BREAKING NEWS

FATF ने पाक को ‘ग्रे सूची’ में कायम रखा, कार्रवाई की चेतावनी दी ◾दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल को कोर्ट ने सुनाई 6 महीने की सजा, मिली जमानत◾महेंद्रगढ़ रैली में राहुल का प्रधानमंत्री पर वार, बोले-मोदी को नहीं है अर्थव्यवस्था की कोई समझ◾मोदी को डर, 'घेराबंदी' हटने पर कश्मीर में होगा खूनखराबा : इमरान खान◾हिसार में बोले PM मोदी-कांग्रेस ने हरियाणा विधानसभा चुनाव में पहले ही मान ली है हार◾लखनऊ में हिंदू महासभा के पूर्व नेता की कमलेश तिवारी की गोली मारकर हत्या◾महाराष्ट्र : शाह ने कांग्रेस पर साधा निशाना, पूछा-70 साल के शासन में जनजातीय समुदाय के लिए क्या किया?◾INX मीडिया मामले में CBI ने पी चिदंबरम के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया◾गोहाना रैली में PM मोदी का कांग्रेस पर वार, बोले-सर्जिकल स्ट्राइक की बात करते ही बढ़ जाता है पेट दर्द◾जयाप्रदा का आजम खान पर तंज, बोलीं- उन्हें औरत के आंसुओं की सजा मिल रही है◾दिल्ली की वायु गुणवत्ता बहुत खराब श्रेणी में, सप्ताहांत तक भारी गिरावट की उम्मीद ◾PMC बैंक: सुप्रीम कोर्ट का सुनवाई से इनकार, कहा- खटखटा सकते हैं हाई कोर्ट का दरवाजा◾CJI गोगोई ने केंद्र से की जस्टिस बोबडे को अगला प्रधान न्यायाधीश बनाने की सिफारिश◾हरियाणा विधानसभा चुनाव : कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का महेंद्रगढ़ दौरा रद्द, राहुल करेंगे रैली को संबोधित◾IMF की ताजा रिपोर्ट पर बोली वित्त मंत्री- भारत सबसे तेजी से विकसित होती अर्थव्यवस्थाओं में शामिल◾भाजपा की तरह कांग्रेस का भी बना हाईटेक कार्यालय, 2020 में होगी शिफ्टिंग ◾मध्य प्रदेश की सियासत में 'हेमा के गाल और चील-कौवे' की एंट्री◾सीतारमण का मनमोहन को जवाब- किसी खास अवधि में कब और क्या गलत हुआ इसे याद करना जरूरी◾कांग्रेस-राकांपा को महाराष्ट्र की जनता सबक देगी : नरेंद्र मोदी◾सोनिया गांधी बोली- कर्नाटक विधानसभा उपचुनाव से पहले नेता सामूहिक नेतृत्व में काम करें◾

जम्मू-कश्मीर

जम्मू-कश्मीर में BDC चुनाव का बहिष्कार करेगी कांग्रेस

कांग्रेस की जम्मू-कश्मीर इकाई ने अपने कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिए जाने के विरोध में ब्लॉक विकास परिषद (बीडीसी) चुनाव का बहिष्कार करने का फैसला किया है। राज्य कांग्रेस प्रमुख गुलाम अहमद मीर ने कहा कि राज्य प्रशासन का ‘‘उदासीन’’ रवैया और घाटी में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की हिरासत के विरोध में यह कदम उठाया गया है। 

जम्मू-कश्मीर में बीडीसी चुनाव 24 अक्टूबर को होने वाले हैं। केन्द्र सरकार के पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को निरस्त करने के बाद पहली बार यहां चुनाव हो रहे हैं। 

जम्मू कश्मीर हमेशा केंद्रशासित राज्य नहीं रहेगा, स्थिति सुधरने पर राज्य का दर्जा दिया जायेगा : अमित शाह

मीर ने यहां पत्रकारों से कहा, ‘‘कांग्रेस लोकतांत्रिक संस्थाओं को मजबूत करने में विश्वास रखती है और कभी किसी चुनाव से पीछे नहीं हटी। लेकिन आज, हम राज्य प्रशासन के उदासीन रवैये और घाटी में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को हिरासत में रखे जाने के कारण बीडीसी चुनाव ना लड़ने का निर्णय लेने को मजबूर हैं।’’ 

मीर ने प्रशासन पर पक्षपात करने का आरोप लगाते हुए कहा कि पीडीपी और नेकां भी इन्हीं कारणों से चुनाव में भाग नहीं ले रही है। उन्होंने कहा, ‘‘ यदि वे भारतीय जनता पार्टी की जीत सुनिश्चित करना चाहते हैं और उसे वाकओवर देना चाहते हैं तब उन्हें बगैर प्रमुख राजनीतिक पार्टियों की भागीदारी के चुनाव करा लेना चाहिए।’’ 

कांग्रेस नेता ने कहा कि एक ओर केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को नयाकेंद्र प्रशासित प्रदेश घोषित किया है और दूसरी ओर 73वां संशोधन किये बगैर बीडीसी चुनाव कराये जा रहे हैं। उन्होंने कहा,‘‘ चूंकि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख केंद्र शासित प्रदेश बन चुके हैं, ऐसे में सभी केंद्रीय कानून खुद ब खुद दोनों प्रदेशों में लागू हो गये हैं, इस तरह बगैर 73वां संशोधन किये बीडीसी चुनाव नहीं कराये जा सकते क्योंकि यह केंद्रीय कानून पर आधारित नहीं है।’’ 

उन्होंने कश्मीर घाटी की स्थिति को बदतर बताते हुए कहा कि हम दुकानों के बंद होने या नेताओं के नजरबंद होने से उतने चिंतित नहीं हैं, जितना कि अगली पीढ़ के भविष्य को लेकर जो एक खतरनाक मोड़ पर है। उन्होंने कहा कि विभिन्न स्तरों के सभी शिक्षण संस्थान पिछले 66 दिनों से बंद हैं तथा युवाओं का भविष्य अंधकारमय है। उन्होंने कहा कि पार्टी ने कश्मीर घाटी में अधिकतर कांग्रेस नेताओं पर जारी पाबंदियों के आलोक में बीडीसी चुनाव को लेकर सभी पहलुओं पर विस्तार से विचार-विमर्श किया है।

मीर ने कहा कि कांग्रेस की ओर से सरकार द्वारा एकतरफा घोषित पार्टी आधार पर बीडीसी चुनावों में भाग लेने की इच्छा के बाद भी सरकार की ओर से पूरा असहयोग किया गया लेकिन कांग्रेस पार्टी की ओर से चुनाव टालने की मांग पर विचार नहीं किया गया, इसलिए सर्वसम्मति से चुनावों के बहिष्कार करने का निर्णय लिया गया। गौरतलब है कि 24 अक्टूबर को होने वाले इस चुनाव के लिए नामांकन पत्र भरने का आज आखिरी दिन था।