश्मीर वार्ता के लिए केंद्र के विशेष प्रतिनिधि दिनेश्वर शर्मा ने आज कहा कि नयी भूमिका में उनका जोर घाटी के युवाओं को ऑनलाइन दुष्प्रचार की गिरफ्त में आने से रोकना होगा।  अपनी नयी भूमिका में पहली बार इस हफ्ते जम्मू कश्मीर जा रहे शर्मा ने कहा कि झूठी नारेबाजी और ऑनलाइन दुष्प्रचार का मुकाबला करना उनका शीर्ष एजेंडा हो ताकि युवाओं को अकारण हिंसा से दूर किया जा सके।  कश्मीर मामलों के जानकार 61 वर्षीय शर्मा ने यहां पीटीआई भाषा से कहा, आश्चर्य से सभी मुझसे पूछते हैं कि क्या मैं हुऱ्यित और अन्य अलगाववादी संगठनों से मिलना चाहता हूं या नहीं। मैं सभी से मिलने को तैयार हूं जैसा कि केंद्रीय गृह मंत्री (राजनाथ सिंह) ने घोषणा के दौरान स्पष्ट किया था। सर्वप्रथम ऐसी शंका उठती ही क्यों है?

उन्होंने कहा, मैं किसी ब्लिंकर (यह देखो और यह नहीं देखो) के साथ घाटी नहीं जा रहा। मैं हर उस आम आदमी से मिलने जा रहा हूं जिसकी वाकई कोई शिकायत है।  खुफिया ब्यूरो के प्रतिष्ठित निदेशक पद तक पहुंचे केरल संवर्ग के 1979 के बैच के आईपीएस अधिकारी शर्मा को जम्मू कश्मीर पर निरंतर वार्ता के लिए केंद्र का प्रतिनिधि नियुक्त किया गया है।  जब शर्मा से पूछा गया कि उनका जोर युवाओं पर क्यों है, तो उन्होंने कहा, व्यक्ति को यह समझने की जरुरत है कि युवा और विद्यार्थी हमारे भविष्य हैं। उन्हें अगले कुछ सालों में जम्मू कश्मीर को नयी रूचाइयों तक ले जाना है और यही वजह है कि मेरा प्रयास इस चरण में उनकी गलतफहमी या गलत धारणा को दूर करना है ताकि वे एकाग, दृष्टि से तरक्की करे।

उन्होंने कहा कि ऐसी खबरें हैं कि युवा कश्मीरी ऑनलाइन दुष्प्रचार से कट्टरपंथी होते जा रहे हैं।  उन्होंने कहा, व्यक्ति को उसका मुकाबला करने की जरुरत है और यह पूर्णकालिक कार्य है। हमें उनके सवालों का जवाब देना है और मैं आशा करता हूं कि मैं ऐसा कर पारूंगा।  बिहार से ताल्लुक रखने वाले शर्मा ने कहा कि उनका कश्मीर से भावनात्मक लगाव 1992 में घाटी में उनकी पहली क्षेत्रीय पोस्टिंग से जुड़ है।  उन्होंने कहा, तब से काफी कुछ बदल चुका है। मेरा जोर घाटी में शांति के बांधों का निर्माण करना होगा।  शर्मा ने प्रधानमंत्री नरेंद, मोदी द्वारा स्वतंत्रता दिवस पर अपने भाषण में दिये गये कथन का उल्लेख किया और कहा, मैं बस शांति का संदेश लेकर जा रहा है जैसा कि प्रधानमंत्री ने मुझपर सौंपा है। प्रधानमंत्री भी राष्ट्र और राज्य के युवाओं पर बल देते हैं।

जब उनसे यह सवाल किया गया कि कुछ राजनीतिक दल यह मांग करते हैं कि पाकिस्तान को भी कश्मीर मुद्दे का एक पक्ष बनाया जाना चाहिए, उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा, मेरा क्षेत्राधिकार अपने लोगों के लिए शांति सुनिश्चित करना है। इससे परे मुद्दे मेरे विषय से बाहर है। जब उनसे यह पूछा गया कि वह कल घाटी जायेंगे तब उन्होंने कहा, यह इसी हफ्ते बाद में होगा।  जब शर्मा से यह सवाल किया गया कि कैसे केंद्र के वार्ताकार के रुप में उनकी नियुक्ति ऐसे पिछले कदमों से भिन्न है, तो उन्होंने तपाक से कहा, मेरा काम तुलना करना नहीं है। मेरे हाथ में अपनी योज्ञता के हिसाब से करने के लिए काम है और मैं वही करुंगा। तुलना करना इतिहासकारों का काम है।