BREAKING NEWS

BBC की डॉक्यूमेंट्री पर बवाल जारी, अब मुंबई के TISS में भी विवाद◾Bihar News: पूर्व CM जीतन राम मांझी ने तेजस्वी यादव से की शराबबंदी कानून वापस लेने की मांग◾चीन पर फिर भड़का अमेरिका, कहा- LAC पर कोई हरकत करे तो मुंहतोड़ जवाब दो◾CM बसवराज बोम्मई ने कहा- अमित शाह कर्नाटक यात्रा विधानसभा चुनाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे ◾Rajasthan: PM नरेंद्र मोदी राजस्थान दौरे पर भीलवाड़ा में गुर्जर समाज को प्रभावित करने की करेंगे कोशिश ◾बागेश्वर बाबा से मिलने के बाद बोले आचार्य बालकृष्ण, कहा- ‘धीर हो धीरेंद्र हो और कृष्ण भी तुम हो' ◾मध्य प्रदेश के मुरैना में बड़ा हादसा, आपस में टकराकर क्रैश हुए लड़ाकू विमान सुखोई और मिराज ◾CM YOGI :इस्लाम, सिख, जैन धर्म को छोड़ सनातन को CM योगी ने कहा भारत का राष्ट्रीय धर्म, कांग्रेस ने उठाए सवाल ◾ भाई से मिलने जेल में गई 4 साल की मासूम के साथ हुआ भद्दा मजाक, गाल पर लगाई गई मुहर◾Bharat Jodo Yatra: मल्लिकार्जुन खरगे ने किया शाह से पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था का आग्रह ◾दिल्ली में एक बार फिर हुई कंझावला जैसी हैवानियत, बोनट पर फंसे शख्स को 350 मीटर तक घसीटा, मौके पर मौत◾ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज करेंगे NCC की वार्षिक रैली को संबोधित◾शनिदेव: इन तीन लोगों को नहीं करते हैं परेशान,ये हैं शनि देव की 3 सबसे प्यारी राशियां◾ पठान विवाद पर दिग्विजय सिंह का PM मोदी पर हमला, कहा- ‘तेंदुआ अपने पंजों के निशान नहीं बदलता’◾अडानी के डूबे 2.30 लाख करोड़ रुपये, अमीरों की लिस्ट में 7वें पायदान पर◾आज का राशिफल (28 जनवरी 2022)◾अगले साल बड़ी ताकत के रूप में उभर सकता है भारत : रिपोर्ट◾G-20 के मेहमान 12 फरवरी को ताजमहल, आगरा किला और एत्माद्दौला के मकबरे का करेंगे दीदार◾सिसोदिया ने लिखा DU के कुलपति को पत्र- अस्थाई गेस्ट शिक्षकों को स्थायी करने की मांग की◾Tripura Elections: माकपा-तृणमूल को झटका, मोबोशर अली और सुबल भौमिक BJP में हुए शामिल ◾

कांग्रेस सांसद ने कहा- Jammu and Kashmir में कानून व्यवस्था की स्थिति काफी चिंताजनक है

लोकसभा में केंद्रशासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के बजट पर अलग से चर्चा कराने पर आपत्ति जताते हुए कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने आरोप लगाया कि जम्मू कश्मीर में कानून व्यवस्था की स्थिति चिंताजनक है और केंद्र शासित प्रदेश की माली स्थिति भी ठीक नहीं है।

2022-23 के बजट और वित्त वर्ष 2021-22 के लिए अनुदान

सदन में केंद्रशाासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के लिए वित्त वर्ष 2022-23 के बजट और वित्त वर्ष 2021-22 के लिए अनुदान की अनुपूरक मांगों पर चर्चा की शुरुआत करते हुए तिवारी ने कहा कि अन्य केंद्रशासित प्रदेश हैं, लेकिन जम्मू कश्मीर के बजट पर इस सदन में अलग से चर्चा क्यों हो रही है।उन्होंने कहा कि अगर सरकार यह परंपरा डाल रही है तो चंडीगढ़, लक्षद्वीप और दमन दीव आदि केंद्रशासित प्रदेशों के बजट पर भी चर्चा होनी चाहिए।उन्होंने कहा कि अगस्त 2019 में जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को समाप्त किये जाने के बाद भी वहां कानून व्यवस्था की स्थिति चिंताजनक है और 2019 से ज्यादा संवेदनशील है।उन्होंने कहा कि सीमावर्ती राज्य होने से इसका असर राज्य की अर्थव्यवस्था, समाज पर सीधा पड़ता है।

अनुच्छेद 370 का प्रावधान 

जानकारी के मुताबिक, तिवारी ने कहा कि केंद्र सरकार ने सरकार ने अगस्त 2019 में तर्क दिये थे कि अनुच्छेद 370 के प्रावधान समाप्त करने और दो केंद्रशासित प्रदेशों जम्मू कश्मीर तथा लद्दाख में बांटने से भारत में जम्मू कश्मीर के एकीकरण को मजबूत किया जा सकेगा और राज्य के विकास को तेज किया जा सकेगा।उन्होंने कहा कि एक संगठन के आंकड़ों के अनुसार, अगस्त 2019 में अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को समाप्त करने के बाद पहले चार महीने में ही राज्य को बहुत बड़ा माली नुकसान हुआ है। तिवारी ने कहा कि पिछले तीन साल में जम्मू कश्मीर बहुत कठिन स्थिति से गुजरा है जहां कई महीने तक इंटरनेट बंद रहा और बेरोजगारी की दर बढ़ गयी।

सिख अल्पसंख्यकों को प्रतिनिधित्व के लिए आरक्षण मिलेगा?

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने कहा कि जिस उद्देश्य को लेकर सरकार अगस्त 2019 में चली थी, वह पूरा होता नहीं दिख रहा है।तिवारी दावा किया कि जम्मू कश्मीर में 73 प्रतिशत पैसा प्रशासनिक कार्यों पर खर्च किया जा रहा है जिससे वहां कानून व्यवस्था की स्थिति का पता लगाया जा सकता है।उन्होंने सरकार से यह भी पूछा कि जब जम्मू कश्मीर विधानसभा बनेगी तो क्या उसमें सिख अल्पसंख्यकों को प्रतिनिधित्व के लिए आरक्षण मिलेगा?तिवारी ने केंद्रशासित प्रदेश में उद्योगों की स्थिति चिंताजनक बताते हुए कहा कि कश्मीर में उद्योग तो है नहीं। उन्होंने कहा कि जम्मू के तीन जिलों में 12,997 औद्योगिक इकाइयां थीं जिनमें 5,890 काम कर रही हैं, बाकी बंद हो चुकी हैं।