BREAKING NEWS

एनसीबी-मुंबई के शीर्ष अधिकारी समीर वानखेड़े दिल्ली पहुंचे, कहा - कुछ काम से यहां आया हूँ◾18वें आसियान-भारत शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे पीएम मोदी, जानिए किन मुद्दों पर होगी चर्चा ◾ केजरीवाल अयोध्या में सरयू आरती में हुए शामिल, मंगलवार को रामलला का करेंगे दर्शन◾देश के किसानों को नहीं मिल रही MSP! कांग्रेस ने केंद्र को घेरते हुए कहा- सरकारी एजेंसी ‘एगमार्कनेट’ ने किया स्वीकार ◾IPL New Teams: लखनऊ और अहमदाबाद के रूप में आईपीएल को मिलीं दो नई टीमें, अगले साल से खेलेंगी◾जम्मू-कश्मीर: पुलवामा में CRPF जवानों के साथ रात गुजारेंगे शाह, स्थानीय लोगों को दिया अपना मोबाइल नंबर ◾ यूपी चुनाव में संयुक्त किसान मोर्चा भाजपा का विरोध करेगा: राकेश टिकैत◾पश्चिम बंगाल: 20 महीने के बाद खुलेंगे शैक्षणिक संस्थान, CM ममता ने जारी किया आदेश ◾कश्मीर घाटी में हमलों को जल्द रोकने के लिए नई सुरक्षा व्यवस्था◾नरेंद्र गिरि की जगह संभालेंगे महंत रवींद्र पुरी, निरंजनी अखाड़ा ने बनाया अध्यक्ष◾मलिक के आरोपों पर वानखेड़े और पत्नी क्रांति का पलटवार, खुद को बताया मुस्लिम मां और हिंदू पिता का बेटा◾क्रूज ड्रग्स केस: राउत बोले- महाराष्ट्र को जानबूझ कर किया जा रहा है बदनाम, अधिकारी होंगे बेनकाब◾कांग्रेस ने फेसबुक को बताया 'फेकबुक', कहा- यह एक शातिर शैतानी उपकरण जिसका BJP से है गठजोड़◾केजरीवाल सरकार के डेंगू रोकथाम अभियान के बावजूद नए मामलों में वृद्धि जारी, एक हफ्ते में 283 मरीज मिले ◾पाकिस्तान के खिलाफ हार के बाद शमी हुए ट्रोल, यूजर्स पर भड़के सहवाग◾कोविशील्ड और कोवैक्सिन के मास वैक्स के खिलाफ SC में याचिका खारिज, कहा- टीकाकरण पर न करें संदेह ◾अमित शाह ने विपक्ष पर जमकर साधा निशाना, कहा- PAK के बजाय घाटी के लोगों से बात करेगी सरकार ◾क्रूज ड्रग केस: क्या आर्यन खान को छोड़ने के लिए मांगे गए 25 करोड़, कमिश्नर ऑफिस पहुंचा 'स्वतंत्र गवाह'◾नवाब मलिक ने शेयर किया वानखेड़े का 'बर्थ सर्टिफिकेट', कहा- यहां से शुरू हुआ फर्जीवाड़ा ◾कोई भी नागरिक स्वास्थ्य सुविधा के अभाव में दम नहीं तोड़ेगा, इंतजार हुआ खत्म : सीएम योगी◾

जम्मू-कश्मीर में परिसीमन प्रक्रिया पूरी होने के बाद चुनाव की संभावना, सभी को हिस्सा लेना चाहिए: आजाद

कांग्रेस के कद्दावर नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद ने शनिवार को केंद्र शासित प्रदेश में विधानसभा चुनाव पर एक बड़ा बयान दिया। आजाद ने कहा कि जम्मू कश्मीर विधानसभा चुनाव जब भी हों, सभी को उसमें हिस्सा लेना चाहिए और कांग्रेस को इसकी तैयारी शुरू कर देनी चाहिए।

आजाद ने यहां अपने आवास के बाहर संवाददाताओं से संक्षिप्त बातचीत में केंद्र शासित प्रदेश में विधानसभा चुनाव की संभावना के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा कि फिलहाल परिसीमन की कवायद जारी है। जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री तीन दिवसीय दौरे पर शहर में हैं और उनके हवाई अड्डे पर पहुंचने पर समर्थकों ने मांग की कि मार्च में एक विरोध प्रदर्शन के दौरान उनका पुतला जलाने वाले कांग्रेस नेताओं को निष्कासित किया जाए।

पत्रकारों से बातचीत के दौरान जब आजाद से कहा गया कि भाजपा ने विधानसभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है, तो उन्होंने कहा कि कांग्रेस समेत सभी दलों को तैयारी करनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘सभी लोगों को चुनाव में हिस्सा लेना चाहिए।’’ केंद्र शासित प्रदेश में परिसीमन प्रक्रिया पूरी होने के बाद जम्मू कश्मीर विधानसभा चुनाव होने की संभावना है।

पीडीपी अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने घोषणा की थी कि वह तब तक चुनाव नहीं लड़ेंगी जब तक कि भारत और तत्कालीन राज्य जम्मू-कश्मीर, दोनों के संविधान जम्मू कश्मीर में लागू नहीं हो जाते। केंद्र ने पांच अगस्त, 2019 को जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को निरस्त कर दिया था और उसे दो केंद्र शासित प्रदेशों, जम्मू कश्मीर और लद्दाख में विभाजित कर दिया था।

महबूबा ने कहा था, ‘‘व्यक्तिगत रूप से, यह (संविधान का अनुच्छेद 370 और 35-ए को निरस्त करना) मेरे लिए बहुत भावनात्मक है। मैंने पहला चुनाव भारत और राज्य के संविधानों के तहत शपथ लेते हुए लड़ा था। मैंने दोनों झंडे अपने हाथों में लिये थे। जब तक दोनों संविधान एकसाथ (जम्मू-कश्मीर में लागू) नहीं होंगे, मैंने कहा है कि मैं व्यक्तिगत रूप से चुनाव नहीं लड़ूंगी।’’

पेगासस जासूसी विवाद पर आजाद ने कहा कि विपक्ष पहले ही इस मुद्दे को संसद में उठा चुका है और इस पर चर्चा की मांग कर रहा है। कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘मैं जम्मू के तीन दिवसीय दौरे पर हूं और जम्मू संभाग में हर एक के लिए उपलब्ध हूं, जिसमें मेरी अपनी पार्टी के कार्यकर्ता और अन्य लोग भी शामिल हैं जो मुझसे अपनी समस्याओं पर चर्चा करना चाहते हैं।’’

उन्होंने हाल ही में किश्तवाड़, कश्मीर, लद्दाख, हिमाचल प्रदेश और अन्य पहाड़ी इलाकों में बादल फटने से जानमाल के नुकसान पर दुख व्यक्त किया और उम्मीद जतायी कि सरकार पीड़ितों और उनके परिवारों की देखभाल करेगी। इससे पहले बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता आजाद की अगवानी के लिए जम्मू हवाईअड्डे के बाहर जमा हुए और उनके समर्थन में नारेबाजी की।

कांग्रेस नेता एवं जेएमसी पार्षद गौरव चोपड़ा ने कहा, ‘‘हम यहां उन सभी लोगों को हटाने की मांग करने के लिए इकट्ठे हुए हैं जिन्होंने आजाद के खिलाफ प्रदर्शन में हिस्सा लिया था और उनका पुतला फूंका था।’’ वह गत दो मार्च को यहां प्रेस क्लब के बाहर पूर्व महासचिव और जिला विकास परिषद (डीडीसी) के सदस्य मोहम्मद शाहनवाज चौधरी के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के एक समूह द्वारा किए गए विरोध प्रदर्शन की ओर इशारा कर रहे थे।

आजाद के खिलाफ उनकी ही पार्टी के सदस्यों द्वारा अपनी तरह का पहला विरोध प्रदर्शन 'जी-23' नेताओं द्वारा आजाद को राज्यसभा का उनका कार्यकाल समाप्त होने पर सम्मानित करने के लिए आयोजित एक रैली के कुछ दिनों बाद हुआ था। रैली को पार्टी नेतृत्व को एक संदेश देने के लिए शक्ति प्रदर्शन के तौर पर देखा गया था।

'जी-23' नेताओं के समूह ने कांग्रेस पार्टी के संगठन में बदलाव की मांग की थी। चोपड़ा ने गत मार्च में उसी दिन चौधरी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व किया था और कहा था कि ‘‘एक व्यक्ति जिसने हाल ही में पार्टी के आदेश के खिलाफ डीडीसी चुनाव लड़ा था, वह कांग्रेसी नहीं है और कांग्रेस कमजोर करने के लिए भाजपा और आरएसएस के निर्देशों पर काम कर रहा है।’’