BREAKING NEWS

डेंगू मरीजों से मिलने पहुंचे केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे पर PMCH में फेंकी गई स्याही, देखें VIDEO◾NSG के स्थापना दिवस समारोह में बोले अमित शाह-आतंकवाद के खिलाफ जारी है निर्णायक लड़ाई ◾महाराष्ट्र : BJP ने जारी किया संकल्प पत्र, 1 करोड़ नौकरी और राज्य को सूखा मुक्त बनाने का किया वादा◾PMC बैंक घोटाला : प्रदर्शन के बाद घर लौटे खाताधारक की हार्ट अटैक से मौत, बैंक में जमा थे 90 लाख◾अभिजीत बनर्जी को लेकर सिब्बल का PM मोदी पर कटाक्ष, कहा- काम पर लग जाइए, तस्वीरें कम खिंचवाइए◾भारत में बड़ी वारदात को अंजाम देने की साजिश, बालाकोट में 50 आतंकियों को दी जा रही है ट्रेनिंग◾प्रियंका ने अभिजीत बनर्जी को दी नोबेल की बधाई, बोलीं- आशा है न्याय योजना वास्तविकता बनेगी◾उत्तर प्रदेश में बेरोजगार हुए 25 हजार होमगार्ड, योगी सरकार ने खत्म की ड्यूटी◾FATF में अलग-थलग पड़ा पाकिस्तान, ‘डार्क ग्रे’ सूची में डाला जा सकता है नाम◾महाराष्ट्र चुनाव: उद्धव ठाकरे की रैली के लिए तोड़ी गई स्कूल की दीवार◾राफेल पर PM मोदी का राहुल को जवाब, कहा- वे चाहते थे नया विमान न आने पाए◾CM नीतीश कुमार ने पटना में भारी बारिश से हुये जलजमाव की उच्चस्तरीय समीक्षा की ◾मोबाइल वैन के जरिए प्याज बेचने की दिल्ली सरकार की योजना बेहद सफल रही : केजरीवाल ◾रविशंकर प्रसाद बोले- अफवाह फैलाने वाले संदेशों के स्रोत तक हो एजेंसियों की पहुंच◾भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी को मिला अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार, PM ने ट्वीट कर दी बधाई◾TOP 20 NEWS 14 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾ PM नरेंद्र मोदी ने नीदरलैंड के राजा-रानी से वार्ता की ◾हरियाणा विधानसभा चुनाव : PM मोदी बोले- विपक्ष में दम तो कहे कि 370 वापस लाएंगे◾हरियाणा: राहुल का PM पर वार, बोले- अडानी और अंबानी के लाउडस्पीकर हैं मोदी◾अयोध्या विवाद : मुस्लिम पक्षकारों का आरोप-हिन्दु पक्ष से नहीं सिर्फ हमसे ही किए जा रहे है सवाल◾

जम्मू-कश्मीर

जम्मू-कश्मीर के साथ संचार संपर्क बंद होने पर एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने चिंता जतायी

एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने कश्मीर घाटी के साथ संचार संपर्क बंद होने और इसके परिणामस्वरूप वहां के घटनाक्रम के बारे में उचित एवं निष्पक्ष तरीके से खबर देने की ‘‘मीडिया की स्वतंत्रता और क्षमता में कटौती’’ को लेकर शनिवार को चिंता जतायी। 

एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया की ओर से यह बयान केन्द्र सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर राज्य को विशेष दर्जा प्रदान करने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त करने और राज्य को दो केन्द्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर तथा लद्दाख में बांटने के कुछ दिन बाद आया है। 

गिल्ड ने कहा कि वहां गए कुछ पत्रकार घाटी से वापस आने के बाद अपनी खबरें लिख सकेंगे लेकिन यह पाबंदी उस स्थानीय मीडिया के लिए ‘‘पूर्ण और कठोर’’ है जो कि वास्तविकता को जमीनी स्तर पर पहले देखते और सुनते थे। बयान में कहा गया है कि सरकार को अच्छी तरह पता था कि अब इंटरनेट के बिना खबरें प्रकाशित करना असंभव है। गिल्ड ने कहा कि जम्मू-कश्मीर सहित पूरे देश की जनता के प्रति सरकार का यह कर्तव्य है कि वह प्रेस को स्वतंत्र तरीके से काम करने दे जो कि लेाकतंत्र का महत्वपूर्ण स्तंभ है। 

गिल्ड ने कहा कि वह कश्मीर घाटी के साथ संचार संपर्क को बंद रखे जाने से बहुत चिंतित है। गिल्ड ने सरकार से अनुरोध किया है कि वह मीडिया संचार संपर्क बहाल करने के लिए तुरंत कदम उठाए। उसने कहा कि मीडिया पारदर्शिता हमेशा से भारत की ताकत है और रहनी चाहिए, भय नहीं। गिल्ड ने इसके साथ ही उन सभी पत्रकारों की प्रशंसा की और उनके साथ एकजुटता जतायी जो अभूतपूर्व चुनौतियों के बावजूद वहां से रिपोर्टिंग कर रहे हैं।